Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

35 साल पहले मिला था भारत में पहला HIV वायरस

लोगों को एचआईवी संक्रमण के बारे में जागरूक करने की मंशा से विश्व भर में हर साल वर्ल्ड एड्स डे (World AIDS Day) मनाया जाता है।

कोरोना काल के आ जाने से HIV मरीजों के लिए चल रहे कार्यक्रमों पर रोक लग गयी है। (Wikimedia Commons)

लोगों को एचआईवी संक्रमण के बारे में जागरूक करने की मंशा से पूरे विश्व में हर साल वर्ल्ड एड्स डे (World AIDS Day) मनाया जाता है। 1988 में पहली बार इस मुहिम की शुरुआत हुई थी। इस साल वर्ल्ड एड्स डे की थीम है ; “Ending the HIV/AIDS Epidemic: Resilience and Impact”, इस अवसर पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने उन सभी लोगों का धन्यवाद किया है जो HIV के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के आकड़ों की मानें तो 2019 में 690,000 लोग एचआईवी से संबंधित कारणों की वजह से मृत्यु को प्राप्त हो गए। भारत में इसके मौजूदा हालातों पर नज़र डालें तो राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (NACO) ने अनुमान लगाया है कि 2017 में भारत में 2.14 मिलियन लोग HIV / AIDS से संक्रमित थे।

पर क्या आप जानते हैं कि भारत में पहली बार कब और कहाँ, HIV वायरस की पुष्टि की गयी थी।


यह भी पढ़ें – ओपिनियन मेरा मानसिक स्वास्थ्य, हाय तौबा ज़िंदाबाद !

चेन्नई की सेक्स वर्कर महिलाओं में हुई थी HIV की पुष्टि

इतिहास को थोड़ा पलट कर देखें तो भारत में पहली बार एड्स(AIDS) सम्बंधित मामले की पुष्टि चेन्नई में हुई थी। 1986 में डॉक्टर और माइक्रोबायोलॉजिस्ट सुनीति सोलोमन ने महिला चिकित्सक सेल्लप्पन निर्मला के साथ मिल कर चेन्नई की सेक्स वर्कर महिलाओं की बस्तियों में जाकर करीबन 200 ब्लड सैंपल इकट्ठा किए। असल में सेल्लप्पन निर्मला, डॉ सुनीति की स्टूडेंट थीं। दोनों द्वारा कलेक्ट किए सैम्पल्स को वेल्लूर प्रयोगशाला में भेजा गया। वहां से आई रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ कि 200 सैम्पल्स में से 6 सैम्पल्स में HIV वायरस मौजूद है। इस बात पर पूरी तरह से दृढ़ होने के लिए सुनीति ने उन सैम्पल्स को जाँच के लिए अमेरिका भेजा। वहां से भी उन 6 ब्लड सैम्पल्स में HIV वायरस के होने की बात कही गयी।

यह उस समय की बात है जब हमारे देश में सेक्स को लेकर इतनी जागरूकता नहीं थी और ना ही लोग खुल कर इन मुद्दों पर बात किया करते थे।

दिवंगत डॉ सुनीति सोलोमन को 2017 में पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। (Facebook)

बहरहाल, 1986 के बाद भारत में लगतार HIV के मामलों में बढ़ोतरी देखी जाने लगी। जिसका परिणाम यह हुआ कि सरकार ने 1992 में HIV और AIDS की रोकथाम से संबंधित नीतियों की देखरेख के लिए NACO (राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन) और NACP (राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण कार्यक्रम) की स्थापना की।

आज भारत में लोग HIV/AIDS को लेकर जागरूक भी हैं और कई लोग इस बीमारी से संक्रमित होने के बावजूद खुशहाल ज़िन्दगी जी रहे हैं।

अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए – Predicting Breast Cancer By Deep Learning Model

मगर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के अनुसार विश्व भर में कोरोनाकाल के आ जाने से HIV/AIDS के मामलों में काफी बढ़त हो सकती है। क्योंकि कोविड-19 के आ जाने से HIV/AIDS मरीजों के लिए चल रहे वैश्विक अभियानों और कार्यक्रमों पर रोक लग गयी है। ऐसे में HIV मरीजों के लिए यह संकट का विषय बन चुका है।

Popular

15 जनवरी 1949 से हर वर्ष 15 जनवरी को मनाया जाता है सेना दिवस !

15 जनवरी को हर वर्ष सेना दिवस(Indian Army Day) के रूप में मनाया जाता है। आज वो शुभ दिन है, आज भारतीय सेना को उनके जज्बे, त्याग, बलिदान को सलाम करने का दिन है। आज के दिन भारतीय सेना दिवस पर दिल्ली के परेड ग्राउंड पर सेना दिवस परेड का आयोजन होता है। भारतीय सेना के लिए मनाए जाने वाले तमाम कार्यक्रमो में से भारतीय सेना का यह परेड सबसे महत्वपूर्ण एवं सबसे बड़ा कार्यक्रम माना जाता है। जनरल ऑफिसर कमांडिंग, हेडक्वार्टर दिल्ली की अगुवाई में परेड निकाली जाती है। आर्मी चीफ सलामी लेते हुए परेड का निरीक्षण करते हैं!

भारतीय सेना दिवस पर (INDIAN ARMY) ने भी आज ट्विटर के माध्यम से सेना दिवस के अवसर पर बधाई देते हुए कहा कि " विविध सुरक्षा चुनौतियों का सामना करने के लिए भारतीय सेना भविष्य के साथ आगे बढ़ रहा है।"

Keep Reading Show less

जेनेवा स्थित विश्व स्वास्थ्य संगठन का मुख्यालय (Wikimedia Commons)

विश्व स्वास्थ्य संगठन(World Health Organization) ने कोरोनावायरस रोग के लिए दो नए उपचारों को मंजूरी दी है क्योंकि ओमाइक्रोन(Omicron) मामलों ने दुनिया भर में स्वास्थ्य सेवा प्रणाली पर दबाव डाला है। डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों ने गठिया की दवा बारिसिटिनिब और सिंथेटिक एंटीबॉडी उपचार सोट्रोविमैब की सिफारिश की ताकि गंभीर बीमारी और कोविड -19 से मौत को रोका जा सके।

विशेषज्ञों ने गंभीर या गंभीर कोविड रोगियों के इलाज के लिए कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के संयोजन में इंटरल्यूकिन -6 (IL-6) रिसेप्टर ब्लॉकर्स के विकल्प के रूप में Baricitinib के उपयोग की जोरदार सिफारिश की। उन्होंने सुझाव दिया कि गंभीर कोविड रोगियों में कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के साथ बारिसिटिनिब के उपयोग से जीवित रहने की दर बेहतर हुई और वेंटिलेटर की आवश्यकता कम हो गई।

Keep Reading Show less

आईआईटी रूड़की (Wikimedia Commons)

प्रो. प्रणिता पी सारंगी, बायोसाइंसेज और बायोइंजीनियरिंग विभाग, आईआईटी रुड़की(IIT Roorkee) के नेतृत्व में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की के शोधकर्ताओं ने गंभीर संक्रमण और सेप्सिस(Sepsis) के परिणामों पर विशिष्ट प्रतिरक्षा सेल मार्करों की भूमिका दिखाई है। जैव प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार से बायोकेयर महिला वैज्ञानिक अनुदान और अभिनव युवा जैव प्रौद्योगिकीविद् पुरस्कार अनुदान द्वारा वित्त पोषित इस अध्ययन ने सेप्सिस से संबंधित जटिलताओं पर प्रतिरक्षा सेल मार्करों की भूमिका में महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्रदान की है।

न्यूट्रोफिल, मोनोसाइट्स और मैक्रोफेज श्वेत रक्त कोशिकाएं हैं जो मृत कोशिकाओं और बैक्टीरिया और अन्य रोगजनकों जैसे विदेशी निकायों के मैला ढोने वालों के रूप में कार्य करती हैं। वे रोग पैदा करने वाले बाहरी पदार्थ को साफ करने के लिए रक्त से संक्रमण की जगह पर चले जाते हैं। हालांकि, अनियंत्रित और गंभीर संक्रमण में, जिसे आमतौर पर 'सेप्सिस' कहा जाता है, इन प्रतिरक्षा कोशिकाओं की असामान्य सक्रियता और स्थानीयकरण होता है। नतीजतन, ये कोशिकाएं समूह बनाती हैं, शरीर के चारों ओर घूमती हैं, और फेफड़े, गुर्दे और यकृत जैसे महत्वपूर्ण अंगों में जमा हो जाती हैं, जिससे बहु-अंग विफलता या मृत्यु भी हो सकती है।

Keep reading... Show less