नए कृषि कानूनों पर बातचीत के लिए किसानों को आमंत्रित करता हूं : कृषि मंत्री

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने नए कृषि कानूनों पर चर्चा के लिए सभी किसानों को आमंत्रित किया है। उन्होंने शुक्रवार को कहा कि कृषि क्षेत्र के विकास और किसानों के जीवन में खुशहाली लाने के लिए नए कानून की आवश्यकता थी और जो कानून सरकार ने लाए हैं उनसे किसानों
 | 
नए कृषि कानूनों पर बातचीत के लिए किसानों को आमंत्रित करता हूं : कृषि मंत्री

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने नए कृषि कानूनों पर चर्चा के लिए सभी किसानों को आमंत्रित किया है। उन्होंने शुक्रवार को कहा कि कृषि क्षेत्र के विकास और किसानों के जीवन में खुशहाली लाने के लिए नए कानून की आवश्यकता थी और जो कानून सरकार ने लाए हैं उनसे किसानों के जीवन में क्रांतिकारी बदलाव आएगा। केंद्रीय कृषि मंत्री ने किसानों की समस्याओं पर बातचीत के लिए किसान नेताओं को तीन दिसंबर को आमंत्रित किया है। कृषि मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि किसानों की समस्या पर बातचीत के लिए सरकार हमेशा तैयार है और किसान संगठनों के प्रतिनिधियों को दूसरे दौर की बातचीत के लिए तीन दिसंबर को आमंत्रित किया गया है।

इससे पहले तोमर ने एक ट्वीट में कहा, नए कानून बनाना समय की आवश्यकता थी, आने वाले कल में ये नए कृषि कानून, किसानों के जीवन स्तर में क्रांतिकारी बदलाव लाने वाले हैं। उन्होंने आगे कहा, नए कृषि कानूनों के प्रति भ्रम को दूर करने के लिए मैं सभी किसान भाइयों एवं बहनों को चर्चा के लिए आमंत्रित करता हूं।

यह भी पढ़े : कृषि मंत्री ने अगले दौर की वार्ता के लिए किसान नेताओं को भेजा आमंत्रण

किसानों का विरोध-प्रदर्शन

उधर, किसान संगठनों की अपील पर 26 नवंबर से पंजाब और हरियाणा के किसानों का विरोध-प्रदर्शन चल रहा है। विभिन्न संगठनों से जुड़े किसान नेता दिल्ली की सीमा पर डेरा जमाए हुए थे। उन्हें दिल्ली की सीमा में प्रवेश करने से पहले रोक दिया गया था।हालांकि, बाद में हरियाणा और पंजाब से पहुंचे किसानों को दिल्ली में प्रवेश की इजाजत दे दी गई।

इस बीच शुक्रवार को भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत की अगुवाई में मुजफ्फरपुर से भी किसान दिल्ली की तरफ रवाना हुए। कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के सचिव सुधांशु पांडेय की तरफ से 23 नवंबर को पंजाब के किसान नेताओं को लिखे एक पत्र के जरिए उन्हें केंद्रीय कृषि मंत्री से बातचीत के लिए तीन दिसंबर को सुबह 11 बजे नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन आने का आग्रह किया गया है।

बता दें कि इससे पहले 13 नवंबर, 2020 को नए कृषि कानून से संबंधित मसले को लेकर ही केंद्रीय कृषि मंत्री और रेलमंत्री पीयूष गोयल ने पंजाब के किसानों प्रतिनिधियों से बातचीत की थी और उस समय बातचीत आगे भी जारी रखने पर सहमति जताई गई थी। अधिकारी ने कहा कि किसानों की समस्याओं को लेकर सरकार हमेशा उनसे बातचीत के लिए तैयार है । (आईएएनएस)