Sunday, May 9, 2021
Home दुनिया अमेरिका में सफेद कपास का उत्पादन कैसे हुआ?

अमेरिका में सफेद कपास का उत्पादन कैसे हुआ?

18वीं और 19वीं सदी तक, कपास उद्योग अमेरिका के लिए आय के मुख्य स्रोतों में से एक था। अमेरिका के लिए, कपास न केवल एक आर्थिक शक्ति थी, बल्कि एक राजनीतिक शक्ति भी थी।

18वीं और 19वीं सदी तक, कपास उद्योग अमेरिका (America) के लिए आय के मुख्य स्रोतों में से एक था। उस समय अमेरिका को ‘कपास साम्राज्य’ भी कहा जाता था। अमेरिका के लिए, कपास न केवल एक आर्थिक शक्ति थी, बल्कि एक राजनीतिक शक्ति भी थी। कपास (Cotton) को उन कारकों में से एक माना जाता है, जिन्होंने उस समय गृहयुद्ध शुरू किया था। अमेरिका के दक्षिणी राज्यों में कपास की खूब खेती होती थी, लेकिन इसे उगाना घाटे का सौदा माना जाता था। कारण यह था कि कॉटन के बीज से कॉटन निकालने में बहुत समय और पैसा लगता था। इसमें इतना समय और पैसा लगता था कि एक बार तो किसान कॉटन की खेती बंद करने की बात सोचने लगे थे।

लेकिन इसे आसान बनाया ‘कॉटन जिन’ नामक मशीन के आविष्कारक इली ह्विटनी (Ellie Whitney) ने। 8 दिसंबर 1765 को मैसाचुएट्स, अमेरिका में जन्मे इली ह्विटनी ने सन् 1793 में ‘कॉटन जिन’ मशीन का आविष्कार किया। इस मशीन के द्वारा एक दिन में करीब 25 किलो कॉटन को बीजों से निकाला जा सकता था। इस आविष्कार के कारण अमेरिका में कॉटन की खेती बढ़ गई और विश्व बाजार में कॉटन के कपड़े छा गए।

अमेरिका के लिए, कपास न केवल एक आर्थिक शक्ति थी, बल्कि एक राजनीतिक शक्ति भी थी। (Wikimedia Commons)

परंतु, इससे पहले अमेरिका में कपास उत्पादन का स्तर बहुत कम था और इसकी अर्थव्यवस्था के लिए बहुत कम महत्व था। वृक्षारोपण प्रणाली मुख्य रूप से तंबाकू, धान और इंडिगो पर आधारित थी। कपड़ा उद्योग में कपास की स्थिति के बारे में सभी जानते थे, लेकिन समस्या तकनीकी कठिनाइयों की थी। समय की कमी और श्रम की बचत विधि से कपास के बीजों को फाइबर से अलग करना बहुत मुश्किल होता था। ऐसा इसलिए, क्योंकि कपास ऊन कपास के बीज को लपेटता है, जिससे कपास इकट्ठा करना बहुत मुश्किल हो जाता है।

इली व्हिटनी ने जिस तकनीक का आविष्कार किया वह लोकप्रिय हो गया, लेकिन अन्य लोगों ने इसे अनधिकृत रूप से उपयोग करना शुरू कर दिया, जिसके परिणामस्वरूप न्यूनतम वित्तीय लाभ हुआ। कॉटन जिन की लोकप्रियता के साथ, अमेरिका में बड़े पैमाने पर कपास उद्योग का जन्म हुआ।

कपास उगाने वाले उद्योग का विस्तार अमेरिका के अनेक राज्यों में हुआ, जिसमें दक्षिण कैरोलिना, उत्तरी कैरोलिना, जॉर्जिया और वर्जीनिया शामिल हैं और जल्दी से पश्चिम की ओर फैल गया। बाद में, टेक्सास और एरिजोना प्रमुख कपास उत्पादक क्षेत्र बन गए। सन् 1926 तक, अमेरिका में कपास का क्षेत्रफल करीब 4.5 करोड़ एकड़ तक फैल गया।

अमेरिका के दक्षिणी भाग में कपास अर्थव्यवस्था राजनीति, संस्कृति और जीवन का केंद्र बन गया। अमेरिका को ‘कॉटन किंग’ कहा जाने लगा। यह केवल एक उपनाम नहीं है, बल्कि यह शक्ति और धन का प्रतिनिधित्व भी करता है। अमेरिका ने विस्तारित कपास उद्योग में काम करने के लिए कई भारतीय श्रमिकों को मार डाला। अफ्रीका से अमेरिका लाए गए दासों का मुख्य व्यवसाय या तो कपास उद्योग में था या खनन उद्योग में। उन दासों का मूल्य कपास के मूल्य से जुड़ा हुआ था।

कपास उद्योग अमेरिका के लिए आय के मुख्य स्रोतों में से एक था। (Pexel)

अमेरिकियों के लिए उन गुलामों के हाथ और पैर काटना आम बात थी जो कपास नहीं उठा सकते थे। अमेरिकी उनके कटे हुए स्थान पर नमक और मिर्च लगाते थे। सजा के रूप में, दासों को मौत की सजा देते थे। कमजोर और बीमार गुलामों को मार दिया करते थे। श्वेत अमेरिकी ऐसे दृश्यों का आनंद लेते थे। यदि किसी गुलाम ने गलती की या अपराध किया, तो उसकी आंखों को फोड़ देते थे, या कान काट देते थे, हर तरह की यातनाएं दी जाती थीं।

यह भी पढ़ें :- NASA ने अमेरिका में छोटे व्यवसायों को बढ़ावा देने की घोषणा की

अमेरिकी कपास की खेती में ये आम घटनाएं थीं। 100 से अधिक वर्षों के लिए, अमेरिकी शासकों ने कपास की खेती के ‘मजबूर श्रम’ पद्धति के माध्यम से धन, प्रतिष्ठा और शक्ति अर्जित की। अमेरिका में कपास के खेतों में अभी भी गुलामों के अवशेष हैं। मिसिसिपी राज्य ने 2013 तक दासता को समाप्त करने के लिए मतदान प्रक्रिया को पूरा नहीं किया। इसका मतलब है कि 21वीं सदी के बाद भी अमेरिका में कानूनी दास मौजूद हैं।(आईएएनएस-SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,640FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी