Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
इतिहास

स्वर्ण युग के विनाशकारी एक खानाबदोश “हूण जाति” !

हूण एशिया की खानाबदोश व बर्बर जाति में से एक थी। जिसने चौथी से पांचवी शताब्दी के दौरान सम्पूर्ण विश्व में अपना वर्चस्व फैलाया हुआ था।

हूण एशिया (Asia) की खानाबदोश व बर्बर जाति में से एक थी। (Wikimedia Commons)

सदियों से हमारे भारत (India) पर कई आक्रमण हुए हैं। अलग-अलग समुदायों, प्रजातियों ने हमेशा से भारत पर अपना वर्चस्व स्थापित करना चाहा है। जिनमें से कइयों के बारे में, जैसे मुग़ल साम्राज्य (Mughal Empire), गुप्त साम्राज्य (Gupt Dynasty) , चोल वंश (Chol vansh) तथा जातियों में, सामंत, दक्कन के वाकटक आदि के बारे में हम हमेशा से पढ़ते आएं हैं या सुनते आएं हैं। लेकिन थोड़ा इतिहास की गहराइयों में झाकेंगे तो आपको ज्ञात होगा की ऐसे बहुत से आक्रमण भारत पर हुए हैं जिसने भारत की सामाजिक, धार्मिक, सांस्कृतिक व आर्थिक स्तिथि को बहुत चोट पहुंचाई है। आज उसी इतिहास से संबंधित एक विशेष जाति हूण जाति के बारे में जानेंगे, जिन्होंने 5 वीं शताब्दी के दौरान भारत पर कई बार आक्रमण किया था।

हूण एशिया (Asia) की खानाबदोश व बर्बर जाति में से एक थी। जिसने चौथी से पांचवी शताब्दी के दौरान सम्पूर्ण विश्व में अपना वर्चस्व फैलाया हुआ था। मुख्य रूप से यह जाति चीन के उत्तर पश्चमी कोने पर बसती थी। भारतीय इतिहासकारों का मानना है कि यह हूण बंजारा जाती का मूल वोल्गा (रूस की एक नदी ) के पूर्व में था। यूरोप (Europe) के एक प्रसिद्ध लेखक “गिबन", इन हूणों के बारे में लिखते हैं कि “सारे यूरोप(Europe) में गाथ ओर वेंडल नामक असभ्यों ने अपना उत्पात मचा रखा था, लेकिन जैसा प्रभाव हूणों का था और कोई भी अपना अधिकार स्थापित नहीं कर सका था। उनका समूचा समुह वोलगा नदी (Volga River) से लेकर डैन्यूब नदी (Denube River) तक फैला हुआ था। इनके आक्रमणों से पूरे एशिया और यूरोप महाद्वीप में हाहाकार मचा हुआ था।


माना जाता है कि ये हूण सबसे पहले 350 ईसवीं में बादशाह शापूर के समय में फारस की पूर्वी सीमा पर पहुंचे थे। भारत के संदर्भ में बात करें तो जिन हूणों का भारतीय इतिहास में जिक्र मिलता है वे श्वेत हूण हैं। भारतवर्ष में हूण लोग गुप्त साम्राज्य के आस-पास देखने की मिलते हैं। उस समय वहां के सम्राट “कुमारगुप्त" थे। लेकिन दुर्भाग्यवश कुमारगुप्त (Kumargupt), हूणों का सामना नहीं कर पाए थे। उन्हें बूरी तरह हार का सामना करना पड़ा था। हूणों ने दूसरा आक्रमण स्कंदगुप्त (Skandgupt) के काल के दौरान किया था परन्तु इस बार उन्हें भीषण हार का सामना करना पड़ा था। स्कंदगुप्त ने इन हूणों को गुप्त साम्राज्य (Gupt Dynasty) से खदेड़ बाहर निकाल दिया था। उस समय पहली बार हूणों की नींव ढीली पड़ गई थी।

लेकिन देखते ही देखते इन खानाबदोश हूणों ने 5वीं शताब्दी के दौरान गांधार देश ( जिसे आज रावल पिंडी से काबुल तक का प्रदेश माना जाता है) से फिर एक बार धीरे – धीरे अपना वर्चस्व फैलाना शुरू किया था। हूण के श्रेष्ठ राजा तोरमाण ने सबसे पहले मालवा (Malwa) पर विजय प्राप्त की और वहीं अपना स्थायी निवास बना लिया। तोरमाण के नेतृत्व में हूणों ने भारत पर कई बार आक्रमण किए और इसी में आगे बढ़ते हुए उसने पंजाब पर भी अपना वर्चस्व स्थापित किया था। पश्चिम भारत के कई क्षेत्रों पर इन्होंने अपना अधिकार स्थापित किया था।

बाणभट्ट (Banabhatta) ने अपने हर्षचरित में हूणों के आक्रमणों के बारे में काफी विस्तार पूर्वक उल्लेख किया है। उनका उल्लेख दर्शाता है कि कैसे हूणों ने आज पंजाब (Punjab), राजस्थान (Rajasthan), कश्मीर (Kashmir), पूर्वी मालवा आदि अन्य कई क्षेत्रों पर अपना कब्ज़ा किया था।

तोरमाण के बाद उसके पुत्र मिहिरकुल ने सत्ता हासिल की थी। माना जाता है कि यह एक अत्यंत क्रूर शासक था। इसकी बर्बरता का उल्लेख चीनी यात्री हुएनसांग (Xuanzang) ने बौद्ध के भयंकर उत्पीड़क के रूप में किया है। मिहीरकुल ने पंजाब स्तिथ साकल (सियालकोट) को अपनी राजधानी बनाई थी। यह कहा जाता है कि मिहिरकूल शैव सम्प्रदाय का अनुयायी था। उसने अपने शासनकाल में सैकड़ों शिव मंदिर का निर्माण करवाया था। जिसमें श्रीनगर के पास मिहिरेश्वर नामक भव्य शिव मंदिर प्रसिद्ध है। मिहीरकूल ने भारत की जनता , उसकी संस्कृति को जितना नुकसान पहुंचाया था, वो भारतीय संस्कृति यहां के लोगों पर सबसे बड़ी चोट थी। मिहीरकूल बहुत अंत में जाकर पराजित हुआ था और यहीं से हूण वंश की बर्बरता, उनका उद्वंश समाप्त हो गया था।

ऐसा माना जाता है कि बचे हुए हूण जाति के लोग भारत छोड़ कर नहीं गए थे बल्कि उन्होंने यहीं की संस्कृति को अपना लिया था। स्थाई रूप से यही बस गए थे।

हूणों का अधिकार भारत के कई क्षेत्रों पर रहा था और इसका प्रभाव गंभीर रूप से भारत की राजनीति, सामाजिक, धार्मिक, सांस्कृतिक, आर्थिक स्तिथि पर पड़ा था। सांस्कृतिक रूप से बात करें तो हूणों के हाहाकार, उनकी बर्बरता ने भारत के कई मठों , मंदिरों , ग्रंथों का सम्पूर्ण विनाश कर दिया था और यही कारण है कि आज हम इतिहास के कई पन्नों से अनभिज्ञ हैं। सामाजिक रूप से नजर दौड़ाएं तो ज्ञात होगा कि हूणों का आक्रमण गुप्त साम्राज्य के दौरान हुआ था। हूणों ने उस समय समूचे गुप्त साम्राज्य का विनाश कर दिया था। स्वर्ण युग कहलाने वाले गुप्त वंश को बेहद नुकसान पहुंचाया था। उस समय ये भारतीय राजनैतिक एकता पर सबसे बड़ा चोट था।

यह भी पढ़े :- सामाजिक – धार्मिक सुधार आंदोलनों का प्राचीन इतिहास !

जैसा कि हमने ऊपर पढ़ा कि चीनी यात्री हुएनसांग (Xuanzang) ने हूण जाति में मिहिरकुल को बौद्ध धर्म (Buddhism) का विनाशकारी कहा है। इससे पता चलता है कि कैसे हूणों ने बौद्ध धर्म के कई स्तूपों का मठों का यहां तक कि संपूर्ण बौद्ध धर्म का विध्वंश कर डाला था। हिन्दू धर्म (Hindu Religion) में साथ – साथ इन खानाबदोश जातियों ने अन्य धर्मों को भी क्षति पहुंचाई थी।

इस तरह हमने देखा कि कैसे एक खानाबदोश हूण जाति ने चौथी से पांचवीं शताब्दी के दौरान भारत पर कई आक्रमण किए और उसे गंभीर रूप से कई बार क्षति पहुंचाई।

Popular

नागरिक उड्डयन मंत्रालय की तरफ से चलाई जा रही है कृषि उड़ान 2.O योजना(Wikimedia commons)

नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने बुधवार को कृषि उड़ान 2.0' योजना का शुभारंभ करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सिंधिया ने कहा कि 'कृषि उड़ान 2जेड.0' आपूर्ति श्रृंखला में बाधाओं को दूर कर किसानों की आय दोगुनी करने में मदद करेगी। यह योजना हवाई परिवहन द्वारा कृषि-उत्पाद की आवाजाही को सुविधाजनक बनाने और प्रोत्साहित करने का प्रस्ताव करती है।

सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने कहा, "यह योजना कृषि क्षेत्र के लिए विकास के नए रास्ते खोलेगी और आपूर्ति श्रृंखला, रसद और कृषि उपज के परिवहन में बाधाओं को दूर करके किसानों की आय को दोगुना करने के लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करेगी। क्षेत्रों (कृषि और विमानन) के बीच अभिसरण तीन प्राथमिक कारणों से संभव है - भविष्य में विमान के लिए जैव ईंधन का विकासवादी संभावित उपयोग, कृषि क्षेत्र में ड्रोन का उपयोग और योजनाओं के माध्यम से कृषि उत्पादों का एकीकरण और मूल्य प्राप्ति।"

Keep Reading Show less

चंदा बंद सत्याग्रह जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। (File Photo)

सत्याग्रह का सामन्य अर्थ होता है "सत्य का आग्रह।" सर्वप्रथम इसका प्रयोग महात्मा गांधी द्वारा किया गया था। उन्होंने भारत में कई आंदोलन चलाए, जिनमें चंपारण, बारदोली, खेड़ा सत्याग्रह आदि प्रमुख। हैं। सत्याग्रह स्वराज प्राप्त करने और सामाजिक संघर्षों को मिटाने का एक नैतिक और राजनीतिक अस्त्र है। आज हम ऐसे ही एक सत्याग्रह की बात करेंगे जिसे गांधी जी से प्रेणा लेकर शुरू किया गया था।

"चंदा बंद सत्याग्रह" जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर वह NRI सेल के सह-संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था। डॉ. मुनीश जब आम आदमी पार्टी से जुड़े थे, तब उन्हें पार्टी के NRI सेल का सह-संयोजक नियुक्त किया गया था।

Keep Reading Show less

वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Pixabay)

कोरोना काल में जब सब कुछ बंद चल रहा था । झारखंड के पलामू टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) में कोरोना काल के दौरान सैलानियों और स्थानीय लोगों का प्रवेश रोका गया तो यहां जानवरों की आमद बढ़ गयी। इस वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है। आप को बता दे कि लगभग एक दशक के बाद यहां हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा की भी आमद हुई है। इसे लेकर परियोजना के पदाधिकारी उत्साहित हैं। पलामू टाइगर प्रोजेक्ट(Palamu Tiger Reserve) के फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि लोगों का आवागमन कम होने जानवरों को ज्यादा सुरक्षित और अनुकूल स्पेस हासिल हुआ और इसी का नतीजा है कि अब इस परियोजना क्षेत्र में उनका परिवार पहले की तुलना में बड़ा हो गया है।

पिछले हफ्ते इस टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) के महुआडांड़ में हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा के एक परिवार की आमद हुई है। फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष के मुताबिक एक जोड़ा नर-मादा चौसिंगा और उनका एक बच्चा ग्रामीण आबादी वाले इलाके में पहुंच गया था, जिसे हमारी टीम ने रेस्क्यू कर एक कैंप में रखा है। चार सिंगों वाला यह हिरण देश के सुरक्षित वन प्रक्षेत्रों में बहुत कम संख्या में है।

Palamu Tiger Reserve वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Unsplash)

Keep reading... Show less