2000 से अब तक 8% अमेज़न जंगल हो गया है नष्ट

मंगलवार को जारी एक अध्ययन के अनुसार, वनों की कटाई ने केवल 18 वर्षों में 8% अमेज़ॉन वर्षावनों का सफाया कर दिया है। ‘Amazon Geo-Referenced Socio-Environmental Information Network (आरएआईएसजी)’ के एक अध्ययन के अनुसार, 2000 और 2018 के बीच नष्ट हुई भूमि का आकार स्पेन के आकार जितना है। RAISG ने एक बयान में कहा,
 | 
2000 से अब तक 8% अमेज़न जंगल हो गया है नष्ट

मंगलवार को जारी एक अध्ययन के अनुसार, वनों की कटाई ने केवल 18 वर्षों में 8% अमेज़ॉन वर्षावनों का सफाया कर दिया है। ‘Amazon Geo-Referenced Socio-Environmental Information Network (आरएआईएसजी)’ के एक अध्ययन के अनुसार, 2000 और 2018 के बीच नष्ट हुई भूमि का आकार स्पेन के आकार जितना है।

RAISG ने एक बयान में कहा, “अमेज़न आठ साल पहले की तुलना में कहीं अधिक खतरा है।” 2012 में संगठन का अंतिम मानचित्र प्रकाशित किया गया था।

10 संगठनों के बीच सहयोग से पता चलता है कि वर्ष 2000 से 513,016 वर्ग किलोमीटर वर्षावन समाप्त हो गए हैं। रिपोर्ट के अनुसार, नवीनतम डेटा बदहाल तस्वीर दिखा रहा है। जबकि 2003 और 2010 के बीच वनों की कटाई की दर में गिरावट आई है, पिछले एक दशक में लॉगिंग, खेती, खनन और बुनियादी ढांचा परियोजनाओं ने अमेज़न को नकारात्मक रूप से प्रभावित किया है।

ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोल्सोनारो ने अमेज़न वर्षावन में विकास को प्रोत्साहित किया है और पर्यावरण कानूनों को लागू किया है। “2018 में अकेले, अमेज़न क्षेत्र में 31,269 वर्ग किलोमीटर जंगल नष्ट हो गए, 2003 के बाद से सबसे खराब वार्षिक वनों की कटाई हुई,” यह आरएआईएसजी अध्ययन कहता है। विश्व वन संस्थान, अनुसंधान और वकालत समूह जो वैश्विक स्तर पर जंगलों पर निगरानी करता है उनके अनुसार जंगलों का विनाश जैव-विविधता पर बड़ी मार है और तो तो और 8% कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन के लिए भी जिम्मेदार है।

यह भी पढ़ें: WHO: टीके को मिली हरी झंडी का मतलब यह नहीं की बीमारी खत्म!

क्योंकि जंगल कार्बन डाइऑक्साइड के लिए बड़े पैमाने स्पंज की तरह काम करता है तो, उनके नुकसान को उलटा करने से जलवायु परिवर्तन से लड़ने में एक बड़ी भूमिका होगी। आरएआईएसजी का यह अध्ययन पैरिस समझौते के पांचवीं वर्षगांठ से एक दिन पहले आया है, जिसमें 195 देशों ने उन उपायों पर सहमति व्यक्त की थी जो को CO2 उत्सर्जन के विश्व उत्पादन को सीमित करेंगे। मगर 2017 में डोनाल्ड ट्रम्प ने इस समझौते से अमेरिका का नाम वापस ले लिया था, जो कि विवादस्पद था।(VOA)