Tuesday, May 18, 2021
Home दुनिया आईएसएस शोधकर्ताओं द्वारा खोजे गए बैक्टीरिया के 3 नए उपभेद

आईएसएस शोधकर्ताओं द्वारा खोजे गए बैक्टीरिया के 3 नए उपभेद

NASA के साथ काम करने वाले शोधकर्ताओं का कहना है कि अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन(International Space Station) पर बढ़ने वाले बैक्टीरिया के तीन नए उपभेदों की खोज अंतरिक्ष में और शायद मंगल पर फसलों को उगाने में मददगार साबित हो सकती है। वैज्ञान सम्बन्धी जर्नल फ्रंटियर्स इन माइक्रोबायोलॉजी में सोमवार को प्रकाशित एक अध्ययन में, अमेरिका(America) और भारत(India) में NASA की जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी (जेपीएल) के साथ काम करने वाले शोधकर्ताओं ने ISS पर विभिन्न स्थानों में रहने वाले बैक्टीरिया(bacteria) के चार उपभेदों की खोज की है – और उनमें से तीन, अबतक विज्ञान के लिए अज्ञात थे।

सभी चार उपभेद मिट्टी और मीठे पानी में पाए जाने वाले बैक्टीरिया के परिवार से संबंधित हैं; वे नाइट्रोजन स्थिरीकरण और पौधे के विकास में शामिल हैं और पौधे के रोगजनकों को रोकने में मदद कर सकते हैं। दूसरे शब्दों में, वह ऐसे बैक्टीरिया हैं जो पौधों की वृद्धि के लिए सहायक होते हैं। ISS पर मिट्टी के जीवाणुओं को उगाना पूरी तरह से अचानक नहीं था। सालों से अंतरिक्ष स्टेशन(International Space Station) पर रहने वाले अंतरिक्ष यात्री शोध और भोजन के लिए पौधे उगाते रहे हैं।

international space station
अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में खोजे बैक्टीरिया फसलों को उगाने में मददगार साबित हो सकते हैं।(Unsplash)

तीन नए जीवाणुओं को रेखांकित किया गया और सभी को पहले के समान, अज्ञात प्रजातियों से संबंधित पाया गया। उत्पत्ति-संबंधी विश्लेषण के साथ उन्हें यह मिथाइलोबैक्टीरियम इंडिकम से मेल खाता दिखाई दिया है। शोधकर्ताओं ने प्रसिद्ध भारतीय जैव विविधता वैज्ञानिक अजमल खान के सम्मान में मैथिलोबैक्टीरियम अजमली नामक नए प्रजाति को बुलाने का प्रस्ताव रखा। एक बयान में, जेपीएल शोधकर्ताओं कस्तूरी वेंकटेश्वरन (वेंकट) और नितिन कुमार सिंह ने कहा कि अंतरिक्ष में फसलों के बढ़ने के लिए उपभेदों में “जैव-प्रौद्योगिकीय रूप से उपयोगी आनुवंशिक निर्धारक” हो सकते हैं। हालांकि, प्रायोगिक जीव विज्ञान को यह साबित करने की आवश्यकता है कि यह वास्तव में अंतरिक्ष खेती के लिए एक संभावित गेम-चेंजर है।

यह भी पढ़ें: मंगल पर पानी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा ग्रह की पपड़ी में खनिजों के बीच है फंसा!

वेंकट और सिंह ने अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी(American Space Agency) के साथ एक दिन मंगल ग्रह की सतह पर मनुष्यों को ले जाने की तलाश करते हुए कहा – और संभवतः इससे परे – अमेरिकी राष्ट्रीय अनुसंधान परिषद ने अंतरिक्ष एजेंसी को “सूक्ष्मजीवों के सर्वेक्षण के लिए परीक्षण-बिस्तर” के रूप में आईएसएस का उपयोग करने की सिफारिश की है। जेपीएल शोधकर्ताओं के साथ, दक्षिणी कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, लॉस एंजिल्स के वैज्ञानिक; कॉर्नेल विश्वविद्यालय और भारत में हैदराबाद विश्वविद्यालय ने अध्ययन में योगदान दिया।(VOA)

(हिंदी अनुवाद: शान्तनू मिश्रा)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी