Sunday, May 16, 2021
Home ओपिनियन "स्त्री विमर्श" की एक झलक!

“स्त्री विमर्श” की एक झलक!

 

By : Swati Mishra

कोई भी समाज कितना सभ्य है ,इसका अनुमान उस समाज में रहने वाली स्त्रियों को स्तिथि से लगाया जा सकता है । क्यूंकि , “सभ्यता ढूंढती नहीं अशिष्टत , नम्रता है उसका स्वरूप”। 

स्त्री विमर्श , स्त्री मुक्ति , नारीवादी आंदोलन किसी भी माध्यम से विचार किया जाए तो इसका, एक ही लक्ष्य रहा, स्त्री के अस्तित्व व उसके मौलिक रूप को स्थापित करना और अपनी इसी जीवंतता की खोज में स्त्रियों द्वारा चलाए गए आंदोलनों की गहराई ने समाज को अंदर तक झकझोर कर रख दिया था। स्त्री विमर्श की लड़ाई किसी एक पुरुष से नहीं बल्कि पुरुष प्रधान समाज से थी, जहां ये धारणा थी कि स्त्रियां कृतदासी हैं एवं उनके अधीन रहने को लाचार है। इसी दोयम दर्जे की सोच के विरुद्ध स्त्री विमर्श खड़ा हुआ था। 

संघर्ष चाहे था बड़ा , धेर्य कभी टूटा नहीं । (सांकेतिक चित्र, Unsplash)

नारी चिंतन का विषय आधुनिक नहीं है परंतु यह प्राचीन काल से चला आ रहा है । वैदिक काल में स्त्रियों की स्तिथि बेहतर मालूम पड़ती है । अभिलेखों से पता चलता है की उस समय नारियों को पुरुषों के समान स्थान प्राप्त थे। धर्म कार्यों , राज कार्यों, दान दक्षिणा में नारियों को पूर्ण दायित्व था ।

प्राचीन पश्चिमी इतिहास , जहां प्लेटो – अरस्तू जैसे महान चिंतक हुआ करते थे , उन्होंने भी स्त्रियों को , कोई विशेष महत्व नहीं दिया था , लेकिन उसी काल के मार्क्स द्वारा नारी के प्रति दृष्टिकोण में बड़ा परिवर्तन देखने को मिला था । 

उन्नीसवीं सदी में चल रहे समाज – सुधार ने स्त्रियों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक बनाया। परन्तु नारी की आवाज़ को कुचल डालने को तत्पर इस समाज ने उसे “Feminist” , ” नारीवादी” का दर्ज़ा दे डाला । “Feminism”  शब्द 1880 के दशक फ्रांस में उभरा । आज के संदर्भ में , नारी के अधिकार , उसके विषय पर बात करना , हक के लिए आवाज़ उठाना ही ” Feminism” है अर्थात ‘नारीवाद’ है । 

स्वतंत्रता पूर्व 1918 में मिले मताधिकार के अधिकार ने उन्हें राष्ट्र पटल पर खड़ा कर दिया था , जिससे उनके आंदोलन को मजबूती मिली थी। परंतु नारीवादी संघर्ष की लड़ाई जितनी लंबी थी ,उतनी ही पीड़ादायक ! सावित्री बाई फुले , रमाबाई आदि स्त्रियों को अपने आंदोलन को राष्ट्रवादी आंदोलन के बीच से अपना स्वरुप तलाशना पड़ा था। उनके संघर्ष की लड़ाई भले ही कितनी लंबी रही हो , परंतु उनका धेर्य और संयम ही था , जिसकी जीत आज हर नारी वर्ग महसूस कर सकती है ।

स्त्री विमर्श सदैव पुरुषसत्तात्मक समाज की अन्यायपूर्ण व्यवस्था के विरोध में खड़ा हुआ था । समय के साथ – साथ पुरुषों का पुरुषार्थ स्वार्थ का प्रतिरूप बनता चला गया , जिसने समाज में स्त्री संबंधी कई रूढ़िवादी परंपराएं धरातल पर ला खड़ी की थी , जिनमें “सती प्रथा” , शव परीक्षा आदि जेसी क्रूर परंपराएं सम्मिलित है । लेकिन क्रूरता अपनी चरम सीमा पर तब पहुंची जब , खुद को सती कर चुकीं राजस्थान की “रूपकुंवर सती” को देवी का स्थान प्रदान किया गया। 

आज नारी विमर्श , एक राष्ट्र , धर्म जाति भर का आंदोलन नहीं है । बीसवीं सदी में इसने एक नया रूप धारण किया, “Liberal femenism” ये कहता है कि नारी भार ढोने में उन्निश हो सकती है , परंतु बौद्धिक और नैतिक क्षमता एक है। 

यह भी पढ़े :-  राष्ट्र निर्माण के लिए बेटियों को सशक्त बनाना होगा

एक बात और जानने योग्य है की, पुरुषप्रधान समाज में सभी की मानसिकता एक समान नहीं थी । स्त्री के साथ होने वाले अन्यायों के खिलाफ आवाज उठाने की हिम्मत स्त्रियों ने तो दिखाई ही थी लेकिन कुछ स्तिथि में पुरषों द्वारा भी प्रयास किए गए थे जिनमे ” राजा राम मोहन राय” , ” इश्वरचंद्र विद्यासागर ” , “दया नंद सरस्वती” जी का नाम आज भी सम्मान पूर्वक याद किया जाता है ।

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी