Tuesday, May 18, 2021
Home राजनीति दिल्ली कोरोना से ठप, केजरीवाल विज्ञापन में मस्त!

दिल्ली कोरोना से ठप, केजरीवाल विज्ञापन में मस्त!

एक आरटीआई से से यह ज्ञात हुआ कि दिल्ली सरकार ने केवल तीन महीने में यानि जनवरी से मार्च के बीच कई माध्यमों पर विज्ञापनों पर 150 करोड़ रुपए खर्च किए।

दिल्ली में कोरोना महामारी दिन ब दिन विकराल रूप ले रही है, जिस वजह से दिल्ली सरकार लॉकडाउन पर लॉकडाउन लगाने के लिए त्रस्त है। किन्तु इन सबके बीच भी दिल्ली की झुझारू सरकार विज्ञापनों में कोई कमी नहीं रहने देना चाहती है। एक आरटीआई से यह ज्ञात हुआ कि दिल्ली सरकार ने केवल तीन महीने में यानि जनवरी से मार्च के बीच कई माध्यमों से विज्ञापनों पर 150 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

ट्विटर यूजर अलोक भट्ट ने ट्विटर पर आरटीआई की फोटो साझा करते हुए इस बात का सबूत भी दिया है। साथ ही इस आरटीआई का जवाब 8 अप्रेल 2021 को दिया गया था, जिसमे यह साफ-साफ दिख रहा है कि दिल्ली सरकार ने मात्र तीन महीने में विज्ञापनों पर 150 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

पीएम केयर फंड में भी घपला…

एक तरफ जहाँ यह आरटीआई सामने आई है दूसरी तरफ केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने 20 अप्रेल को दिल्ली उच्च न्यायालय को यह जानकारी दी थी कि केंद्र सरकार ने दिसम्बर 2020 में ही दिल्ली की आम आदमी सरकार को आठ ऑक्सीजन प्लांट लगाने के लिए फंड आवंटित किए थे। किन्तु, हैरानी की बात यह है कि दिल्ली में अभी 1 ही ऑक्सीजन प्लांट स्थापित हो पाया है। अब सवाल यह है कि बाकि सात के पैसों का क्या हुआ? क्या उन्हें विज्ञापन पर खर्च कर दिया गया? क्योंकि आरटीआई से कुछ ऐसा ही ज्ञात हो रहा है। और साल दर साल आम आदमी पार्टी पानी की तरह विज्ञापनों पर पैसा बहा रही है और यह बढ़ता ही जा रहा है। यहाँ तक कि विज्ञापनों के मामले पर भारत की सर्वोच्च न्यायलय भी दिल्ली सरकार को फटकार लगा चुकी है। मगर किसी बात का असर होता हुआ दिख नहीं रहा है।

यह भी पढ़ें: वेतन के लिए MCD कर रही है त्राहिमाम, केजरीवाल हैं उड़ा रहे विज्ञापनों के जाम!

दूसरों से विनती…

जब केरीवाल का प्रोटोकॉल तोड़ना और ऑक्सीजन प्लांट न लगने पर आम आदमी पार्टी को घेरा जा रहा था उस समय केजरीवाल दूसरे राज्यों से ऑक्सीजन की मांग कर रहे थे।

सवाल यह की यदि सभी राज्यों को दूसरी कोरोना लहर की आशंका थी तो ऑक्सीजन प्लांट को समय पर क्यों नहीं लगाया गया? क्या दिल्ली की झुझारू सरकार ने केवल विज्ञापनों पर ही अपना बखान करने का बीड़ा उठाया है या न्यायालयों से डांट खाने की आदत बना लिया है, क्योंकि जिन ऑक्सीजन प्लांट को जनवरी तक लग जाना चाहिए था उसे इतना समय क्यों लग रहा है? यदि विज्ञापनों के लिए पैसा है तो कर्मचारियों का वेतन और ऑक्सीजन की किल्लत से दील्ली क्यों झूझ रही है?(SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी