Sunday, May 9, 2021
Home राजनीति शशिकला के राजनीति छोड़ने के फैसले पर अन्नाद्रमुक को संशय

शशिकला के राजनीति छोड़ने के फैसले पर अन्नाद्रमुक को संशय

अन्नाद्रमुक के एक वरिष्ठ नेता ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर आईएएनएस को बताया, "शशिकला धूम-धड़ाके के साथ आई थीं और बंगलुरु से चेन्नई तक वाहनों का काफिला इस बात का सबूत था कि वह राजनीति में कितनी गंभीरता से आना चाहती थीं।


 अन्नाद्रमुक नेतृत्व को वी.के. शशिकला के अचानक सक्रिय राजनीति से हटने के फैसले पर संशय है। अन्नाद्रमुक के एक वरिष्ठ नेता ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर आईएएनएस को बताया, “शशिकला धूम-धड़ाके के साथ आई थीं और बंगलुरु से चेन्नई तक वाहनों का काफिला इस बात का सबूत था कि वह राजनीति में कितनी गंभीरता से आना चाहती थीं। अचानक सक्रिय राजनीति छोड़ने का उनका फैसला इस लॉजिक को गलत ठहराता है और मुझे यकीन है कि इसके पीछे कोई चाल है।”

शशिकला और उनके भतीजे टी.टी.वी. दिनाकरन राजनीतिक प्रक्रिया में सक्रिय रूप से शामिल थे और यहां तक कि अन्नाद्रमुक विधायकों के साथ बातचीत कर रहे थे और पार्टी को विभाजित करने की कोशिश कर रहे थे। अचानक हुए निर्णय से यह संकेत मिलता है कि अगर अन्नाद्रमुक के वोट उनकी उपस्थिति के कारण बंट जाते हैं और अगर मोर्चा सत्ता खो देता है, तो शायद यह भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के साथ अच्छा नहीं जाए। यह सिद्धांत चेन्नई के राजनीतिक हलकों में उनके अचानक फैसले के बारे में सर्कुलेट हो रहा है, क्योंकि शशिकला के खिलाफ कई आर्थिक अपराध के मामले लंबित हैं।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष एल. मुरुगन ने शशिकला की प्रेस रिलीज के तुरंत बाद उनके फैसले का स्वागत किया था और कहा था कि शशिकला ने उन लोगों का पक्ष नहीं लिया है जो राजनीतिक भ्रम पैदा करके सत्ता हथियाने की कोशिश कर रहे थे। इसे भाजपा के भीतर विचार प्रक्रिया के रूप में देखा जाता है और पार्टी अन्नाद्रमुक के नेतृत्व वाले मोर्चे को राज्य में सत्ता गंवाते नहीं देखना चाहती, जिसका यह हिस्सा है।

 यह भी पढ़ें: बीजेपी के करीब जाते दिखे कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद

हालांकि, एक वर्ग ऐसा है, जिसकी राय है कि शशिकला के भतीजे दिनाकरन का राजनीतिक संगठन, अम्मा मक्कल मुनेत्र कड़गम (एएमएमके) थेवर समुदाय के गढ़ में अधिक से अधिक सीटों पर लड़ेगा और इन्हें जीतने की कोशिश करेगा। यह एक शक्ति केंद्र और एक दबाव समूह के रूप में पार्टी को आगे ले जाएगा और अन्नाद्रमुक को सत्ता हासिल करने के लिए इसके समर्थन की जरूरत हो सकती है।

सूत्रों का कहना है कि यह भाजपा को पसंद नहीं था, भले ही वह शशिकला के पक्ष में था और उनके (शशिकला के) समूह के अन्नाद्रमुक के साथ गठबंधन के पक्ष में था, हालांकि मुख्यमंत्री एडाप्पदी के. पलानीस्वामी और उपमुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम ने इसे स्वीकार नहीं किया था।

आरएसएस के विचारक और प्रसिद्ध चार्टर्ड अकाउंटेंट एस.गुरुमूर्ति अन्नाद्रमुक के साथ शशिकला गुट को जोड़ने की कोशिश करते रहे हैं, लेकिन मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री के अड़ियल रुख ने उस मिशन को विफल कर दिया है।
(आईएएनएस-Ak)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,640FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी