Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

कोराना वैक्सीन के आने से पहले लोगों में आ जाएगी हर्ड इम्यूनिटी

एम्स के निदेशक रंदीप गुलेरिया ने कहा कि कोरानावायरस के बढ़ते प्रकोप के बाद, जब हर्ड इम्युनिटी आ जाएगी तब वैक्सीन की भी जरूरत नहीं पड़ेगी।

कोराना वैक्सीन आने में लगेगा वक्त । ( Wikimedia commons )

By : सुमित सक्सेना

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एम्स) के निदेशक रंदीप गुलेरिया ने आईएएनएस के साथ एक खास बातचीत में कहा कि कोरानावायरस के बढ़ते प्रकोप के बाद हम एक ऐसी स्थिति में पहुंच जाएंगे, जब हर्ड इम्युनिटी आ जाएगी, और तब वैक्सीन की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। उन्होंने ये भी कहा कि अगर वायरस म्यूटेट नहीं होता है और इसमें कोई परिवर्तन नहीं आता है तो लोग वैक्सीन लगाने के बारे में सोच सकते हैं, लेकिन इसकी जरूरत नहीं है।


इंटरव्यू के कुछ अंश :

सवाल : अगर वैक्सीन 2021 के अंत तक या 2022 के शुरू में आता है तो क्या तब तक लोगों में इम्युनिटी नहीं आ जाएगी? लोग इस वायरस संक्रमण को सर्दी, खांसी जुकाम जैसी छोटी-मोटी बीमारी समझने लगें, तो इसका स्वास्थ्य पर कोई ज्यादा बुरा असर तो नहीं पड़ता है?

जवाब : यहां दो पहलू हैं। एक तो यह है कि वैक्सीन जल्दी आ जाए। अगर आ गया तो यह सबसे पहले उच्च जोखिम वाले समूह के लोगों को लगाया जाएगा। ऐसे लोगों को, जिनमें इंफेक्शन का चांस ज्यादा है, इससे हमें महामारी पर काबू पाने में जल्द मदद मिलेगी और संक्रमित मरीजों की संख्या में कमी आएगी।

लेकिन इस दौरान एक समय ऐसा आएगा, जब हम हर्ड इम्युनिटी पा लेंगे और लोग भी महसूस करेंगे कि उनमें इम्युनिटी आ गई है। ऐसी स्थिति में वैक्सीन की जरूरत नहीं पड़ेगी। अगर वायरस म्यूटेट नहीं करता है और उसमें कोई परिवर्तन नहीं आता है तो वैक्सीन की जरूरत पड़ेगी, क्योंकि दुबारा संक्रमण का खतरा बना रहेगा।

एक महत्वपूर्ण मुद्दा ये है कि वायरस में कैसे परिवर्तन आता है और लोगों को दुबारा संक्रमित कर सकता है या नहीं। हम अभी जांच ही कर रहे हैं कि आने वाले कुछ महीनों में वायरस कैसे व्यवहार करेगा और उसी के आधार पर कोई फैसला लिया जा सकता है कि कितनी जल्दी-जल्दी वैक्सीन लगाने की जरूरत पड़ेगी। अगर अच्छी हर्ड इम्युनिटी आ जाती है तो ये एक चुनौती होगी, क्योंकि वैक्सीन बनाने में काफी पैसा खर्च हुआ है और वैक्सीन निर्माता को ये चिंता सता रही है कि कहीं वैक्सीन की मांग न कम हो जाए।

यह भी पढ़े : एंटी ऑक्सीडेंट की दवाईयां मधुमेह के साथ कोरोना से भी लड़ने में सक्षम – अध्ययन

सवाल : आपने कोविड से उबरने वाले लोगों में साइड इफेक्ट के बारे में बात की है। अगर कोविड-19 कोरोनोवायरस फैमिली से है, तो साइड इफेक्ट क्यों होता है? क्या इसका स्वास्थ्य पर लंबे समय तक प्रभाव हो सकता है?

जवाब : पिछले वायरल संक्रमण ज्यादातर इन्फ्लूएंजा जैसे अन्य वायरस के कारण होते थे। इस कोरोनावायरस फैमिली में लगभग सात अन्य वायरस हैं। उनमें से चार से बस फ्लू जैसे लक्षण होते हैं, जो बहुत हल्के होते हैं। बाकी बचे तीन में से एक सार्स वायरस है, जिसे कंट्रोल कर लिया गया था। एक मर्स वायरस है जो कि उतना संक्रामक नहीं है।

इतने बड़े पैमाने पर कोरोनोवायरस दुनिया की पहली सबसे बड़ी महामारी है। पिछली महामारी इन्फ्लूएंजा वायरस के चलते हुई थी। कोरोनावायरस एक नया वायरस है जो श्वसन तंत्र को संक्रमित कर देता है। और उसके बाद कई प्रभाव होते हैं। यह वायरस रिसेप्टर्स से जुड़ जाता है जो शरीर में कई अंगों में मौजूद होते हैं। यह ब्लड वेसेल्स में सूजन पैदा कर देता है और यदि ये ब्लड वेसेल्स हृदय में हैं, तो इससे हृदय की मांसपेशियों को मायोकार्डियल क्षति हो सकती है। इससे थक्के बनने की संभावना अधिक होती है और स्ट्रोक भी लग सकता है। हालांकि कोविड से उबरने ने के बाद गंभीर समस्या होने की आशंका नहीं है, क्योंकि अधिकांश वायरल संक्रमण ठीक हो जाते हैं और लोगों में कुछ दिनों के लिए कुछ प्रभाव होता है, फिर वे ठीक हो जाते हैं।

(एम्स) के निदेशक रंदीप गुलेरिया । (Wikimedia commons )

सरकार सभी स्तरों पर कोविड-19 क्लीनिक विकसित करने पर आक्रामक रूप से काम कर रही है। यह जिला स्तर पर और मेडिकल कॉलेजों में हो सकता है, जहां व्यक्तियों को पूरी सहायता प्रदान की जाती है। उनमें से कई को ध्यान, योग करने की सलाह दी जाती है। इसलिए यह एक व्यापक योजना है, जिसमें एलोपैथिक, योग और आयुर्वेदिक दवाओं से इलाज होता है।

यह भी पढ़े : डब्लू.एच.ओ प्रमुख ने दिया वैक्सीन के ‘उचित आवंटन’ पर ज़ोर

सवाल : एक डेटा के मुताबिक बीसीजी का टीका वायरल संक्रमण से बचाता है। क्या इसकी खुराक इम्युन सिस्टम बढ़ाती है और कोविड-19 से लोगों की रक्षा कर सकती है?

जवाब : बीसीजी के संबंध में डेटा विवादास्पद है। प्रयोगशालाओं से इन-व्रिटो डेटा है, जो बताता है कि बीसीजी टीकाकरण कुछ हद तक इम्युनिटी देता है। इसका एक एंटी-वायरल प्रभाव भी है। इजराइल के एक अध्ययन से पता चलता है कि उनको कोई लाभ नहीं होता जिनको बीसीजी टीका लगा है। लेकिन नीदरलैंड में एक अलग अध्ययन है, जो उन लोगों पर है जिनको बीसीजी का टीका लगा था। इसमें कहा गया है कि बीसीजी का टीका लगाने वालों में कुछ हद तक इम्युनिटी है।

आईसीएमआर के ट्रायल में ये पता चला है कि बीसीजी का टीका लगाने वालों को कुछ तो इम्युनिटी है। दो ट्रायल इस बारे में चल रहे हैं – बुजुर्ग लोगों में बीसीजी का टीका और कम उम्र के लोगों में ये टीका। इस पर डेटा आने का इंतजार है। (आईएएनएस )

Popular

एआईबीए विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में भारत की जीत(PIXABAY)

एआईबीए विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप(AIBA World Boxing Championship) में भारत की जीत की लय को आगे बढ़ाते हुए दीपक भोरिया, सुमित और नरेंद्र ने सर्बिया के बेलग्रेड में चल रही चैंपियनशिप के दूसरे दिन शानदार जीत के साथ अपने अभियान को जारी रखा। खिताब के प्रबल दावेदारों में से एक, किर्गिस्तान के अजत उसेनालिव के खिलाफ, दीपक ने 51 किग्रा के शुरूआती दौर के मैच में एक शानदार प्रदर्शन किया। एशियाई चैंपियन उसेनलिव के कुछ प्रतिरोध के बावजूद, 24 वर्षीय दीपक अपनी जीत को सुनिश्चत करने में सफल रहे।

सुमित भी जमैका के मुक्केबाज(Boxing) ओनील डेमन के खिलाफ अपने 75 किग्रा के शुरूआती दौर के मैच के दौरान समान रूप से प्रभावी थे। उन्होंने अपने प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ 5-0 से आसान जीत दर्ज की थी। दूसरी ओर, नरेंद्र को अपने पोलिश प्रतिद्वंद्वी ऑस्कर सफरियन से प्लस 92 किग्रा मुकाबले में कुछ कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ा। हालांकि भारतीय खिलाड़ी ने 4-1 से अपनी जीत दर्ज की।

AIBA World Boxing Championship चैंपियनशिप के तीसरे दिन बुधवार को चार भारतीय मुक्केबाज अपनी चुनौती की शुरूआत करेंगे।(Pixabay)

Keep Reading Show less

एनपीपीए ने 12 डायबिटीज के इलाज के लिए जेनेरिक दवाओं की अधिकतम कीमतें तय करके एक सफल कदम उठाया है-एनपीपीए(Wikimedia commons)

नेशनल फार्मास्युटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी (NPPA-India) ने मंगलवार को डायबिटीज के इलाज में काम आने वाली 12 जेनेरिक दवाओं की कीमत तय किए हैं। आपको बता दें इसके पहले भी केंद्र सरकार ने सितंबर में आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची (एनएलईएम) में संशोधन करते हुए आमतौर पर इस्तेमाल होने वाली 39 दवाओं की कीमतों में कटौती की थी।

एनपीपीए(NPPA-India) ने ट्वीट कर कहा, "हर भारतीय के लिए डायबिटीज जैसी बीमारियों के खिलाफ चिकित्सा उपचार को संभव बनाने के लिए एनपीपीए ने 12 डायबिटीज के इलाज के लिए जेनेरिक दवाओं की अधिकतम कीमतें तय करके एक सफल कदम उठाया है।"

Keep Reading Show less

अभिनेता-राजनेता पवन कल्याण ने आरोप लगाया कि आंध्र प्रदेश एक ड्रग हब बन गया है। (Wikimedia Commons )

बुधवार को अभिनेता-राजनेता पवन कल्याण(Pawan Kalyan) ने आरोप लगाया कि आंध्र प्रदेश राज्य से देश के विभिन्न हिस्सों में 'गांजा'(मारिजुआना) की आपूर्ति के साथ देश का ड्रग हब बन गया है। जन सेना नेता ने ट्विटर पर दावा किया कि आंध्र प्रदेश एक ड्रग हब बन गया है और हर स्तर पर कई नशीले पदार्थों से भरा है।

पवन कल्याण(Pawan Kalyan) ने लिखा, "वर्तमान सरकार के प्रभारी नेताओं की निष्क्रियता से पूरा देश प्रभावित हो रहा है।"

Keep reading... Show less