“काशी विश्वनाथ के इतिहास में एक नया अध्याय लिखा जा रहा है”-मोदी

0
132
पीएम नरेंद्र मोदी ने आज काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन किया। (Wikimedia Commons)

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने वाराणसी(Varanasi) में काशी विश्वनाथ कॉरिडोर(Kashi Vishwanath Corridor) का उद्घाटन किया। उद्घाटन से पहले काशी को दुल्हन की तरह सजाया गया था।

अपने दो दिवसीय काशी प्रवास के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काशी पहुंचते ही माँ गंगा में डुबकी लगाईं और काल भैरव मंदिर(Kaal Bhairav Temple) में पूजा अर्चना की। मान्यता है की काशी में जो व्यक्ति आता है उसे सबसे पहले काशी के कोतवाल बाबा काल भैरव का दर्शन करना चाहिए।

इसके बाद पीएम काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घटान करने काशी विश्वनाथ मंदिर(Kashi Vishwanath Temple) पहुंचे। कॉरिडोर उद्घाटन से पहले उन्होंने मंदिर में विधिवत पूजा अर्चना की। प्रधानमंत्री ने कॉरिडोर का उद्घाटन करते समय कहा, “यह प्राचीन और नए का संगम है।”

काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन करने के बाद, पीएम मोदी ने उत्तर प्रदेश योगी आदित्यनाथ की सराहना की और इस भव्य परिसर के निर्माण के लिए काम करने वाले हर मजदूर के प्रति आभार भी व्यक्त किया।

‘एक नया अध्याय लिखा जा रहा है’

“..काशी विश्वनाथ के इतिहास में एक नया अध्याय लिखा जा रहा है।””..काशी विश्वनाथ के इतिहास में एक नया अध्याय लिखा जा रहा है।”

narendra modi, kashi vishwanath corridor

“काशी विश्वनाथ के इतिहास में एक नया अध्याय लिखा जा रहा है।”- मोदी (IANS)

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, “..काशी विश्वनाथ के इतिहास में एक नया अध्याय लिखा जा रहा है।”

पीएम मोदी ने कहा, “काशी विश्वनाथ धाम परिसर सिर्फ एक भव्य ‘भवन’ नहीं है बल्कि भारत की ‘सनातन’ संस्कृति और परंपराओं का प्रतीक है। यहां आप देखेंगे कि कैसे पूर्वजों की प्रेरणा भविष्य को दिशा दे रही है।”

“इस शहर ने कई युग जीते हैं, इसने कई साम्राज्यों का उत्थान और पतन देखा है। लेकिन काशी समय की कसौटी पर खरी उतरी, जैसे काशी ‘अनंत’ [अंतहीन] है, इस देश के विकास में इसका योगदान ‘अनंत’ है।” पीएम मोदी ने कहा।

3 संकल्प: स्वच्छता, निर्माण और नवाचार

इस आयोजन में, पीएम मोदी ने भारत को स्वच्छ, नवाचार का केंद्र और ‘आत्मानबीर’ (आत्मनिर्भर) बनाने के अपने उद्देश्य को भी दोहराया।

पीएम मोदी ने कहा, “मैं आपसे तीन संकल्प चाहता हूं, अपने लिए नहीं, बल्कि अपने देश के लिए- स्वच्छता, निर्माण और आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए निरंतर प्रयास।”

पीएम मोदी ने कहा, “स्वच्छता जीवन और अनुशासन का एक तरीका है। भारत की प्रगति तब तक कठिन होगी जब तक देश में स्वच्छता नहीं होगी। हमने कई पहल की हैं। हमें इस दिशा में काम करना जारी रखने की जरूरत है।”

पीएम मोदी ने कहा, “दूसरी चीज रचनात्मकता और नवाचार है। अगर लोग 40 से अधिक गेंडा बना सकते हैं, तो कुछ भी किया जा सकता है। हमें नई ऊंचाइयों तक पहुंचना है।”

“तीसरा है ‘आत्मनिर्भर भारत’ बनाने के प्रयासों को बढ़ाना। हमें भारत के भविष्य के लिए काम करने की जरूरत है और हमें आत्मनिर्भर होने की जरूरत है। अगर हमें अपने स्थानीय लोगों पर विश्वास है और पहल की दिशा में काम करने में मदद करते हैं, तो हम करेंगे भारत को आत्मानिर्भर बनाने में सक्षम हो। हम नए मार्ग प्रशस्त करेंगे और भारत को ‘आत्मानबीर’ बनाने के सपने को पूरा करेंगे,” पीएम मोदी ने कहा।

विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर का उद्घाटन करने के बाद पीएम मोदी ने श्रमिकों के साथ खाना भी खाया। खाना खाने के बाद पीएम वापस क्रूज के लिए रवाना हो गए। क्रूज से वे रविदास घाट पहुंचे और वहां उन्होंने संत रविदास की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर प्रार्थना की।

यह भी पढ़ें- भारत की हरनाज़ संधू ने जीता मिस यूनिवर्स 2021

इसके बाद वे विश्राम के लिए बीएलडब्लू गेस्ट हाउस चले गए। विश्राम के बाद वे शाम को गंगा आरती में हिस्सा लेने पहुंचे। आरती के समय से पहले ही बनारस के घाटों पर प्रधानमंत्री की एक झलक पाने को भीड़ इकट्ठा हो गई थी। पीएम मोदी के साथ-साथ 11 भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी आरती में हिस्सा लिया।

Input-IANS; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here