Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

2005 के बाद चक्रवात से प्रभावित भारतीय जिलों की संख्या तीन गुना हुई

2005 के बाद भारत में चक्रवातों (Cyclones) से प्रभावित जिलों की संख्या का वार्षिक औसत तीन गुना और चक्रवात की आवृत्ति दोगुनी हो गई है।

चक्रवात हॉटस्पॉट जिले मुख्य रूप से पूर्वी तट पर केंद्रित हैं। (Pixabay)

भारत के 75 प्रतिशत से अधिक जिले चरम जलवायु घटनाओं के लिए हॉटस्पॉट हैं। पूर्वी तट पर, 90 प्रतिशत से अधिक जिले चक्रवात, बाढ़, सूखे और उनसे जुड़ी घटनाओं के लिए हॉटस्पॉट हैं। इन जिलों में 25 करोड़ से अधिक लोग रहते हैं। हाल के चक्रवात के पीछे, पूर्वी तट से टकराने वाले यास, ऊर्जा, पर्यावरण और जल परिषद (सीईईडब्ल्यू) ने पश्चिम बंगाल (West Bengal) और ओडिशा (Odisha) में एक स्वतंत्र विश्लेषण किया है।

सीईईडब्ल्यू के एक अध्ययन के अनुसार, 2005 के बाद भारत में चक्रवातों (Cyclones) से प्रभावित जिलों की संख्या का वार्षिक औसत तीन गुना और चक्रवात की आवृत्ति दोगुनी हो गई है। पिछले एक दशक में ही 258 जिले प्रभावित हुए हैं।

चक्रवात हॉटस्पॉट जिले मुख्य रूप से पूर्वी तट पर केंद्रित हैं। इनमें बालेश्वर, पूर्वी गोदावरी, हावड़ा, केंद्रपाड़ा, नेल्लोर, उत्तर 24 परगना, पश्चिम मेदिनीपुर, पुरी, शिवगंगा, तूतीकोरिन और पश्चिम गोदावरी शामिल हैं।

पूर्वी तट के जिलों में, पिछले 50 वर्षों में चक्रवातों और तूफानी लहरों की आवृत्ति सात गुना बढ़ गई है। 2005 के बाद से, प्रभावित जिलों की संख्या में दशकीय आधार पर पांच गुना वृद्धि हुई है।

अध्ययन के अनुसार, पूर्वी तट पर संबंधित चक्रवात की घटनाओं में 20 गुना वृद्धि हुई है जैसे कि तूफान, भारी वर्षा, बाढ़ और गरज। (Pixabay)


अध्ययन के अनुसार, पूर्वी तट पर संबंधित चक्रवात की घटनाओं में 20 गुना वृद्धि हुई है जैसे कि तूफान, भारी वर्षा, बाढ़ और गरज। इसके अलावा, जबकि पूर्वी तट चक्रवात पूर्व-मानसून मौसम की तुलना में मानसून के बाद के मौसम में अधिक बार आते हैं, पिछले दशक में इस पैटर्न में उलटफेर हुआ है।

पूर्वी तट के आधे से अधिक चक्रवात हॉटस्पॉट जिलों में सूखे या सूखे जैसी स्थिति देखी जा रही है। पूर्वी तट के गर्म होने वाले क्षेत्रीय माइक्रॉक्लाइमेट – भूमि उपयोग परिवर्तन और प्राकृतिक पारिस्थितिक तंत्र के बिगड़ने जैसे कारकों से प्रेरित प्री-मानसून और पोस्ट-मानसून दोनों मौसमों में बंगाल की खाड़ी में तेज चक्रवाती गतिविधि को जन्म दिया है।

यह भी पढ़ें :- मास्क नहीं लगाया, तो रोपिए पांच पौधे!

अध्ययन में कहा गया है कि पूर्वी तट के राज्यों में बाढ़ की आवृत्ति पंद्रह गुना बढ़ गई है। 8.1 करोड़ से अधिक लोगों को उजागर करते हुए, प्रभावित जिलों की संख्या में 13 गुना वृद्धि हुई है। पूर्वी तट पर बाढ़ के हॉटस्पॉट में बांकुरा, चेन्नई, कटक, पूर्वी गोदावरी, जगतसिंहपुर और विशाखापत्तनम शामिल हैं।

जबकि पूर्वी तट पारंपरिक रूप से चक्रवात और बाढ़ के लिए अधिक प्रवण रहा है, हाल के दशकों में सूखे में सात गुना वृद्धि हुई है। पूर्वी तट राज्यों में सूखे के हॉटस्पॉट में अनंतपुर, अंगुल, बालेश्वर, बांकुरा, कोयंबटूर, कांचीपुरम, कंधमाल, मदुरै, नलगोंडा, प्रकाशम, पुरुलिया, सुंदरगढ़ और तिरुपुर शामिल हैं। (आईएएनएस-SM)

Popular

कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। (IANS)

वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे बड़े खिलाड़ी और कप्तान विराट कोहली ने गुरूवार को घोषणा की कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 प्रारूप की कप्तानी छोड़ेंगे। उनका ये एलान करोड़ो दिलो को धक्का देने वाला था क्योंकि कोहली को हर कोई कप्तान के रूप में देखना चाहता है । कई दिनों से चल रहे संशय पर विराम लगाते हुए कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। कोहली ने बताया कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 के कप्तानी पद को छोड़ देंगे।

ट्वीट के जरिए उन्होंने इस यात्रा के दौरान उनका साथ देने के लिए सभी का धन्यवाद दिया। कोहली ने बताया कि उन्होंने यह फैसला अपने वर्कलोड को मैनेज करने के लिए लिया है। उनका वर्कलोड बढ़ गया था ।

Keep Reading Show less

मंगल ग्रह की सतह (Wikimedia Commons)

मंगल ग्रह पर घर बनाने का सपना हकीकत में बदल सकता हैं। वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष यात्रियों के खून, पसीने और आँसुओ की मदद से कंक्रीट जैसी सामग्री बनाई है, जिसकी वजह से यह संभव हो सकता है। मंगल ग्रह पर छोटी सी निर्माण सामग्री लेकर जाना भी काफी महंगा साबित हो सकता है। इसलिए उन संसाधनों का उपयोग करना होगा जो कि साइट पर प्राप्त कर सकते हैं।

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के अध्ययन में यह पता लगा है कि मानव रक्त से एक प्रोटीन, मूत्र, पसीने या आँसू से एक यौगिक के साथ संयुक्त, नकली चंद्रमा या मंगल की मिट्टी को एक साथ चिपका सकता है ताकि साधारण कंक्रीट की तुलना में मजबूत सामग्री का उत्पादन किया जा सके, जो अतिरिक्त-स्थलीय वातावरण में निर्माण कार्य के लिए पूरी तरह से अनुकूल हो।

Keep Reading Show less

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (instagram , virat kohali)

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री का लोहा इन दिनों हर जगह माना जा रहा है । इसी क्रम में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने कहा है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री हाल के दिनों में टेस्ट क्रिकेट के महान समर्थक और प्रमोटर हैं। साथ ही उन्होंने कोहली की तारीफ भी की खेल को प्राथमिकता देते हुए वो वास्तव में टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहते हैं।"
ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने इस बात पर अपनी चिंता व्यक्त की ,कि भविष्य में टेस्ट क्रिकेट कब तक प्राथमिकता में रहेगा। उन्होंने कहा, "चिंता यह है कि यह कब तक जारी रहेगा। उनका यह भी कहना है किइसमें कोई संदेह नहीं है कि जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते हैं और नई पीढ़ी आती है, मेरे जैसे लोगों को जिस तरह टेस्ट क्रिकेट से प्यार है यह कम हो सकता है और यह हमारी पुरानी पीढ़ी के लिए चिंता का विषय है।"

\u0930\u0935\u093f \u0936\u093e\u0938\u094d\u0924\u094d\u0930\u0940 भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी और वर्तमान कोच रवि शास्त्री (wikimedia commons)

Keep reading... Show less