Sunday, June 13, 2021
Home इतिहास सामाजिक - धार्मिक सुधार आंदोलनों का प्राचीन इतिहास !

सामाजिक – धार्मिक सुधार आंदोलनों का प्राचीन इतिहास !

किसी भी देश व उसके समाज को सुधार की आवश्यकता हमेशा होती है। कोई भी देश तभी आदर्शपूर्ण कहलाता है, जब वह समय के साथ आगे बढ़ा हो और उसमें परिवर्तन हुए हो।

भारत अपने गौरवशाली अतीत के लिए संपूर्ण विश्व में प्रसिद्ध है। परन्तु किसी भी देश व उसके समाज को सुधार की आवश्यकता हमेशा होती है। कोई भी देश तभी आदर्शपूर्ण कहलाता है, जब वह समय के साथ आगे बढ़ा हो और उसमें परिवर्तन हुए हो।

भारत में इतिहास पर थोड़ा नज़र दौड़ाएंगे तो ज्ञात होगा की हमारी सभ्यता को बचाने के लिए कई सामाजिक , धार्मिक आंदोलन हुए। हमारी सभ्यता के एक – एक अंश को बचाया जा सके इसके लिए हर संभव प्रयास किए गए। स्वतंत्र भारत के इतिहास में 19वीं शताब्दी का दौर सामाजिक धार्मिक संघर्षों के रूप में जाना जाता है। उस समय ब्रिटिश साम्राज्य के विस्तार उसकी सांस्कृतिक विचारधारा के प्रचार – प्रसार की आंधी लगभग उठनी शुरू हो चुकी थी | बाहरी संस्कृती का जो फैलाव संपूर्ण भारत में महसूस किया जा रहा था उससे अपनी संस्कृति को बचाना आवश्यक था| अलग – अलग संगठनों ने धार्मिक – सामाजिक सुधार में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। और सुधार की इसी प्रक्रिया को समाज सुधार आंदोलन ” नवजागरण की संज्ञा दी गई थी।

सामाजिक धार्मिक सुधार आंदोलन की सबसे सफल और  कारगर शुरुआत राजाराम मोहन राय द्वारा की गई थी।
राजाराम मोहन राय लिखते हैं : मुझे खेद के साथ कहना पड़ रहा है , धर्म के वर्तमान ढांचे ने हिन्दुओं को इतनी बुरी तरह जकड़ रखा है की उनके राजनीतिक हितों के बारे में कुछ किया ही नहीं जा सकता है। उस समय हिन्दुओं के जीवन में हर क्षेत्र में धर्म का दखल था। समाज में लोगों के सभी कर्म धार्मिक नियमों के तहत निर्धारित थे। और जो इन नियमों का उल्लंघन करता था वो पाप , अंधविश्वास का भोगी माना जाता था। कोई भी धर्म केवल आस्था तक सीमित रहना चाहिए उसका प्रभाव ना ही राजनीतिक जीवन पर पड़ना चाहिए और ना ही सामाजिक जीवन पर। इसी सुधार के तहत राजाराम मोहन राय ने 1828 में बंगाल में “ब्रह्म समाज” की स्थापना की थी। और इसी के तहत एकेश्वरवाद की उपासना , मूर्तिपूजा का विरोध , अवतारवाद का खण्डन , इन सभी उद्देश्य को लेकर ब्रह्म समाज की लहर पूरे भारत में फैल  गई थी। पूर्व में हिन्दू धर्म केवल अंधविश्वास से भरा हुआ था। ऐसा कोई काम नहीं था जो धर्म के नाम पर ना कराएं जाते हो। धर्माचार्य अपनी यौन तुष्ठी के लिए महिलाओं तक को नहीं छोड़ते थे। लड़कियों का जन्म दुर्भाग्य पूर्ण माना जाता था। बाल विवाह की जबदस्ती से लेकर विधवा – विवाह का पूर्णतः निषेध था। पति की मृत्यु होते ही स्त्रियों को सती होने के लिए विवश किया जाता था। तब राजाराम मोहन राय ने इस कुप्रथा का जोड़ दार विरोध किया था। उन्होंने कहा था : किसी भी शास्त्र के अनुसार यह हत्या ही है।

पूर्व में समाज को जड़ बना चुकी जाति व्यवस्था के खिलाफ भी संघर्ष छेड़ा गया था। नैतिक रूप से देखा जाए तो जाति व्यवस्था किसी भी समाज की सबसे घिनौनी व्यवस्था है। और इसी के विरोध में महादेव गोविंद रानाडे द्वारा “प्राथना समाज” की स्थापना की गई थी। हालांकि रानाडे पूर्णतः हिन्दू धर्म से जुड़े हुए थे परन्तु फिर भी वह हिंदू धर्म में सुधार करना चाहते थे। हिन्दू धर्म में व्याप्त भ्रष्ट कुरीतियों से समाज को आज़ाद करना चाहते थे। रानाडे ने कभी भी धर्म परिवर्तन को बढ़ावा नहीं दिया था। उनके हर संभव प्रयास केवल हिन्दू धर्म की तरफ थे हिन्दू धर्म में थे।
सुधारवादियों का दृषटिकोण कभी भी संकीर्ण नहीं था। अगर उनके द्वारा पश्चमीकरण के दौरान धार्मिक – सामाजिक सुधार की लहर नहीं उठी होती तो भारतीयों की जड़ मान्यताएं उसकी पिछड़ी मानसिकता उसे खोखला कर देती और आज भी भारतीय समाज पूर्ण रूप से पश्चमीकरण के रास्ते पर चल रहा होता।

सामाजिक धार्मिक सुधार की परंपरा में एक और कदम स्वामी दयानंद सरस्वती द्वारा रखा गया था। धार्मिक आंदोलन की शुरुआत के साथ उन्होंने “आर्यसमाज” की स्थापना की थी। दयानंद सरस्वती जी ने बहुदेववाद , कर्मकाण्ड जैसे रिवाजों पर हमला किया था।
जैसे – जैसे समाज में परिवर्तन होते गए उससे लोगो के राजनीतिक चेतना में तो विकास होता गया परन्तु सांस्कृतिक पिछड़ा पन बना रहा था। हमारी संस्कृति हमें सदियों तक जीवित रखती है। और समय के साथ इसका विकास ही किसी भी समाज को आगे बढ़ाता है।

यह भी पढ़े :- Shivaji Jayanti 2021: वीर छत्रपति शिवाजी महाराज द्वारा बताया गया वह पथ, जिन पर चलना आज जरूरी है!

इन सामाजिक – धार्मिक सुधार के ज़रिए जो सांस्कृतिक – वैचारिक संघर्ष चला था उसका  राष्ट्रीय चेतना के विकास में बहुत बड़ा योगदान था। और यह मात्र सामाजिक – धार्मिक आंदोलन भर नहीं था। ये शोषण , जात – पात , भेदभाव के विरोध में और महिलाओं की मुक्ति की तरफ उठाया गया आंदोलन था। सुधारवादियों ने सामाजिक – धार्मिक मान्यताओं को इस कसौटी पर रखा की लोग आस्था के साथ साथ तर्क को भी स्थापित कर सकें। हमें ये बात हमेशा याद रखनी चाहिए की समाज में अलग अलग धर्म विकसित होते हैं । धर्म से समाज कभी भी नहीं बनता है। अगर धर्म का वर्चस्व किसी भी समाज पर होगा तो वो समाज कभी भी विकसित नहीं हो सकता। वो केवल पुतला भर रह जाएगा जिसकी डोर धर्म के हाथों में होगी।

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी