Tuesday, October 20, 2020
Home मनोरंजन एंटरटेनमेंट का नया दौर आ चुका है, नए ट्रेंड आ रहे हैं

एंटरटेनमेंट का नया दौर आ चुका है, नए ट्रेंड आ रहे हैं

लॉकडाउन के दौरान लोगों ने नए कंटेंट का रूख किया है, जिसे पहले एक्सप्लोर नहीं किया गया था। लोगों की आदतें बदल चुकी हैं। इसी वजह से सिनेमा जगत में कई नए बदलाव देखे जा सकते हैं।

By – सुगंधा रावल

क्या आप फिल्मों के उभरते पे-पर-व्यू ऑफर से परिचित हैं? महामारी के आने से पहले आपने कितनी बार भारतीय टेलीविजन के छोटे पर्दे पर किसी फिल्म को देखा है? या फिर डिजिटल दुनिया में मल्टीप्लेक्स को एक्सप्लोर किया है? क्या आप जानते हैं कि हम होम एंटरटेनमेंट के एक ऐसे दौर में जा रहे हैं, जहां आप किसी फिल्म या वेब सीरीज को देखना चाहते हैं या नहीं इसका चयन कर सकते हैं? ये कुछ ऐसे ट्रेंड्स हैं जो पिछले कुछ महीनों से उभर रहे हैं, क्योंकि होम एंटरटेनमेंट उद्योग अब लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने की तैयारी में है।

इस बारे में निमार्ता-निर्देशक अभिषेक पाठक ने आईएएनएस को बताया, “लॉकडाउन के दौरान लोगों ने नए कंटेंट का रूख किया, जिसे पहले एक्सप्लोर नहीं किया गया था। जल्द ही, दर्शक सिनेमाघरों में बड़ी स्क्रीन की फिल्में / ब्लॉकबस्टर फिल्में देखने के लिए भुगतान करना पसंद करेंगे और वे मध्यम-स्तर और छोटे बजट की फिल्मों को ओटीटी पर देखना पसंद करेंगे। पीवीओडी (प्रीमियम वीडियो ऑन-डिमांड) अभी भी अपने शुरुआती चरण में है।”

हालांकि, इस विचार ने ईशान खट्टर और अनन्या पांडेय अभिनीत हालिया एक्शन ड्रामा ‘खली पीली’ के लिए अच्छा काम किया।

अवधारणा को समझाते हुए पाठक ने कहा, “यह थिएटरों की तरह ही एक मॉडल है, जिसके माध्यम से दर्शक कुछ देखना पसंद करते हैं और वे इसके लिए भुगतान करते हैं। यह ओटीटी के सब्सक्रिप्शन मॉडल के विपरीत है। यहां अंतर यह है कि वे कंटेंट के लिए भुगतान कर रहे हैं और इसे देखने वाले लोगों की संख्या के लिए नहीं। भारतीय दर्शक कीमत के प्रति बहुत जागरूक हैं। पीवीओडी मॉडल एक आला दर्शकों के लिए कंटेंट उपलब्ध कराएगा। यह औसत ओटीटी ग्राहकों के दिमाग में जगह बनाने में कुछ समय लेगा।”

यह भी पढ़ें – ऑस्कर जीतने वाली एकमात्र भारतीय महिला भानू अथैया, हमारे बीच नहीं रहीं

OTT Platform
लॉकडाउन के दौरान लोगों का रुख ओटीटी प्लेटफॉर्म्स की तरफ अधिक हो चुका है। (Unsplash)

इस साल की शुरुआत में अंतर्राष्ट्रीय स्टूडियो डिज्नी ने दुनिया के लिए पे-पर-व्यू रास्ता प्रशस्त किया था। उसने अपने स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर बड़े टिकट वाले उद्यम ‘मुलान’ की घोषणा की थी।

जी प्लेक्स ने भी इस रास्ते पर चलने का प्रयास किया है। ‘खाली पीली’ के अलावा, उन्होंने इस प्रारूप का उपयोग करके तमिल फिल्म ‘का पा रणासिंगम’ के सितारों विजय सेतुपति और ऐश्वर्या राजेश को लॉन्च किया।

भारत के पे-पर-व्यू मॉडल की प्रतिक्रिया देते हुए शेमारू एंटरटेनमेंट के प्रवक्ता ने कहा, “निर्माताओं को एक प्लेटफॉर्म मिला है, जहां वे अपनी फिल्मों को रिलीज करने और मंच पर रिलीज के बाद आगे के मुद्रीकरण के लिए उसका उपयोग करने का मौका मिला है। साथ ही उन्हें एक पारदर्शी प्रणाली भी मिली है, जहां वे न सिर्फ अपनी फिल्मों की प्रगति को ट्रैक कर सकते हैं, बल्कि टिकट बिक्री के डैशबोर्ड तक सीधी पहुंच भी बना सकते हैं।”

प्रवक्ता ने आगे कहा, “साथ ही दर्शकों को फिल्मों का आनंद मिलता है। हमने फिल्म आलोचकों, उद्योग संरक्षकों और समीक्षकों को मंच पर अपना समर्थन देने के लिए पूरे इकोसिस्टम को स्वीकार करने और टीवीओडी प्लेटफॉर्म को स्वीकार करते हुए देखा है। हमें लगता है कि मॉडल को भारत में भी अपार सफलता और लोकप्रियता मिलेगी। अभी के लिए, यह एक बहुत ही प्रयोगात्मक चरण है और हमने अब तक अच्छा आकर्षण देखा है।”

यह भी पढ़ें – हॉरर फिल्म ‘तुम्बाड’ में ‘हस्तर’ किरदार का रहस्य

Cinema Halls
हाल ही में देश के कई जगहों पर सिनेमा हॉल्स को कोरोना दिशा निर्देशों के साथ खोल दिया गया है। (Unsplash)

एक अन्य उभरती हुआ ट्रेंड टेली-फिल्म है, एक ऐसा ट्रेंड जो नब्बे के दशक में दर्शकों के बीच लोकप्रिय हुआ करती थी। गुलशन देवैया और सागरिका घाटगे अभिनीत ‘फुटफेयरी’ का उद्देश्य ओटीटी प्रीमियर के युग में ‘टीवी फस्र्ट’ की रिलीज पर ध्यान केंद्रित कराना है। फुटफेयरी एंड टीवी पर रिलीज होगा।

चैनल की ओर से रुचिर तिवारी ने घोषणा करते हुए कहा था, “इस साल जहां नई फिल्में सिनेमाघरों की जगह ओटीटी प्लेटफार्मों पर आ रही हैं, वहीं हम ‘फुटफेयरी’ के लॉन्च के साथ भारतीय टीवी स्पेस में एक नया बेंचमार्क सेट करने के लिए तैयार हैं, जो कि ‘टीवी फस्र्ट’ रिलीज है।”

बालाजी टेलीफिल्म्स लिमिटेड के ऑल्ट बालाजी एंड ग्रुप के सीओओ नचिकेत पंतवैद्य के अनुसार, लॉकडाउन फेज ने ‘दर्शकों के कंटेंट की खपत की आदतों को बदलने में एक उत्प्रेरक के तौर पर काम किया है।’

पंतवैद्य ने कहा, “दर्शकों की मानसिकता धीरे-धीरे बदल रही है, जिसमें वे गुणवत्तापूर्ण कंटेंट के लिए भुगतान करने को तैयार हैं, जो कि पहले ऐसा नहीं था। यह परिवर्तन निश्चित रूप से कंटेंट के लिए दर्शकों का एक बड़ा नमूना आकार तैयार करेगा, चाहे वह भारतीय ओरिजनल्स हो, फिल्में, संगीत, हो या ओटीटीएल प्लेटफार्मों पर उपलब्ध खेल हो।” (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
167FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी