Monday, May 17, 2021
Home थोड़ा हट के विशाखापत्तनम के कंक्रीट जंगल के बीच शख्स ने उगाया असली जंगल

विशाखापत्तनम के कंक्रीट जंगल के बीच शख्स ने उगाया असली जंगल

आंध्र प्रदेश के बंदरगाह शहर विशाखापत्तनम के ठीक बीच में बड़ी इमारतों के कंक्रीट के जंगल से घिरा एक जैव विविधता पार्क अनूठी राहत देता नजर आता है।

By: नरेंद्र पुप्पाला

आंध्र प्रदेश के बंदरगाह शहर विशाखापत्तनम के ठीक बीच में बड़ी इमारतों के कंक्रीट के जंगल से घिरा एक जैव विविधता पार्क (बायोडायवर्सिटी पार्क) अनूठी राहत देता नजर आता है। पिछले 20 सालों में हजारों युवा प्रभावशाली छात्रों ने इस जैव विविधता पार्क में स्वेच्छा से काम किया है।

विशाखापत्तनम का यह बायोडायवर्सिटी पार्क वैसे तो अन्य ऐसे पार्क की तुलना में महज 3 एकड़ की छोटी सी जगह में फैला है लेकिन यह तकरीबन 2,000 से ज्यादा पेड-पौधों की प्रजातियों, तितलियों की 160 किस्मों, पक्षियों की 60 प्रजातियों समेत कई जीवों का घर है।

जैवविविधता का यह मानव निर्मित आश्रय एक समुद्री जीवविज्ञानी से जीवविज्ञानी बने प्रोफेसर डॉ.एम.राम मूर्ति के अथक प्रयासों का परिणाम है, जिन्होंने 2001 में अपनी पत्नी के साथ डॉल्फिन नेचर कंजर्वेशन सोसाइटी की स्थापना की थी। यह पार्क 66-वर्षीय सेवानिवृत्त प्रोफेसर, उनकी पत्नी और दशकों के दौरान उनके द्वारा पढ़ाए गए सैकड़ों छात्रों की मेहनत से बना है। जाहिर है शुरुआत तो छोटी थी लेकिन आज यह पार्क अपने आप में एक मिसाल बन चुका है।

प्रो.मूर्ति कहते हैं, “शुरू में हम वृक्षारोपण अभियान, जागरूकता शिविर, नेचर ट्रैक आदि आयोजित करते थे। फिर छात्रों ने महसूस किया कि हमारे पास कुछ और होना चाहिए और इस तरह से एक जैव विविधता पार्क बनाने का विचार पैदा हुआ। एक ऐसी जगह जहां छात्र वास्तव में प्रकृति को सीधे तौर पर देख सकें। इसके लिए हमने देहरादून, बेंगलुरु और कोझीकोड जैसी जगहों से बीज और पौधे लाए।”

jungle
प्रोफेसर डॉ.एम.राम मूर्ति।(आईएएनएस)

दशकों पहले इस प्रयास के लिए जिला प्रशासन ने रानी चंद्रमणि देवी अस्पताल के परिसर में एक हजार स्क्वोयर यार्ड जमीन आवंटित की लेकिन अस्पताल के कचरे और खरपतवार से अटी जमीन को साफ करना भी बड़ी चुनौती थी। खर धीरे-धीरे जमीन उर्वर हुई और मेहनत के नतीजे दिखने शुरू हुए। फिर कुछ और जमीन आवंटित हुई।

इस पार्क में 3 अलग-अलग पारिस्थितिक तंत्र हैं – जलीय, रेगिस्तान और पहाड़ी। उपमहाद्वीप के लगभग सभी प्रमुख पौधे और पेड़ यहां लगे हुए हैं। वनस्पतियों की अलग-अलग श्रेणियों के लिए अलग-अलग खंड बनाए गए हैं। यहां तक कि जीवाश्म पौधों के लिए समर्पित एक खंड है।

यह भी पढ़ें: ओडिशा की महिलाओं को सशक्त बना रहा कलाघर

मूर्ति कहते हैं, “हमारा पार्क वास्तव में एक अद्भुत, जीवित प्रयोगशाला है। सीबीआई या अन्य बोर्ड की सभी पाठ्य पुस्तकों में जो कुछ भी पढ़ाया जा रहा है, हम उसे यहां दिखा रहे हैं।”

पिछले तीन दशकों में इस पार्क में अपनी मेहनत की कमाई के 40 लाख रुपये लगाने के बाद अब वे उम्मीद करते हैं कि राज्य सरकार इस काम में मदद के लिए आगे आएगी। वे कहते हैं, “आने वाली पीढ़ियों के लिए इन पौधों के अद्भुत कीमती जीन बैंक को आगे बढ़ाया जाना चाहिए। हम चाहते हैं कि सरकार इस काम में मदद के लिए आगे आए, तो हमें बहुत खुशी होगी।”(आईएएनएस-SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी