देश की 3 कंपनियों की दौलत केंद्र सरकार के बजट से ज्यादा

देश की तीन कंपनियों की दौलत केंद्र सरकार के बजट से ज्यादा है। भारत की तीन कंपनियों की बाजार पूंजी 32 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा है, जबकि वित्तवर्ष 2020-21 में केंद्र सरकार के खर्च का बजटीय अनुमान 30.42 लाख करोड़ रुपये है। मार्केट कैपिटलाइजेशन यानी बाजार पूंजी के मामले में रिलायंस इंडस्ट्रीज, टाटा कंसल्टेंसी
 | 
देश की 3 कंपनियों की दौलत केंद्र सरकार के बजट से ज्यादा

देश की तीन कंपनियों की दौलत केंद्र सरकार के बजट से ज्यादा है। भारत की तीन कंपनियों की बाजार पूंजी 32 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा है, जबकि वित्तवर्ष 2020-21 में केंद्र सरकार के खर्च का बजटीय अनुमान 30.42 लाख करोड़ रुपये है। मार्केट कैपिटलाइजेशन यानी बाजार पूंजी के मामले में रिलायंस इंडस्ट्रीज, टाटा कंसल्टेंसी यानी टीसीएस सर्विसेज और एचडीएफसी बैंक क्रमश: पहले, दूसरे और तीसरे पायदान पर हैं। रिलायंस इंडस्ट्रीज की बाजार पूंजी 12.28 लाख करोड़ रुपये है, जबकि टीसीएस की बाजार पूंजी 12.13 लाख करोड़ रुपये जबकि एचडीएफसी बैंक की बाजार पूंजी 8.07 लाख करोड़ रुपये है। अगर तीनों की बाजार पूंजी को मिला दें तो यह रकम 32 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा होती है जोकि भारत सरकार के बजट से ज्यादा है।

यह भी पढ़ें – भाजपा के टिकट पर जीत दर्ज करने वाले उम्मीदवारों की संपत्ति करोड़ों में !

देश की 3 कंपनियों की दौलत केंद्र सरकार के बजट से ज्यादा
भारत की तीन बड़ी कंपनियां जिनकी दौलत केंद्र सरकार के बजट से ज्यादा है।

अगर, कंपनी समूह की दौलत बात करें तो भारत का अग्रणी कंपनी समूह टाटा बाजार पूंजी में देश में पहले नंबर पर आ गया है जबकि दूसरे नंबर पर एचडीएफसी समूह और तीसरे नंबर पर रिलायंस है। टाटा कंपनी समूह की बाजार पूंजी करीब 17 लाख करोड़ रुपये है जबकि एचडीएफसी समूह की करीब 15 लाख करोड़ रुपये। केडिया एडवायजरी के डायरेक्टर अजय केडिया ने बताया कि टाटा समूह का प्रदर्शन पिछले साल से ही आकर्षक रहा है। समूह की बाजार पूंजी में बीते एक साल में करीब 42 फीसदी का इजाफा हुआ है।

उन्होंने कहा कि टाटा कंपनी समूह की 28 सूचीबद्ध कंपनियों में से 18 कंपनियों का प्रदर्शन बीते महीने में काफी आकर्षक रहा है और 2021 में टाटा के शेयर के भाव में आगे तेजी की संभावना बनी हुई है। (आईएएनएस)