Sunday, May 9, 2021
Home देश शिक्षा मदरसों में ऐतिहासिक युग की शुरूआत, छात्र करेंगे आधुनिक शिक्षा प्राप्त

मदरसों में ऐतिहासिक युग की शुरूआत, छात्र करेंगे आधुनिक शिक्षा प्राप्त

जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने प्रख्यात धार्मिक विद्वानों और मदरसा अधिकारियों के साथ मिलकर एक 'जमीयत ओपन स्कूल' की स्थापना की है।


मदरसों में एक नया युग शुरू होने वाला है, अब माध्यमिक स्तर पर मदरसों के छात्रों को आधुनिक शिक्षा से लैस किया जाएगा। इसके लिए, जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने प्रख्यात धार्मिक विद्वानों और मदरसा अधिकारियों के साथ मिलकर एक ‘जमीयत ओपन स्कूल’ की स्थापना की है। छात्रों को एनआईओएस के तहत दसवीं कक्षा की शिक्षा दी जाएगी। इसके तहत, अगले पांच वर्षों में, 50,000 छात्र दसवीं पास करेंगे। इस संबंध में, जमीयत उलेमा-ए-हिंद के मुख्यालय में आज एक परिचयात्मक और प्रशिक्षण बैठक आयोजित की गई, जिसमें पश्चिमी यूपी और दिल्ली के 100 से अधिक मदरसों के प्रिंसिपल शामिल हुए।

इस कार्यक्रम में प्रोग्राम के निदेशक और जमीअत उलमा ए हिन्द के महासचिव मौलाना महमूद मदनी के अलावा कई शिक्षाविद भी शामिल थे। इस ऐतिहासिक अवसर पर, मौलाना महमूद मदनी ने अपने भाषण में कहा कि, “हमारे बुजुर्गों ने सरकारी मदरसा बोर्ड का विरोध किया था, समय ने साबित कर दिया है कि उन्होंने जो चिंताएं व्यक्त की थीं, वे एक एक करके सही साबित हो रही हैं।”

मौलाना मदनी ने इस सम्बन्ध में असम सरकार के हालिया रवैये का उदाहरण दिया। उन्होंने कहा कि, ” हमने आज आधुनिक शिक्षा के लिए अपना रास्ता चुना है, यह हमारी आवश्यकता को भी पूरा कर रहा है और मदरसों की दिनचर्या में मामूली सा हस्तक्षेप भी नहीं है। दुनिया की बदलती परिस्थितियों मे हमें एक शिक्षक के साथ एक अच्छे उपदेशक की आवश्यकता है।” “हर साल, हजारों युवा विभिन्न शिक्षा केन्द्रों से सफल होते हैं, जहां वे पारंपरिक इस्लामी विज्ञानों की गहरी समझ भी हासिल करते हैं।”

यह भी पढ़ें: मंदिर में पहनावे पर आग्रह करना, मतलब अभिव्यक्ति की आज़ादी को ठेस पहुँचाना है!

मौलाना मदनी ने मदरसा अधिकारियों का ध्यान आकर्षित किया कि यदि आप ऐसा करने के लिए ²ढ़ हैं, तो आशा है उसका नतीजा अच्छा होगा। उन्होंने कहा कि, “आधुनिक शिक्षा लंबे समय से मदरसों में चल रही है। कई मदरसों में प्राथमिक विद्यालय की व्यवस्था है।” “जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने सत्तर के दशक में इस संबंध में एक प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। आधुनिक शिक्षा की संस्था को साथ लेकर चलना चाहिए। मदरसों में भी यह लागू किया गया और कई मदरसों में यह व्यवस्था अच्छी तरह से चल रही है।”

इस अवसर पर, एनआईओएस के सहायक निदेशक डॉ शोएब रजा खान ने अपने संबोधन में जमीयत उलेमा-ए-हिंद और अरबाब ए मदारिस की इस संयुक्त पहल को एक पथ-प्रदर्शक करार दिया और कहा कि, “एनआईओएस इसमें हर संभव सहयोग देने के लिए तैयार है।” (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,640FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी