Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

देश में बन रहे 95 फीसदी कृषि यंत्र, 10 साल में दोगुने मैकेनाइजेशन का लक्ष्य : तोमर

पंचायत राज और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने सोमवार को कहा कि 95 फीसदी कृषि यंत्र देश में ही बनाए जा रहे हैं और कृषि क्षेत्र के विकास के लिए 10 साल के भीतर प्रति हेक्टेयर मैकेनाइजेशन दोगुना करने का लक्ष्य है।

केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर। । ( Wikimedia commons )

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास, पंचायत राज और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने सोमवार को कहा कि 95 फीसदी कृषि यंत्र देश में ही बनाए जा रहे हैं और कृषि क्षेत्र के विकास के लिए 10 साल के भीतर प्रति हेक्टेयर मैकेनाइजेशन दोगुना करने का लक्ष्य है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर देश में वोकल फॉर लोकल के प्रति उत्साह का माहौल बना हुआ है। ऐसे में फार्म मशीनीकरण का क्षेत्र पहले से ही स्थानीय उत्पादन में जुटा हुआ है और करीब 95 फीसदी मशीनें देश में ही बनाई जा रही हैं।”

ट्रैक्टर एंड मैकेनाइजेशन एसोसिएशन ( टीएमए) की सालाना आम बैठक यानी एजीएम में बतौर मुख्य अतिथि कृषि मंत्री तोमर ने फार्म मशीनीकरण के विषय पर अपने संबोधन में कहा कि सरकार का जोर किसानों के खेत तक महंगे व बड़े एडवांस्ड कृषि यंत्र उपलब्ध कराने पर है। उन्होंने एसोसिएशन के सदस्यों से छोटे रकबे वाले किसानों को छोटी उपयोगी मशीनें उपलब्ध कराने का आग्रह किया, ताकि उनका लाभ देश के 86 फीसदी छोटे किसान उठा सकें और उनकी आमदनी में बढ़ोतरी हो। उन्होंने बताया कि सबमिशन ऑन एग्रीकल्चरल मैकेनाइजेशन की योजना सभी राज्यों में लागू की गई है, ताकि कृषि मशीनीकरण के उपयोग को बढ़ावा मिले और कृषि शक्ति के अनुपात को बढ़ाया जा सके।


यह भी पढ़े : लोकतंत्र में सभी को आंदोलन करने का अधिकार है : केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले

किसानों के लिए छोटी उपयोगी मशीनें उपलब्ध करेगी सरकार । ( Pixabay)

कृषि क्षेत्र के सुधार

तोमर ने कहा कि किराए के आधार पर किसानों के खेत तक महंगे व बड़े एडवांस्ड कृषि यंत्र उपलब्ध कराने पर भी सरकार इस स्कीम के माध्यम से जोर दिया है। व्यक्तिगत किसान को परियोजना लागत में 40 फीसदी तक सब्सिडी का प्रावधान है, वहीं किसानों के समूह को प्रोजेक्ट में 80 फीसदी तक की सब्सिडी दी जाती है, जिसकी अधिकतम राशि 10 लाख रुपये तक हो सकती है। पूर्वोत्तर प्रांतों के किसानों के लिए परियोजना लागत की 95 फीसदी तक सब्सिडी मिलती है।

केंद्रीय मंत्री तोमर ने कहा कि कृषि के क्षेत्र कदम उठाए गए हैं, जिनकी लंबे समय से प्रतीक्षा की जा रही थी। उन्होंने कहा, हमारे अन्नदाता भाई-बहन अब कानूनी तौर पर पूरी तरह स्वंतत्र हैं, जिससे उनकी आय बढ़ेगी व तकलीफें कम होंगी। यह बात उन्होंने केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों के संबंध में कहीं। (आईएएनएस)

Popular

मोहम्मद खालिद (IANS)

मिलिए झारखंड(Jharkhand) के हजारीबाग निवासी मृतकों के अज्ञात मित्र मोहम्मद खालिद(Mohammad Khalid) से। करीब 20 साल पहले उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई, जब उन्होंने सड़क किनारे एक मृत महिला को देखा। लोग गुजरते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

हजारीबाग में पैथोलॉजी सेंटर चलाने वाले खालिद लाश को क्षत-विक्षत देखकर बेचैन हो गए। उन्होंने एक गाड़ी का प्रबंधन किया, एक कफन खरीदा, मृत शरीर को उठाया और एक श्मशान में ले गए, बिल्कुल अकेले, और उसे एक सम्मानजनक अंतिम संस्कार(Last Rites) दिया। इस घटना ने उन्हें लावारिस शवों का एक अच्छा सामरी बना दिया, और तब से उन्होंने लावारिस शवों को निपटाने के लिए इसे अपने जीवन का एक मिशन बना लिया है।

Keep Reading Show less

भारत आज स्टार्टअप की दुनिया में सबसे अग्रणी- मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज अपने "मन की बात"("Mann Ki Baat") कार्यक्रम में देशवासियों से बात करते हुए स्टार्टअप के महत्व पर ज़ोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा की जो युवा कभी नौकरी की तलाश में रहते थे वे आज नौकरी देने वाले बन गए हैं क्योंकि स्टार्टअप(Startup) भारत के विकास की कहानी में महत्वपूर्ण मोड़ बन गया है। उन्होंने आगे कहा की स्टार्ट के क्षेत्र में भारत अग्रणी है क्योंकि तक़रीबन 70 कंपनियों ने भारत में "यूनिकॉर्न" का दर्जा हासिल किया है। इससे वैश्विक स्तर पर भारत का कद और मज़बूत होगा।

उन्होंने आगे कहा की वर्ष 2015 में देश में मुश्किल से 9 या 10 यूनिकॉर्न हुआ करते थे लेकिन आज भारत यूनिकॉर्न(Unicorn) की दुनिया में भारत सबसे ऊँची उड़ान भर रहा है।

Keep Reading Show less