Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

भारतीय लोकतंत्र के वह दहशत भरे 45 मिनट जो आज भी स्तब्ध कर देते हैं

तारीख थी 13 दिसंबर 2001, जहाँ 45 मिनट के तांडव ने भारत को अंदर से झकझोर दिया। उस दिन भारतीय संसद भवन ने लोकतंत्र के सबसे खौफनाक हमले को सहा।

भारतीय संसद भवन। (Wikimedia Commons)

देश में नए संसद भवन (Indian Parliament) की आधारशिला रखी जा चुकी है। कहा जा रहा है कि यह आधुनिक भवन 2022 तक बन कर तैयार हो जाएगा। यह नया भवन पुराने भवन के समीप ही बनाया जा रहा है। उस पुराने संसद भवन के समीप जिसने भारतीय लोकतंत्र के सबसे खौफनाक हमले को सहा।

तारीख थी 13 दिसंबर 2001, जहाँ 45 मिनट के तांडव ने भारत को अंदर से झकझोर दिया था। मगर भारतीय लोकतंत्र इतना भी कमज़ोर नहीं कि लाल बत्ती वाली सफेद एम्बेस्डर से उतरे पांच आतंकवादियों के सामने घुटने टेक लेता।


संसद भवन (Parliament) में सभी नेतागण मौजूद थे। पक्ष और विपक्ष के बीच बहस छिड़ गई। संसद की कार्यवाही को 40 मिनट के लिए स्थगित कर दिया गया। तभी कुछ देर बाद गोलियों की अंधाधुन बौछार से संसद भवन की दीवारों में उठी गूंज ने भवन के भीतर मौजूद सांसदों और नेताओं को चौकस कर दिया। हमले के समय संसद में लालकृष्ण आडवाणी के साथ और भी कई दिग्गज नेता एवं पत्रकार उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें – भारत ने कहा, पाकिस्तान के आतंकवाद के खिलाफ हर संभव कार्रवाई करेंगे

AK47 राइफल और ग्रेनेड के साथ गेट नंबर 12 से दाखिल हुए आतंकवादियों और भवन के सुरक्षाकर्मियों के बीच फायरिंग शुरू हो गई थी। सी.आर.पी.एफ (CRPF) और दिल्ली पुलिस के जवानों ने भवन को चारों तरफ से घेर लिया था। भवन के भीतर जाने वाले रास्ते पर लगे दरवाज़े को बंद कर दिया गया। इस फायरिंग में परिसर के सुरक्षाकर्मियों सहित कुल 10 लोग मारे गए। जिसमें एक पत्रकार भी शामिल है। मगर इन सब के बलिदान और संसद भवन (Parliament) में तैनात जवानों के सामर्थ्य ने भवन पर कब्ज़ा करने की मंशा लिए पकिस्तान से आए लश्कर-ए-तैयबा (Lashkar-e-Taiba) और जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) के उन पाँचों आतंकवादियों को ढेर कर दिया था।

आपको बता दें कि बाद में जांच करने पर हमलावरों की एम्बेस्डर गाड़ी से 30 किलो RDX बरामद हुआ था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद भवन पर हुए हमले में शहीद हुए वीरों को श्रद्धांजलि अर्पित की। (PIB)

अगर उन मानवता के दुशमनों के इरादे कामयाब हो जाते तो आज 13 दिसंबर 2001 की तस्वीर इतनी भयानक होती जिसका अनुमान लगाना, आज भी किसी भारतीय को पल भर के लिए स्तब्ध रख सकता है।

पाकिस्तानी लिंक

दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने संसद भवन पर हुए हमले (Indian Parliament attack) का मार्गदर्शक पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) एजेंसी को बताया था। घटना में दोषी ठहराए गए अफजल गुरु (Afzal Guru) ने भी पकिस्तान लिंक की बात को हरी झंडी दी थी। अफजल गुरु (Afzal Guru) को 9 फरवरी 2013 की सुबह फांसी के तख्ते पर लटका दिया गया था।

भारत में यह हमला दिसम्बर के महीने में हुआ था। गौरतलब है कि नवंबर 2001 के दौरान श्रीनगर, जम्मू और कश्मीर की विधानसभा पर भी इसी तरह के हमले को अंजाम दिया गया था। इस हमले में भी जैश-ए-मोहम्मद का ही हाथ था।

अंग्रेज़ी में खबर पढ़ने के लिए – Here’s How Underworld Still Operates From Behind The Bars

आतंकवादियों के लिए धर्म और जगह मात्र एक बहाना है। इंसानी रूह को अंदर से तड़पा कर उन पर अपना सिक्का जमाने की उनकी इच्छा भला कहाँ किसी से छिपी बैठी है।

Popular

रिपोर्ट के अनुसार, एप्पल छोटी और लंबी दूरी के वायरलेस चाजिर्ंग उपकरणों पर काम कर रहा है। (Pixabay)

एप्पल (Apple) कथित तौर पर एक ऐसे चार्जर पर काम कर रहा है जो एक साथ कई डिवाइस, एक आईफोन, एयरपोड्स और वॉच को पावर दे सकता है।

मैकरियूमर्स की रिपोर्ट के अनुसार, 'पावर ऑन' न्यूजलेटर के लेटेस्ट एडीशन में मार्क गुरमन ने कंपनी की भविष्य की वायरलेस चाजिर्ंग तकनीक के बारे में कुछ दिलचस्प जानकारी का खुलासा किया।

उन्होंने लिखा, "मेरा यह भी मानना है कि एप्पल (Apple) छोटी और लंबी दूरी के वायरलेस चाजिर्ंग उपकरणों पर काम कर रहा है और यह एक ऐसे भविष्य की कल्पना करता है जहां एप्पल के सभी प्रमुख उपकरण एक-दूसरे को चार्ज कर सकते हैं। कल्पना कीजिए कि एक आईपैड एक आईफोन चार्ज कर रहा है और फिर वह आईफोन एयरपोड्स या एक एप्पल घड़ी चार्ज कर रहा है।"

apple , wireless charger, Iphone, iPod Chargers एप्पल कथित तौर पर एक ऐसे चार्जर पर काम कर रहा है जो एक साथ कई डिवाइस को पावर दे सकता है। [Wikimedia Commons]

Keep Reading Show less

झारखंड के नोआमुंडी में खदान की कमान महिलाओं के हाथ में सौंपेगी टाटा स्टील कंपनी। [Wikimedia Commons]

टाटा स्टील (Tata Steel) कंपनी झारखंड में लौह अयस्क की एक खदान की कमान पूरी तरह महिलाओं के हाथ में होगी। फावड़ा से लेकर ड्रिलिंग तक और डंपर चलाने से लेकर डोजर-शॉवेल जैसी हेवी मशीनों का संचालन कुशल महिला कामगारों के द्वारा किया जाएगा। नये साल यानी 2022 में पश्चिम सिंहभूम जिले की नोआमुंडी आयरन ओर माइन्स को पूरी तरह महिलाओं के हाथ में सौंपने की तैयारी पूरी कर ली गयी है। ऐसा प्रयोग देश में पहली बार हो रहा है।

टाटा स्टील (Tata Steel) के आयरन ओर एंड क्वेरीज डिविजन के महाप्रबंधक ए. के. भटनागर ने पत्रकारों को बताया कि नोआमुंडी स्थित कंपनी की आयरन ओर माइन्स में सभी शिफ्टों के लिए 30 सदस्यों वाली महिलाओं की टीम की तैनाती की जा रही है। खदान को स्वतंत्र रूप से महिलाओं के हाथों संचालित करने का यह टास्क कंपनी ने महिला सशक्तीकरण की परियोजना तेजस्विनी-2.0 के तहत लिया था और अब इसे सफलतापूर्वक लागू करने की तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं।

Keep Reading Show less

इस साल देश में हिरासत में कुल 151 मौतें हुई हैं। (सांकेतिक चित्र, File Photo )

इस साल देश में हिरासत(police custody)में कुल 151 मौतें हुई हैं। केंद्र ने लोकसभा(Loksabha) में मंगलवार को यह जानकारी दी। बीजेपी सांसद वरुण गांधी के सवाल का जवाब देते हुए गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय(Nityanand Rai)ने कहा कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) के मुताबिक 15 नवंबर तक पुलिस हिरासत में मौत के 151 मामले दर्ज किए गए हैं।

महाराष्ट्र में पुलिस हिरासत(police custody) में सबसे अधिक (26) मौतें हुईं हैं, उसके बाद गुजरात (21) और बिहार (18) का स्थान रहा है। उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में पुलिस हिरासत में 11-11 लोगों की मौत की खबर है।

Keep reading... Show less