Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

फोर्ब्स की सबसे अधिक फीस पाने वाले अभिनेताओं की सूची में अक्षय कुमार इकलौते बॉलीवुड स्टार

फोर्ब्स की सूची में तीसरे नंबर पर मार्क वॉलबर्ग हैं, जिनकी कमाई 5.8 करोड़ डॉलर बताई गई है। चौथे नंबर पर अभिनेता एवं डायरेक्टर बेन एफ्लेक, जिनकी कमाई 5.5 करोड़ डॉलर और पांचवें नंबर पर विन डीजल हैं, जिनकी कमाई 5.4 करोड़ डॉलर है।

अक्षय कुमार, अभिनेता(Image; Wikimedia Commons)

बॉलीवुड सुपरस्टार अक्षय कुमार फोर्ब्स 2020 की दुनिया के 10 सबसे ज्यादा फीस लेने वाले पुरुष अभिनेताओं की सूची में शामिल होने वाले एकमात्र भारतीय हैं। अक्षय 4.85 करोड़ डॉलर की अनुमानित कमाई के साथ सूची में छठे नंबर पर हैं। हालांकि पिछले साल के मुकाबले उनकी रैंक दो पायदान गिर गई है। उन्होंने 2019 की सूची में चौथा स्थान प्राप्त किया था।

अक्षय एक स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म के लिए अपनी पहली टेलीविजन सीरीज ‘द एंड’ पर काम कर रहें हैं। उन्होंने अपने अधिकांश पैसे अपने एंडोर्समेंट सौदों से कमाए हैं। फोर्ब्स पत्रिका ने कहा कि अक्षय को आगामी टेलीविजन सीरीज में उनकी भूमिका के लिए एक करोड़ डॉलर मिल रहे हैं।


अक्षय की आने वाली फिल्मों में ‘बच्चन पांडे’, ‘बेलबॉटम, ‘लक्ष्मी बॉम्ब’, ‘सूर्यवंशी’, ‘पृथ्वीराज’, ‘अतरंगी रे’ और ‘रक्षा बंधन’ शामिल हैं।

पत्रिका की ओर से जारी वार्षिक सूची के अनुसार, हॉलीवुड स्टार ड्वेन जॉनसन लगातार दूसरे वर्ष भी सबसे अधिक भुगतान पाने वाले मेल एक्टर्स की सूची में शीर्ष स्थान पर रहे। उन्होंने 8.75 करोड़ डॉलर कमाए हैं, जिसमें फिल्म थ्रिलर ‘रेड नोटिस’ से नेटफ्लिक्स इंक के जरिए कमाए 23.5 मिलियन डॉलर शामिल हैं।

वहीं डेडपूल स्टार रयान रेनॉल्ड्स, मेल एक्टर की फोर्ब्स रैंकिंग में दूसरे स्थान पर आए हैं। उन्होंने उस फिल्म के लिए दो करोड़ डॉलर, साथ ही नेटफ्लिक्स मूवी सिक्स अंडरग्राउंड से भी उन्होंने दो करोड़ डॉलर कमाए। पत्रिका ने कहा कि उन्होंने एक साल की अवधि में 7.15 करोड़ डॉलर की कमाई की है।

यह भी पढ़ें: सुशांत के प्रशंसकों ने संजय दत्त से माफी मांग ट्रोल किया ‘सड़क 2’ का ट्रेलर

फोर्ब्स की सूची में तीसरे नंबर पर मार्क वॉलबर्ग हैं, जिनकी कमाई 5.8 करोड़ डॉलर बताई गई है। चौथे नंबर पर अभिनेता एवं डायरेक्टर बेन एफ्लेक, जिनकी कमाई 5.5 करोड़ डॉलर और पांचवें नंबर पर विन डीजल हैं, जिनकी कमाई 5.4 करोड़ डॉलर है।

सातवें पर लिन मेनुएल मिरांडा हैं, जिनकी कमाई 4.55 करोड़ डॉलर बताई गई है।

इस सूची में एक जून, 2019 से एक जून, 2020 के बीच हुई आय को शामिल किया गया है। (आईएएनएस)

Popular

भारत, अमेरिका के विशेषज्ञों ने जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर चर्चा की ( Pixabay )

भारत(india) और अमेरिका(America) के विशेषज्ञों ने शनिवार को कार्बन कैप्चर, यूटिलाइजेशन एंड स्टोरेज (सीसीयूएस) के माध्यम से जलवायु परिवर्तन (Environment change) से निपटने के लिए विभिन्न तकनीकों पर चर्चा करते हुए कहा कि वे 17 सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) में से पांच - जलवायु कार्रवाई, स्वच्छ ताकत, उद्योग, नवाचार और बुनियादी ढांचा, खपत और उत्पादन जैसे लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए साझेदारी की है। विज्ञान विभाग के सचिव एस.चंद्रशेखर ने कहा, "सख्त जलवायु व्यवस्था के तहत हम उत्सर्जन कटौती प्रौद्योगिकियों के पोर्टफोलियो के सही संतुलन की पहचान और अपनाने का एहसास कर सकते हैं। ग्लासगो में हाल ही में संपन्न सीओपी-26 में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के उल्लेखनीय प्रदर्शन के साथ-साथ महत्वाकांक्षाओं को सामने लाया। दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक होने के बावजूद हम जलवायु लक्ष्यों को पूरा करेंगे।"

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के कार्बन कैप्चर पर पहली कार्यशाला में अपने उद्घाटन भाषण में उन्होंने कहा, "पीएम ने हम सभी को 2070 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन राष्ट्र बनने को कहा है।" उन्होंने सीसीयूएस के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी के नेतृत्व वाले आरडी एंड डी की दिशा में विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग की हालिया पहलों के बारे में भी जानकारी दी।

Keep Reading Show less

वेल्लोर के इस 10 वर्षीय छात्र ने अपनी लगन से वकीलों के लिए ई-अटॉर्नी नामक एक ऐप बना डाला ( Pixabay)

कोरोना के इस दौर में ऐप टेक्नॉलॉजी (App Technology) की पढ़ाई कई समस्याओं का समाधान कर रही है। ऐसा ही एक समाधान 10 वर्षीय छात्र कनिष्कर आर ने कर दिखाया है। कनिष्कर ने पेशे से वकील अपने पिता की मदद एक ऐप (App) बनाकर की। दस्तावेज संभालने में मददगार यह ऐप वकीलों और अधिवक्ताओं को अपने क्लाईंट एवं काम से संबंधित दस्तावेज संभालने में मदद करता है। 10 वर्षीय कनिष्कर का यह ऐप अब उसके पिता ही नहीं बल्कि देश के कई अन्य वकील भी इस्तेमाल कर रहे हैं और यह एक उद्यम की शक्ल ले रहा है।

कनिष्कर अपने पिता को फाईलें संभालते देखता था, जो दिन पर दिन बढ़ती चली जा रही थीं। जल्द ही वह समझ गया कि उसके पिता की तरह ही अन्य वकील भी थे, जो इसी समस्या से पीड़ित थे। इसलिए जब कनिष्कर को पाठ्यक्रम अपने कोडिंग के प्रोजेक्ट के लिए विषय चुनने का समय आया, तो उसने कुछ ऐसा बनाने का निर्णय लिया, जो उसके पिता की मदद कर सके। वेल्लोर (Vellore) के इस 10 वर्षीय छात्र ने अपनी लगन से वकीलों के लिए ई-अटॉर्नी नामक एक ऐप बना डाला। इस ऐप का मुख्य उद्देश्य वकीलों और अधिवक्ताओं को अपने क्लाईंट के एवं काम से संबंधित दस्तावेज संभालने में मदद करना है। इस ऐप द्वारा यूजर्स साईन इन करके अपने काम को नियोजित कर सकते हैं और क्लाईंट से संबंधित दस्तावेज एवं केस की अन्य जानकारी स्टोर करके रख सकते हैं। इस ऐप के माध्यम से यूजर्स सीधे क्लाईंट्स से संपर्क भी कर सकते हैं। जिन क्लाईंट्स को उनके वकील द्वारा इस ऐप की एक्सेस दी जाती है, वो भी ऐप में स्टोर किए गए अपने केस के दस्तावेज देख सकते हैं।

Keep Reading Show less

डॉ. मुनीश रायजादा ने इस वेब सीरीज़ के माध्यम से आम आदमी पार्टी में हुए भ्रस्टाचार को सामने लाने का प्रयास किया है

आम आदमी पार्टी(AAP) पंजाब के लोकसभा चुनाव में अपनी बड़ी जीत की उम्मीद कर रही है वहीं पार्टी के एक पूर्व सदस्य ने राजनैतिक शैली में वेब सीरीज़ के रूप में 'इनसाइडर अकाउंट" निकला है जिसमे दावा किया गया है कि पार्टी अपने मूल सिद्धांतों से भटक गई है। 'ट्रांसपेरेंसी : पारदर्शिता का निर्माण शिकागो में कार्यरत चंडीगढ़ के चिकित्सक डॉ.मुनीश रायज़ादा द्वारा किया गया है। यूट्यूब(Youtube) पर उपलब्ध यह वेब सीरीज़ यह दर्शाती है कि कैसे एक पार्टी पारदर्शी होने के साथ साथ व्यवस्था परिवर्तन लाने के बजाय गैर-पारदर्शी औऱ राजनीतिक आदत का हिस्सा बन गई। यह वेब सीरीज अक्टूबर 2020 में पूरी होने के बाद ओटीटी प्लेटफॉर्म एमएक्स प्लयेर पर रिलीज हुई। डॉ.मुनीश रायज़ादा के अनुसार इस वेब सीरीज़ को सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली।

डॉ.मुनीश रायजादा ने फोन पर आईएएनएस से बात करते हुए बताया कि, " मंच इस वेब सीरीज का प्रचार यह कहकर नहीं कर रहा था कि यह एक राजनीतिक वेब सीरीज है, और मैंने सोचा कि मैं इस वेब सीरीज को बड़े पैमाने में दर्शकों तक कैसे ले जा सकता हूँ फिर मैंने यूट्यूब के बारे में सोचा।" यह वेब सीरीज यूट्यूब पर 17 जनवरी को रिलीज़ किया गया।

Keep reading... Show less