Saturday, June 12, 2021
Home ओपिनियन 26 नवंबर : 'आप' का स्थापना दिवस या कहें "काला दिवस" ?

26 नवंबर : ‘आप’ का स्थापना दिवस या कहें “काला दिवस” ?

26 नवंबर 2012 को अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी का गठन हुआ था। इस अवसर पर पार्टी के पूर्व एन.आर.आई सहसंयोजक डॉ मुनीश रायज़ादा ने पार्टी के संदर्भ में अपने विचार रखे।

आम आदमी पार्टी के स्थापना दिवस के अवसर पर पार्टी के पूर्व एन.आर.आई सहसंयोजक डॉ मुनीश रायज़ादा ने इस दिन को ” काला दिवस “ कह कर वर्णित किया है ।

साल 2012 में 26 नवंबर को, अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में, देश की राजनीतिक संस्कृति को नई शक्ल देने की मंशा से पार्टी का गठन हुआ था। और नतीजतन 2013 में आम आदमी पार्टी, राजधानी दिल्ली की कुर्सी पर विराजमान हो गई।

‘आप’ ने मूलतः तीन सिद्धांतों को पार्टी का आधार बताया था। पहला – चंदा की पारदर्शिता, दूसरा – आंतरिक स्वराज, और तीसरा – आंतरिक अंकुश। इन सिद्धांतों के माध्यम से पार्टी ने सियासत और समाज के बीच की खाई को कम करने, और पार्टी के भीतर लोकतंत्र का आवाहन कर, सम्पूर्ण पारदर्शिता के साथ, परिवर्तन की बुनियाद रखने की अपनी प्रबल इच्छा को स्पष्ट किया था।

इस ओर डॉ मुनीश रायज़ादा का कहना है कि बीते सात सालों में, पार्टी ने पैसे से सत्ता और सत्ते से पैसा कमाने की दौड़ में पारदर्शिता को धूमिल कर निराशावाद सियासत का उदाहरण पेश किया है।

यह भी पढ़ें – ‘ट्रांसपेरेंसी: पारदर्शिता’ देखने के बाद !

डॉ रायज़ादा ने अपनी असंतुष्टता को डॉक्यूमेंट्री सीरीज़ ‘ट्रांसपेरेंसी:पारदर्शिता’ से और व्यापक कर दिया है। डॉक्यूमेंट्री के निर्माता – निर्देशक वह स्वयं है ।

काले धन की राजनीति और चंदा चोरी की ओर इशारा करती हुई इस डॉक्यूमेंट्री ने कई फैसलों पर सवाल खड़े कर दिए हैं, जैसे कि इलेक्टोरल बॉण्ड । 

देश में अव्यवस्थित पारदर्शिता को ‘ट्रांसपेरेंसी:पारदर्शिता’ डॉक्यूमेंट्री के गीत भी प्रत्यक्ष रूप से सामने लाते हैं। उदित नारायण की आवाज़ में ‘कितना चंदा जेब में आया’ गीत की एक पंक्ति में अन्नू रिज़वी ने लिखा है, “पारदर्शिता पानी जैसी, ये ना हो तो ऐसी तैसी।”

डॉक्यूमेंट्री सीरीज़, ‘ट्रांसपेरेंसी: पारदर्शिता’ इस समय –

भारतीय दर्शकों के लिए एम.एक्स प्लेयर पर नि:शुल्क उपलब्ध है।

यू.एस.ए और यूके के दर्शकों के लिए अमेज़न प्राइम पर मौजूद है।

डॉक्यूमेंट्री को ट्रांसपेरेंसी की वेबसाइट पर भी देखा जा सकता है।

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी