Monday, May 17, 2021
Home देश पीएमईजीपी के तहत उत्पादन गतिविधियों से फल-फूल रहा कारगिल और लेह

पीएमईजीपी के तहत उत्पादन गतिविधियों से फल-फूल रहा कारगिल और लेह

कारगिल और लेह का शांत एवं अनूठा हिमालयी इलाका सरकार के प्रमुख प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (पीएमईजीपी) ( PMEGP ) के तहत बनाए गए स्व-टिकाऊ रोजगार के परिणामस्वरूप उत्पादन गतिविधियों से फल-फूल रहा है।


By : शशि भूषण

कारगिल और लेह का शांत एवं अनूठा हिमालयी इलाका सरकार के प्रमुख प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम ( PMEGP )  (पीएमईजीपी) के तहत बनाए गए स्व-टिकाऊ रोजगार के परिणामस्वरूप उत्पादन गतिविधियों से फल-फूल रहा है।

2017-18 के बाद से लगभग 1000 विभिन्न छोटी और मध्यम विनिर्माण इकाइयों ने स्थानीय युवाओं के लिए 8200 से अधिक रोजगार के अवसर पैदा किए हैं।

2017-18 से 2020 तक पीएमईजीपी योजना के लिए नोडल कार्यान्वयन एजेंसी खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) ने कारगिल में 802 परियोजनाएं और लेह क्षेत्र में 191 परियोजनाएं स्थापित करने के साथ ही कारगिल में 6781 नौकरियां और लेह में 1421 नौकरियां पैदा की हैं। केवीआईसी ने इन परियोजनाओं के लिए कारगिल में मार्जिन मनी के रूप में 26.67 करोड़ रुपये और इस अवधि के दौरान लेह क्षेत्र में 5.68 करोड़ रुपये संवितरित किए।

सीमेंट ब्लॉक से लेकर लोहे और स्टील के सामान, ऑटोमोबाइल रिपेयर वर्कशॉप, टेलरिंग यूनिट्स, वुडन फर्नीचर मैन्युफैक्च रिंग यूनिट्स, वुड कार्विग यूनिट्स, साइबर कैफे, ब्यूटी पार्लर और गोल्ड ज्वेलरी बनाने जैसी कुछ पहलें हैं, जो पीएमईजीपी के तहत समर्थित हैं। इनके जरिए स्थानीय लोगों को सम्मानजनक आजीविका कमाने का मौका मिला है।

यहां तक कि 2020-21 के पहले छह महीनों के दौरान, जब कोविड-19 महामारी के कारण लॉकडाउन लगाया गया था, केवीआईसी ने स्थानीय लोगों को कारगिल में 26 और विभिन्न क्षेत्रों में लेह में 24 नई परियोजनाएं स्थापित करने में मदद की, जिससे दोनों क्षेत्रों में 350 नौकरियां पैदा हुईं।

केवीआईसी के चेयरमैन विनय कुमार सक्सेना ने कारगिल और लेह में रोजगार के इन अवसरों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पर्यावरणीय दृष्टि से चुनौतीपूर्ण लेह-लद्दाख क्षेत्र के सर्वांगीण विकास के लिए जिम्मेदार बताया।
 

women working
स्थानीय महिलाओं को नियमित रूप से स्वरोजगार अपनाने के लिए प्रेरित किया है । ( आईएएनएस ) 

 

सक्सेना ने कहा, “कारगिल और लेह ने विभिन्न विनिर्माण गतिविधियों को बनाए रखने की अपार क्षमता दिखाई है। लेह और कारगिल देश के बाकी हिस्सों से लगभग छह महीने तक कट जाते हैं। हालांकि, ये उत्पादन इकाइयां पूरे वर्ष इन क्षेत्रों में वस्तुओं की स्थानीय उपलब्धता सुनिश्चित करेंगी।” 

यह भी पढ़ें : रविशंकर प्रसाद ने पूछा- जब एक मंत्री का टारगेट 100 करोड़ है तो बाकियों का क्या होगा ?


कारगिल और लेह में लाभार्थियों ने खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि उन्हें उत्पादन इकाइयों के शुरू होने के बाद नौकरियों की तलाश में दूसरे राज्यों में पलायन नहीं करना पड़ा। इससे न केवल उनके लिए स्वरोजगार पैदा हुआ, बल्कि इस क्षेत्र के कई अन्य बेरोजगार युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा हुए।

कारगिल के मिनजी गांव के रहने वाले मोहम्मद बाकिर, जिन्होंने 10 लाख रुपये के शुरुआती ऋण के साथ सीमेंट ब्लॉक उत्पादन इकाई शुरू की थी, अब 52 लाख रुपये का सालाना कारोबार कर रहे हैं। उन्होंने अपनी निर्माण इकाई में आठ व्यक्तियों को नियुक्त किया है।

इसी तरह, लोहा और इस्पात की वस्तुओं के उत्पादन में लगे इस्माइल नासिरी ने कारगिल के पोयेन गांव में 25 लाख के साथ अपनी इकाई शुरू की। उन्होंने अब 10 व्यक्तियों को नियुक्त किया है और 76 लाख रुपये का सालाना कारोबार कर रहे हैं।

इसने स्थानीय महिलाओं को नियमित रूप से स्वरोजगार अपनाने के लिए प्रेरित किया है, जो बाहर जाने और स्वतंत्र रूप से काम करने को लेकर अनिच्छुक थीं। केवीआईसी द्वारा समर्थित कई महिला उद्यमी सफलतापूर्वक इन जिलों में कटाई, सिलाई इकाइयां और ब्यूटी पार्लर संचालित कर रही हैं और मुनाफा कमा रही हैं।
(AK आईएएनएस ) 
 

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी