Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
थोड़ा हट के

किताबें देने की दीवानगी ऐसी कि प्रतिदिन 4 किमी पैदल चलती हैं 64 वर्ष की राधामणी

केपी राधामणी जी एक लाइब्रेरियन के रूप में काम करती है खास बात यह कि राधामणी किताबों की होम डिलीवरी के लिए रोज 4 किमी पैदल चलती हैं।

केरल के वायनाड जिले की समर्पित लिब्रेरियन केपी राधामणी।(आईएएनएस)

64 वर्षीय केपी राधामणी जी केरल के वायनाड जिले के मोथक्कार में एक लाइब्रेरियन के रूप में काम करती है खास बात यह कि राधामणी किताबों की होम डिलीवरी के लिए रोज 4 किमी पैदल चलती हैं। मोथाक्कार में ‘वॉकिंग लाइब्रेरियन’ के रूप में मशहूर राधामणी वायनाड के वेल्लमुंडा में रहने वाली हैं, जो हरे-भरे जंगलों और पहाड़ी इलाकों के बीच स्थित है। राधामणी एक शॉपिंग बैग में कल्पना, इतिहास, राजनीति, यात्रा, फिल्मों पर किताबें वितरित करती है।

वह मोथाकारा में प्रथिबा पब्लिक लाइब्रेरी में लाइब्रेरियन के रूप में काम करती हैं, जिसमें लगभग 11,000 पुस्तके हैं, लेकिन लाइब्रेरी में लोगों के प्रवाह के कारण खेत, घरेलू काम और अन्य आजीविका में उनकी प्रतिबद्धताओं के कारण, राधामणि ने कहा कि वह किताबें उनके पास ले जाएंगी।


वह दी जाने वाली पुस्तकों का एक नियमित रजिस्टर रखती है और लाइब्रेरी काउंसिल ऑफ केरल के दिशानिर्देशों के अनुसार प्रबंधन करती हैं।

एक शॉपिंग बैग में, किताबें देने की दीवानगी से ग्रसित राधामणी 25-50 किताबें ले जाती है और एक परिवार को दो किताबें देती हैं और आठ दिनों के बाद वापस ले जाती हैं।

घर घर तक किताब पहुँचाना लक्ष्य है के पी राधमणी का।(Pixabay)

लाइब्रेरी में शामिल होने के लिए पंजीकरण शुल्क 25 रुपये है और मासिक शुल्क 5 रुपये है। राधमणी को लगता है कि विभिन्न पढ़ने वाले लोगों को किताबें देने से वह खुद इन किताबों से रूबरू हो रही हैं।

वह याद करती हैं, “मैं अपने पिता को कहानियां सुनाती थी जब मैं एक बच्ची थी और कुछ भी पढ़ती थी, जिसे मैं अपने हाथों से प्राप्त कर सकती थी, जिसमें कागज या कपड़े और प्रावधान शामिल थे। लाइब्रेरी में काम पाने के बाद, मैं सभी वर्गों की किताबें लेने और अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए एक उत्साही और उत्साही पाठक बन गई”।

वायनाड आदिवासियों की एक बड़ी आबादी वाला एक पिछड़ा जिला होने के नाते, राधमणी ने कई आदिवासी घरों की चौखटों पर किताबें पहुंचाई साथ ही बच्चों और महिलाओं के बीच पढ़ने का जुनून पैदा किया।

उन्होंने याद किया कि किस तरह आदिवासी बच्चे उन्हें उन किताबों को पढ़ने के बाद बुलाते थे जो राधामणी ने उन्हें कुछ दिनों के भीतर दी थीं। साथ बच्चें उनकी अगली यात्रा का इंतजार करते थे।

यह भी पढ़ें: विशाखापत्तनम के कंक्रीट जंगल के बीच शख्स ने उगाया असली जंगल

कोरोना के कारण एक महीने में वितरित की जाने वाली पुस्तकों की संख्या 500 से घटकर से लगभग 350 हो गई है।

पहाड़ी इलाकों में पर्यटकों के लिए वह एक पर्यटक गाइड बन गई है। एक मार्गदर्शक होने के लिए, उन्होंने वायनाड की यात्रा, इतिहास और समाज से संबंधित पुस्तकों को अच्छी तरह पढ़ लिया है ताकि वह पर्यटकों का सही मार्गदर्शन कर सकें।

पहाड़ी इलाकों में पर्यटकों के लिए वह एक पर्यटक गाइड बन गई है।(Pixabay)

केवल 10 वीं कक्षा तक की पढ़ाई करने वाली राधमणी ने कहा कि उनके पाठकों द्वारा सुझाई गई कुछ किताबें जीवन भर के लिए उनके मन में अंकित हो गई हैं।

2012 में इस पेशे की शुरूआत करने वाली वॉकिंग लाइब्रेरियन प्रति माह 3800 रुपये कमाती है।

आईएएनएस से बात करते हुए उन्होंने कहा, “मुझे अब हर महीने 3800 रुपये मिलते हैं, लेकिन इसके लिए पैसे नहीं बल्कि इस नौकरी के लिए जुनून मुझे आगे बढ़ाता है। यह बहुत ही दिलचस्प काम है और हमारे पुस्तकालय से नई किताबें प्राप्त करते हुए मैं कई महिलाओं की आंखों में रोशनी देख सकती हूं।”

राधमणी अब राज्य सरकार की ‘हरिता कर्म सेना’ के साथ भी काम कर रही है, जो प्लास्टिक की बोतलों को रिसाइकिल करने का काम करती हैं। राधामणी अपने पति पद्मनाभन नांबियार और बेटे रिजिलेश के साथ रहती है, जो एक ऑटो-रिक्शा चालक है। उनकी बेटी शादीशुदा है और अपने दो बच्चों के साथ तमिलनाडु में रह रही है। (आईएएनएस-SHM)

Popular

भारत, अमेरिका के विशेषज्ञों ने जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर चर्चा की ( Pixabay )

भारत(india) और अमेरिका(America) के विशेषज्ञों ने शनिवार को कार्बन कैप्चर, यूटिलाइजेशन एंड स्टोरेज (सीसीयूएस) के माध्यम से जलवायु परिवर्तन (Environment change) से निपटने के लिए विभिन्न तकनीकों पर चर्चा करते हुए कहा कि वे 17 सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) में से पांच - जलवायु कार्रवाई, स्वच्छ ताकत, उद्योग, नवाचार और बुनियादी ढांचा, खपत और उत्पादन जैसे लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए साझेदारी की है। विज्ञान विभाग के सचिव एस.चंद्रशेखर ने कहा, "सख्त जलवायु व्यवस्था के तहत हम उत्सर्जन कटौती प्रौद्योगिकियों के पोर्टफोलियो के सही संतुलन की पहचान और अपनाने का एहसास कर सकते हैं। ग्लासगो में हाल ही में संपन्न सीओपी-26 में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के उल्लेखनीय प्रदर्शन के साथ-साथ महत्वाकांक्षाओं को सामने लाया। दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक होने के बावजूद हम जलवायु लक्ष्यों को पूरा करेंगे।"

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के कार्बन कैप्चर पर पहली कार्यशाला में अपने उद्घाटन भाषण में उन्होंने कहा, "पीएम ने हम सभी को 2070 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन राष्ट्र बनने को कहा है।" उन्होंने सीसीयूएस के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी के नेतृत्व वाले आरडी एंड डी की दिशा में विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग की हालिया पहलों के बारे में भी जानकारी दी।

Keep Reading Show less

वेल्लोर के इस 10 वर्षीय छात्र ने अपनी लगन से वकीलों के लिए ई-अटॉर्नी नामक एक ऐप बना डाला ( Pixabay)

कोरोना के इस दौर में ऐप टेक्नॉलॉजी (App Technology) की पढ़ाई कई समस्याओं का समाधान कर रही है। ऐसा ही एक समाधान 10 वर्षीय छात्र कनिष्कर आर ने कर दिखाया है। कनिष्कर ने पेशे से वकील अपने पिता की मदद एक ऐप (App) बनाकर की। दस्तावेज संभालने में मददगार यह ऐप वकीलों और अधिवक्ताओं को अपने क्लाईंट एवं काम से संबंधित दस्तावेज संभालने में मदद करता है। 10 वर्षीय कनिष्कर का यह ऐप अब उसके पिता ही नहीं बल्कि देश के कई अन्य वकील भी इस्तेमाल कर रहे हैं और यह एक उद्यम की शक्ल ले रहा है।

कनिष्कर अपने पिता को फाईलें संभालते देखता था, जो दिन पर दिन बढ़ती चली जा रही थीं। जल्द ही वह समझ गया कि उसके पिता की तरह ही अन्य वकील भी थे, जो इसी समस्या से पीड़ित थे। इसलिए जब कनिष्कर को पाठ्यक्रम अपने कोडिंग के प्रोजेक्ट के लिए विषय चुनने का समय आया, तो उसने कुछ ऐसा बनाने का निर्णय लिया, जो उसके पिता की मदद कर सके। वेल्लोर (Vellore) के इस 10 वर्षीय छात्र ने अपनी लगन से वकीलों के लिए ई-अटॉर्नी नामक एक ऐप बना डाला। इस ऐप का मुख्य उद्देश्य वकीलों और अधिवक्ताओं को अपने क्लाईंट के एवं काम से संबंधित दस्तावेज संभालने में मदद करना है। इस ऐप द्वारा यूजर्स साईन इन करके अपने काम को नियोजित कर सकते हैं और क्लाईंट से संबंधित दस्तावेज एवं केस की अन्य जानकारी स्टोर करके रख सकते हैं। इस ऐप के माध्यम से यूजर्स सीधे क्लाईंट्स से संपर्क भी कर सकते हैं। जिन क्लाईंट्स को उनके वकील द्वारा इस ऐप की एक्सेस दी जाती है, वो भी ऐप में स्टोर किए गए अपने केस के दस्तावेज देख सकते हैं।

Keep Reading Show less

डॉ. मुनीश रायजादा ने इस वेब सीरीज़ के माध्यम से आम आदमी पार्टी में हुए भ्रस्टाचार को सामने लाने का प्रयास किया है

आम आदमी पार्टी(AAP) पंजाब के लोकसभा चुनाव में अपनी बड़ी जीत की उम्मीद कर रही है वहीं पार्टी के एक पूर्व सदस्य ने राजनैतिक शैली में वेब सीरीज़ के रूप में 'इनसाइडर अकाउंट" निकला है जिसमे दावा किया गया है कि पार्टी अपने मूल सिद्धांतों से भटक गई है। 'ट्रांसपेरेंसी : पारदर्शिता का निर्माण शिकागो में कार्यरत चंडीगढ़ के चिकित्सक डॉ.मुनीश रायज़ादा द्वारा किया गया है। यूट्यूब(Youtube) पर उपलब्ध यह वेब सीरीज़ यह दर्शाती है कि कैसे एक पार्टी पारदर्शी होने के साथ साथ व्यवस्था परिवर्तन लाने के बजाय गैर-पारदर्शी औऱ राजनीतिक आदत का हिस्सा बन गई। यह वेब सीरीज अक्टूबर 2020 में पूरी होने के बाद ओटीटी प्लेटफॉर्म एमएक्स प्लयेर पर रिलीज हुई। डॉ.मुनीश रायज़ादा के अनुसार इस वेब सीरीज़ को सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली।

डॉ.मुनीश रायजादा ने फोन पर आईएएनएस से बात करते हुए बताया कि, " मंच इस वेब सीरीज का प्रचार यह कहकर नहीं कर रहा था कि यह एक राजनीतिक वेब सीरीज है, और मैंने सोचा कि मैं इस वेब सीरीज को बड़े पैमाने में दर्शकों तक कैसे ले जा सकता हूँ फिर मैंने यूट्यूब के बारे में सोचा।" यह वेब सीरीज यूट्यूब पर 17 जनवरी को रिलीज़ किया गया।

Keep reading... Show less