Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

आखिरी प्रेसिडेंशियल डिबेट में बाइडन का ट्रंप पर हमला

तीन नवंबर को होने वाले चुनाव से पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडन के बीच आखिरी बार गुरुवार रात नैशविले (टेनेसी) में जोरदार बहस हुई।

ट्रम्प और बाइडन के बीच आखिरी प्रेसिडेंशियल डिबेट। (VOA)

By: निखिला नटराजन

तीन नवंबर को होने वाले चुनाव से पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडन के बीच आखिरी बार गुरुवार रात नैशविले (टेनेसी) में जोरदार बहस हुई। 90 मिनट की बहस के दौरान राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक उम्मीदवार, जो बाइडन ने ट्रंप पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा ये व्यक्ति व्हाइट हाउस में रहने के लिए अयोग्य है। बाइडन ने ट्रंप को अमेरिका में कोरोनोवायरस से हुई मौतों के लिए जिम्मेदार ठहराया और आगे डार्क विंटर की चेतावनी दी।


बाइडन ने देश में कोरोनावायरस मामले को लेकर ट्रंप को निशाने पर लिया। अमेरिका में कोरोना के 80 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं जबकि अब तक 2,22,000 से ज्यादा लोग दम तोड़ चुके हैं।

बाइडन ने कहा, “जो कोई भी इसके लिए जिम्मेदार है, उसे कई मौतों के लिए अमेरिका के राष्ट्रपति के रूप में नहीं रहना चाहिए। हम ऐसी स्थिति में हैं जहां एक दिन में 1000 मौतें होती हैं। और प्रति दिन 70,000 से अधिक नए मामले सामने आते हैं।”

बाइडन ने पहले 15 मिनट में ट्रंप पर खूब हमला बोला और कहा, यह उनकी अयोग्यता है जिसके चलते इतनी जानें गई हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडन। (VOA)

ट्रंप कोविड-19 को खत्म करना चाहते हैं लेकिन कोविड-19 अमेरिका का पीछा नहीं छोड़ रहा।

इस वायरस के मरीज रह चुके ट्रंप ने दावा किया कि दुनिया के नेताओं ने उन्हें वायरस के खिलाफ लड़ाई में बधाई दी है, कि आपने अच्छा काम किया। ट्रंप ने कहा कि स्कूलों को फिर से खोलना होगा, अर्थव्यवस्था को फिर से खोलना होगा और बाइडन तो बस अपने तहखाने में जाकर अपने आप को कैद कर लें।

ट्रंप और बाइडन के बीच जोरदार बहस के दौरान म्यूट बटन ने भी आधिकारिक रूप से एंट्री कर ली। हालांकि, ट्रंप ने इसे अनुचित करार दिया।

दरअसल पहली बहस के दौरान दोनों ने एक-दूसरे पर खूब टोकाटाकी की थी, जब बाइडन बोल रहे ते तो ट्रंप बार-बार टोक रहे थे इस स्थिति से बचने के लिए म्यूट बटन का इस्तेमाल किया गया। ट्रंप और बाइडन के माइक्रोफोन दो मिनट के ओपनिंग रिमार्क के दौरान बंद कर दिए गए, यानी जब बाइडन से सवाल पूछा गया तो उन्हीं का माइक चालू रहा। सभी छह सेगमेंट के दौरान ऐसा ही चला।

ट्रंप के लिए म्यूट बटन हर उस चीज का विरोधी है, जिसके लिए वह अब तक खड़े होते आए हैं, यह कुछ ऐसा है जिसे वह पसंद नहीं करते लेकिन कहीं न कहीं इसके प्रभाव के आगे झुकते हैं।

यह भी पढ़ें: अमेरिकी चुनावी नतीजे भारत से संबंध पर असर नहीं डालेंगे

अंतिम बहस में मास्क की मौजूदगी भी देखने को मिली। इस महीने व्हाइट हाउस के कोविड-19 क्लस्टर बनने के बाद ऐसा देखने को मिला। कोरोना से संक्रमित हो चुकीं प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप भी डिबेट के दौरान मास्क पहने नजर आईं।

जलवायु परिवर्तन पर एक सवाल का जवाब देने के दौरान ट्रंप ने खराब वायु गुणवत्ता के लिए रूस, भारत, चीन का नाम लिया।

बाइडन ने उत्तर कोरिया, चीन और रूस के नेताओं को ‘ठग’ कहा और ट्रंप पर आरोप लगाया कि वो उन्हें गले लगाते हैं।

बाइडन ने कहा कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ ट्रंप के रिश्ते असमान्य रूप से घनिष्ट रहे हैं और कई लोगों के लिए यह परेशानी का सबब रहा है।

अफगानिस्तान मसले पर बाइडन का मानना है कि अमेरिकी सेना की अफगानिस्तान में अहम भूमिका होनी चाहिए और अगर वो राष्ट्रपति बने तो संभावना है कि ट्रंप की तुलना में वो लंबे समय तक वहां अमरीकी सेना को रखें। बाइडन ने कहा, कि अगर मैं राष्ट्रपति बना चुनाव में दखलअंदाजी की साजिश करने वाले बाहरी ताकतों को सबक सिखाया जाएगा। मुझे पता है कि रूस, ईरान और चीन दखल देने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि रूस नहीं चाहता कि वह चुनाव जीते।

इस पर ट्रंप ने कहा कि रूस को लेकर मैं जितना सख्त मैं रहा हूं उतना शायद ही कोई अन्य राष्ट्रपति रहे हों।

इस बहस को मॉडरेट एक अश्वेत महिला क्रिस्टन वेल्कर थी जो 1992 के बाद से प्रेसिडेंशियल डिबेट को मॉडरेट करने वाली दूसरी अश्वेत महिला हैं।

वहीं, जहां फाइवथर्टी पोल एवरेज ने बाइडन को नेशनल पोल में ट्रंप से 9.9 पॉइंट से आगे बताया है, दूसरी ओर रियलक्लीयर पॉलिटिक्स पोल एवरेज ने 7.9 पॉइंट से आगे बताया है।(आईएएनएस)

Popular

माइक्रोसॉफ्ट गेमिंग के सीईओ फिल स्पेंसर ने एक ट्वीट में कहा कि सोनी प्लेटफॉर्म पर सीओडी का भविष्य है। ( Pixabay )

माइक्रोसॉफ्ट ने आखिरकार शुक्रवार को पुष्टि की कि वह लोकप्रिय गेम कॉल ऑफ ड्यूटी (सीओडी) को सोनी प्लेस्टेशन पर बने रहने की अनुमति देगा, क्योंकि अमेरिकी टेक दिग्गज ने सीओडी निर्माता एक्टिविजन ब्लिजार्ड को 69 बिलियन डॉलर में खरीद लिया था। माइक्रोसॉफ्ट गेमिंग के सीईओ फिल स्पेंसर ने एक ट्वीट में कहा कि सोनी प्लेटफॉर्म पर सीओडी का भविष्य है।

स्पेंसर ने कहा, "सोनी में नेताओं के साथ इस सप्ताह अच्छी बातचीत हुई। मैंने एक्टिविजन ब्लिजार्ड के अधिग्रहण पर सभी मौजूदा समझौतों का सम्मान करने और सोनी प्लेस्टेशन पर कॉल ऑफ ड्यूटी रखने की हमारी इच्छा की पुष्टि की।" उन्होंने कहा, "सोनी हमारे उद्योग का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और हम अपने रिश्ते को महत्व देते हैं।"
ऐसी चिंताएं थीं कि सीओडी माइक्रोसॉफ्ट एक्सबॉक्स एक्सक्लूसिव फ्रैंचाइजी बन सकता है।

Microsoft, game, technology, soni PlayStation, \u092e\u093e\u0907\u0915\u094d\u0930\u094b\u0938\u0949\u092b\u094d\u091f, \u0938\u094b\u0928\u0940, माइक्रोसॉफ्ट एक्सबॉक्स और सोनी प्लेस्टेशन गेमिंग कंसोल में बेहद लोकप्रिय है। ( Wikimedia Commons )

Keep Reading Show less

उत्तर प्रदेश में ठाकुरों ने योगी आदित्यनाथ के भाजपा सरकार की बागडोर संभालने के साथ जाति के गौरव का अनुभव किया है। ( wikimedia Commons )

लगभग तीन दशकों के बाद, उत्तर प्रदेश में ठाकुरों ने योगी आदित्यनाथ के भाजपा सरकार की बागडोर संभालने के साथ जाति के गौरव का अनुभव किया है। योगी आदित्यनाथ गोरक्ष पीठ के प्रमुख भी हैं, जो एक क्षत्रिय पीठ है, इसका एक अतिरिक्त फायदा है। उत्तर प्रदेश में ठाकुर, एक शक्तिशाली समुदाय होने के बावजूद, जिसका शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में प्रभाव है, 1988 में वीर बहादुर सिंह के शासन के अंत के बाद सत्ता के गलियारों में अपनी आवाज खोजने में विफल रहे हैं। हालांकि राजनाथ सिंह 2000-2002 में मुख्यमंत्री थे, लेकिन उन्होंने अपने कार्यकाल में जानबूझकर जाति के कोण को कम करके आंका था। ठाकुर राज्य की आबादी का केवल 8 प्रतिशत हैं, लेकिन वे लगभग 50 प्रतिशत भूमि के मालिक हैं।

2017 में योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने पर वह बहुत खुश थे। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि ठाकुर समुदाय के अधिकारियों को अच्छी पोस्टिंग दी गई है, भले ही ब्राह्मण ही मुख्य सचिव जैसे उच्च पदों पर बने हुए हैं। विपक्ष ने योगी सरकार पर ठाकुर के हितों की रक्षा करने और ठाकुर अपराधियों को बचाने का आरोप लगाया है, लेकिन मुख्यमंत्री इसके बारे में अडिग हैं। योगी आदित्यनाथ, जिन्हें अधिकांश ठाकुर सम्मानपूर्वक महाराज के रूप में संबोधित करते हैं, उनको ठाकुर अधिकारों के संरक्षक के रूप में देखा जाता है।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी है दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता ( wikimedia Commons )

अमेरिकी डेटा इंटेलिजेंस फर्म ‘द मॉर्निंग कंसल्ट’ की एक सर्वे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अप्रूवल रेटिंग 71% दर्ज की गई है यह जानकारी 'द मॉर्निंग कंसल्ट' ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिए साझा की है। 'द मॉर्निंग कंसल्ट' के सर्वे के मुताबिक अप्रूवल रेटिंग में प्रधानमंत्री मोदी ने अमरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन समेत दुनिया भर के 13 राष्ट्र प्रमुखों को पीछे छोड़ दिया है।

मॉर्निंग कंसल्ट’ दुनिया भर के टॉप लीडर्स की अप्रूवल रेटिंग ट्रैक करता है। मॉर्निंग कंसल्ट पॉलिटिकल इंटेलिजेंस वर्तमान में ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इटली, जापान, मैक्सिको, दक्षिण कोरिया, स्पेन, यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका में नेताओं की रेटिंग पर नज़र रख रही है। रेटिंग पेज को सभी 13 देशों के नवीनतम डेटा के साथ साप्ताहिक रूप से अपडेट किया जाता है।

Keep reading... Show less