Saturday, June 12, 2021
Home दुनिया कोविड-19 के दौर में शुरू हुई 73वीं विश्व स्वास्थ्य महासभा

कोविड-19 के दौर में शुरू हुई 73वीं विश्व स्वास्थ्य महासभा

73 वीं विश्व स्वास्थ्य महासभा फिर से शुरू हो गई है, यहां प्रतिभागी कोविड महामारी समेत ऐसे ही दबाव वाले वैश्विक स्वास्थ्य मुद्दों के बारे में बात करेंगे।

73 वीं विश्व स्वास्थ्य महासभा फिर से शुरू हो गई है, यहां प्रतिभागी कोविड महामारी समेत ऐसे ही दबाव वाले वैश्विक स्वास्थ्य मुद्दों और आपात स्थितियों के बारे में बात करेंगे। कोविड से अब 12 लाख से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है और 5 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का निर्णय लेने वाला निकाय, विश्व स्वास्थ्य महासभा का 6 दिवसीय सत्र सोमवार से शुरू हुआ है। मई में 2 दिन चले वर्चुअल इवेंट की तरह इस बार भी यह वर्चुअली ही हो रहा है।

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ट्रेडोस एडहोम घेब्रेयसिस ने महामारी के मद्देनजर वैश्विक एकजुटता की अपील करते हुए कहा, “ना हम इससे समझौता कर सकते हैं, ना अपनी आंखें बंद करके आशा कर सकते हैं कि यह खत्म हो जाएगी। हमारी एकमात्र आशा- विज्ञान, समाधान और एकजुटता है।”

ट्रेडोस ने कहा कि सभी मामलों और मौतों में से आधे सिर्फ 4 देशों – अमेरिका, भारत, ब्राजील और रूस के हैं। अमेरिका वर्तमान में दुनिया का सबसे ज्यादा प्रभावित देश है, जहां 1,00,51,722 मामले और 2,38,201 मौतें दर्ज हुईं हैं।

ट्रेडोस ने कहा कि कोविड दुनिया में एक मात्र आपातकाल जैसी स्थिति नहीं है।

उन्होंने इस वर्ष अन्य स्वास्थ्य आपात स्थितियों का हवाला दिया, जिनमें चाड में चिकनगुनिया का प्रमुख प्रकोप शामिल है। इसके अलावा गैबॉन और टोगो में पीला बुखार, और मेक्सिको में खसरा है।

यह भी पढ़ें – आस्ट्रेलिया में ऑक्सफोर्ड में विकसित वैक्सीन का उत्पादन शुरू

ट्रेडोस ने कहा, डब्ल्यूएचओ 2023 तक ‘ट्रिपल बिलियन’ लक्ष्यों को पाने के लिए अपनी कार्य योजनाओं को लागू करना जारी रखेगा, ताकि एक अरब लोगों को स्वास्थ्य आपात स्थितियों से सुरक्षित बना सके, एक अरब से अधिक लोगों को यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज दे सके और एक अरब से अधिक लोगों को बेहतर स्वास्थ्य का आनंद लेते हुए देख सके। इन लक्ष्यों को पाने के लिए संगठन बड़े पैमाने पर सुधार करने के अपडेट जारी करेगा, इसे ट्रेडोस ने ‘डब्ल्यूएचओ के इतिहास में सबसे बड़ा परिवर्तन’ कहा है।

उन्होंने आगे कहा, “महामारी को नियंत्रित करने के लिए टीके की तत्काल आवश्यकता है। लेकिन गरीबी, भूख, जलवायु परिवर्तन या असमानता के लिए कोई टीका नहीं है। इन्हें हमें खुद मिटाना होगा। यह सहयोग के एक नए युग का निर्माण करने का समय है, जो स्वास्थ्य और कल्याण को हमारे सामान्य भविष्य के केंद्र में रखता है।” (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी