Saturday, April 17, 2021
Home देश Mission Karmayogi: नागरिक सेवकों को और रचनात्मक बनाने की दिशा में एक...

Mission Karmayogi: नागरिक सेवकों को और रचनात्मक बनाने की दिशा में एक कदम

इस योजना का उद्देश्य भारतीय नागरिक (सिविल) सेवकों को भविष्य के लिए और अधिक रचनात्मक, रचनात्मक, कल्पनाशील, अभिनव, सक्रिय, पेशेवर, प्रगतिशील, ऊजार्वान, सक्षम, पारदर्शी और प्रौद्योगिकी-सक्षम बनाकर तैयार करना है।

By: रजनीश सिंह

सबसे बड़ी नौकरशाही सुधार पहल के रूप में लाई गई, केंद्र सरकार की ‘मिशन कर्मयोगी(Mission Karmayogi), सिविल सेवकों के लिए एक नई क्षमता-निर्माण योजना, सभी स्तर पर अधिकारियों और कर्मचारियों की भर्ती के बाद के प्रशिक्षण तंत्र को अपग्रेड करना सुनिश्चित कर रही है।इस योजना का उद्देश्य भारतीय नागरिक (सिविल) सेवकों को भविष्य के लिए और अधिक रचनात्मक, रचनात्मक, कल्पनाशील, अभिनव, सक्रिय, पेशेवर, प्रगतिशील, ऊजार्वान, सक्षम, पारदर्शी और प्रौद्योगिकी-सक्षम बनाकर तैयार करना है। कार्यक्रम ‘मिशन कर्मयोगी(Mission Karmayogi)’ को आइगॉटकर्मयोगी क नामक एक डिजिटल प्लेटफॉर्म की स्थापना के माध्यम से दिया जा रहा है। विभिन्न अकादमियों में सिविल सेवकों के प्रशिक्षण का पुनर्गठन किया जा रहा है, ताकि आइगॉट के डिजिटल लर्निग प्लेटफॉर्म का इष्टतम उपयोग किया जा सके।

विशिष्ट भूमिका-दक्षताओं से युक्त, एक सिविल सेवक चल रही योजना के माध्यम से उच्चतम गुणवत्ता मानकों की कुशल सेवा वितरण सुनिश्चित करने में सक्षम होगा। यह मंच राष्ट्रीय कार्यक्रम के लिए सिविल सेवा क्षमता निर्माण (एनपीसीएससीबी) के लिए एक लॉन्चपैड के रूप में कार्य करता है, जिसका उद्देश्य व्यक्तिगत, संस्थागत और प्रक्रिया स्तरों पर क्षमता निर्माण तंत्र के व्यापक सुधार को सक्षम करना है। सिविल सेवा क्षमता निर्माण के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम (एनपीसीएससीबी), जिसे ‘मिशन कर्मयोगी’ के रूप में जाना जाता है, सिविल सेवा क्षमता निर्माण के माध्यम से शासन को बढ़ाने के उद्देश्य से छह स्तंभों पर केंद्रित है।

मिशन कर्मयोगी की छह नीतिगत रूपरेखाएं संस्थागत ढांचे, योग्यता फ्रेमवर्क, डिजिटल लर्निग फ्रेमवर्क (एकीकृत सरकारी ऑनलाइन प्रशिक्षण कर्मयोगी प्लेटफार्म (iGot-Karmayogi), इलेक्ट्रॉनिक मानव संसाधन प्रबंधन प्रणाली (ई-एचआरएमएस), और निगरानी और मूल्यांकन फ्रेमवर्क पर ध्यान केंद्रित करती हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(PM Narendra Modi) ने अभ्यास पर अपने विचार व्यक्त करते हुए, पहले कहा था कि यह सरकार के मानव संसाधन प्रबंधन प्रथाओं में ‘मौलिक’ सुधार करेगा। मोदी ने यह भी दावा किया है कि ‘मिशन कर्मयोगी’ सिविल सेवकों की क्षमता बढ़ाने के लिए अत्याधुनिक बुनियादी ढांचे का उपयोग करेगा।

PM Narendra Modi
प्रधानमंत्री मोदी सितम्बर 2020 में इस मिशन का आगाज़ किया था।(PIB)

इस कार्यक्रम को प्रधानमंत्री(PM) की सार्वजनिक मानव संसाधन परिषद के साथ सिविल सेवा क्षमता निर्माण के लिए संस्थागत ढांचा प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा पिछले साल 2 सितंबर को मंजूरी दी गई थी। अनुमोदन कैबिनेट सचिवालय समन्वय इकाई, क्षमता निर्माण आयोग, विशेष प्रयोजन वाहन (एसपीवी) और कार्यक्रम प्रबंधन इकाई (पीएमयू) कार्यक्रम प्रबंधन और समर्थन सेवाएं प्रदान करने के लिए किया गया था। मिशन कर्मयोगी का तकनीकी डिजिटल लर्निग प्लेटफॉर्म प्री-प्रोडक्शन (प्रायोगिक) चरण में कार्यात्मक हो गया है, जिस पर केंद्रीय और अन्य प्रशिक्षण संस्थानों द्वारा विभिन्न प्रकार के शिक्षण पाठ्यक्रम अपलोड किए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: CBSE स्कूलों के लिए 100 से अधिक ग्राफिक कॉमिक पुस्तकें

महत्वपूर्ण राष्ट्रीय ध्वजवाहक कार्यक्रमों और परियोजनाओं को लागू करने वाले मंत्रालयों और विभागों से उनके कार्यक्रमों और परियोजनाओं के संबंध में ‘ई-सामग्री’ विकसित करने का अनुरोध किया गया है, जिसमें सिविल सेवा सुधारों और क्षमता निर्माण के लिए रणनीतिक दिशा प्रदान करना शामिल है, वार्षिक क्षमता निर्माण योजनाओं की तैयारी, प्रशिक्षण संस्थानों पर कार्यात्मक पर्यवेक्षण को मजबूत करना और कक्षा सीखने की सामग्री में सर्वश्रेष्ठ प्रदान करने वाला एक डिजिटल लर्निग प्लेटफॉर्म प्रदान करता है। यह प्रभावी नागरिक केंद्रित वितरण के लिए प्रशिक्षित कार्यबल की बेहतर उपलब्धता पर ध्यान केंद्रित करने, प्रशिक्षण कर्मियों के प्रबंधन के लिए डेटा-संचालित निर्णयों को सक्षम करने और शासन में पारदर्शिता और जवाबदेही बढ़ाने पर भी जोर देता है।(आईएएनएस-SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,646FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

हाल की टिप्पणी