Monday, June 14, 2021
Home संस्कृति Shankaracharya Jayanti 2021 : जिन्होंने सनातन धर्म को पुनर्स्थापित किया था|

Shankaracharya Jayanti 2021 : जिन्होंने सनातन धर्म को पुनर्स्थापित किया था|

शंकराचार्य जी, जिन्होंने भारत के पूर्व से लेकर पश्चिम तक और उत्तर से लेकर दक्षिण तक सम्पूर्ण भारत को एक सूत्र में पिरोने का कार्य किया था।

आदि शंकराचार्य जी ने कहा था कि “ज्ञान ही मुक्ति का कारण है।” अर्थात अपने ज्ञान को बढ़ाकर हमें प्रगति के पथ पर चलना चाहिए। 

आज हिन्दू दार्शनिक और धर्म गुरु आदि शंकराचार्य जी की जयंती है। उनकी जयंती पर हम उन्हें कोटी – कोटी नमन करते हैं। जिस दौरान भारत भूमि पर सनातन धर्म क्षीण हो रहा था। उस समय शंकराचार्य जी ने सनातन धर्म को पुनर्स्थापित करने का बेड़ा उठाया था। वैशाख शुक्ल पक्ष की पंचमी के दिन जन्मे आदि शंकराचार्य जी ने हिन्दू धर्म को सफलतापूर्वक पुनर्स्थापित किया था। 

जगतगुरु आदि शंकराचार्य जी का जन्म 788 ई ० में केरल के मालाबार तट के निकट एक छोटे से गांव में हुआ था। माना जाता है कि, शंकराचार्य जी साक्षात भगवान शिव के अवतार थे, जिन्होंने मात्र 8 वर्ष की आयु में गृह त्याग दिया था और 32 वर्ष की उम्र में मोक्ष को प्राप्त कर लिया था। 

Shankaracharya Temple
प्राचीन शंकराचार्य मंदिर (श्रीनगर, जम्मू और कश्मीर)| (Wikimedia Commons)

शंकराचार्य जी को, सनातन धर्म का प्राणधार भी कहा जाता है। उन्होंने भारत के पूर्व से लेकर पश्चिम तक और  उत्तर से लेकर दक्षिण तक सम्पूर्ण भारत को एक सूत्र में पिरोने का कार्य किया था। 

शंकराचार्य जी जन्म से ही अलग प्रवृत्ति के थे। जो कुछ सुनते या पढ़ते थे उस मस्तिष्क में संचित कर लेते थे। शंकराचार्य जी ने सभी वेदों, उपनिषदों का ज्ञान अल्पायु में ही प्राप्त कर लिया था। समय के साथ उनका ज्ञान बढ़ता गया और उन्होंने अपने उपदेशों, रचनाओं के माध्यम से देश में अलग – अलग  मठों की स्थापना की। अपने ज्ञान से उन्होंने समाज को सही दिशा दिखाने के लिए कई धार्मिक ग्रंथ भी लिखे थे। शंकराचार्य जी ने भारत के चार कोनों पर चार मठों की स्थापना की थी। पूर्व दिशा में जगन्नाथ पूरी में गोवर्धन मठ, पश्चिम दिशा में द्वारिका में शारदा मठ  की स्थापना की थी। उत्तर दिशा में बद्रिकाश्रम में ज्योर्तिमठ की स्थापना की थी और दक्षिण में में श्रृंगेरी मठ की स्थापना की थी। देश के चार कोनों में शक्ति मठ की स्थापना करके उन्होंने सनातन धर्म के बारे में लोगों को अवगत कराया था।

यह भी पढ़ें :- Parshuram Jayanti: भगवान परशुराम के जीवन से वह सीख जिसे आज हमें सीखना चाहिए!

शंकराचार्य जी ने अपने मूल्यवान विचारों से न केवल भारत में लोगों को अपने ज्ञान से सही मार्ग दिखाया, बल्कि विश्व भर में उन्होंने सभी को हिन्दू धर्म का महत्व बताया। हिन्दू धर्म से अवगत कराया। इस वजह से उनकी जयंती को न केवल भारत में बल्कि विदेशों में भी धूमधाम से मनाया जाता है। 

इस प्रकार भारत राष्ट्र के एकीकरण का काम जो आदि शंकराचार्य जी ने किया था। वह अद्भुत था। उनका चमत्कार ही था कि, उनके ज्ञान और उपदेशों को आज भी सारा संसार जनता है। 

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी