Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×

 

By : अभिषेक कुमार 


राज्य सभा में सयुंक्त सचिव पद से सेवानिवृत्त अनिल गांधी (Anil Gandhi) ने अपने पहले उपन्यास ‘ब्यूरोक्रेसी का बिगुल और शहनाई प्यार की’ (Bureaucracy Ka Bigul Aur Shahnai Pyar Ki) में दलित वर्ग के लिए अपनी संवेदना और थिएटर संसार को बड़ी बारीख कलम से अलंकृत किया है। कहानी छोटे शहर की उस बौखलाहट में तैरती है जहाँ एक दलित ब्यूरोक्रेट महिला और थिएटर डायरेक्टर के बीच की लव स्टोरी के पदचाप समाज की बदशक्ल सीरत के दर्शन खुद-बखुद करा देते हैं।

ब्यूरोक्रेसी का बिगुल और शहनाई प्यार की‘ Amazon.in पर उपलब्ध है। 

मेरा यह सौभाग्य रहा कि इस साक्षात्कार के ज़रिये मैं उन्हें और उनके उपन्यास को थोड़ा और करीब से जान पाया। पेश हैं साक्षात्कार के कुछ अंश :

अभिषेक : उपन्यास की विषय वस्तु के बारे में ज़रा हमारे पाठकों को बताएं।

अनिल गाँधी :  यह उपन्यास एक विचित्र लेकिन मधुर लव स्टोरी है। इसमें दो ऐसे पात्र हैं जो अपना-अपना इतिहास साझा करते हुए एक साथ चलने का प्रयास करते हैं। इस प्रयास में उत्सुकता, बेचैनी, कलह, रोमांस, संघर्ष, इन सब का मधुर मिश्रण है।

इस यात्रा में हमें इंडियन ब्यूरोक्रेसी और थिएटर संसार के दर्शन भी हो जाते हैं। उपन्यास में छोटे शहरों में जीवन, वहां का रंगमंच, जाति वयवस्था की करुण वास्तविकताएँ, और भ्रष्टाचार की जटिलताओं पर ध्यान जाता है। बतौर लेखक दलित वर्ग के प्रति मेरी सहानुभूति रही है और यहाँ मैं भारतीय न्यायपालिका को भी नाज़ुक कलम से छू कर निकला हूँ। हमारे भारतीय समाज की गहराइयों में ही अलका और नील का प्रेम प्रसंग सांस भरता है। 

अभिषेक : उपन्यास के लिए आपकी प्रेरणा क्या रही? 

अनिल गाँधी : यह प्लॉट बहुत पहले से ही मेरे मन में था। मैंने अपनी आँखों से लोगों को मैला उठाते हुए देखा है। उन्हीं में एक मासूम सी लड़की थी जिससे अलका का चरित्र प्रेरित है। उन लोगों के हाल पर दिल भर आता है। पीढ़ियों से दलित वर्ग के साथ जो जानवरों जैसा बर्ताव होता आ रहा है, इसी कारण से उनके प्रति सदा ही संवेदनशील रहा हूँ। उनके लिए सहानुभूति रही है। उपन्यास में भी अलका की पृष्ठभूमि कुछ इसी तरह की है। लिखते समय भी मैं अलका को लेकर अत्यधिक भावुक था। अपने इस पात्र के साथ मेरी हमदर्दी आज भी कायम है।  

बाकी राज्य सभा का हिस्सा रहने के कारण सरकारी महकमे से मेरी नज़दीकियां अधिक हैं और इसी नाते मैं ब्यूरोक्रेसी को करीब से समझता हूँ। दूसरी तरफ मेरे अंदर थिएटर को लेकर बचपन से ही एक तड़पन रही है। उसी कुलबुलाहट ने नील के किरदार को जन्म दिया है। नील की ही तरह मेरी भी इच्छा थी कि एक छोटे से शहर में मेरा अपना थिएटर ग्रुप हो। तभी मन में ख्याल आया कि क्यों ना दुनिया की इन अलग-अलग इकाइयों को एक प्रेम सूत्र में गूंथ लिया जाए। और फिर ऐसे ही इस विचित्र लव स्टोरी का जन्म हुआ जो आज आप सभी के सामने है। 

यह भी पढ़ें – ‘ट्रांसपेरेंसी: पारदर्शिता’ देखने के बाद !

अभिषेक : अपना पहला उपन्यास लिखने में आपको कितना समय लगा?

अनिल गाँधी : लगभग 6 महीने। 18 मार्च को मुंबई से घर लौटा…इच्छा नहीं थी लेकिन महामारी ने मजबूर कर दिया, क्या करें! फिर खालीपन ने सालों से मन में विचरण कर रही इस कहानी को जगाना शुरू किया और मैंने लिखना। ज़्यादातर मैं रात में ही लिखा करता था। और जैसे ही सौ पन्ने पूरे हुए, लगा की बस…अब यह उपन्यास पूरा हो जायेगा। 

उपन्यास के लेखक अनिल गाँधी। 

अभिषेक : पहले और अब के थिएटर में आप किस तरह के बदलाव महसूस करते हैं?

अनिल गाँधी : पहले और अब के थिएटर में काफी अंतर आ चुका है। और यह सिर्फ मैं नहीं हर रंगकर्मी महसूस कर रहा है। संक्षेप में कहूं तो पहले के दर्शकों में सयंम और अनुशासन, दोनों हुआ करता था। आज इसकी कमी साफ झलकती है। पहले जब दर्शक नाटक के बीच से उठ कर जाता था, तो सिर झुका कर! नाटकों के बीच इंटरवल्स हुआ करते थे। आज इतने बड़े नाटक में लोग बोर हो जाया करते हैं।

दूसरा, उस समय में रंगमंच को गंभीरता के साथ किया जाता था। एम.के रैना और फैज़ल अलका जैसे रंगकर्मी थे। आज उतने विचारशील नाटक कम देखने को मिलते हैं। तीसरा, आज के समय में अखबारों में नाटकों की समीक्षा ना के बराबर है। आपको जान कर हैरानी होगी कि मेरे समय में श्री राम सेंटर में बेसमेंट हुआ करता था जिसका किराया 90 रुपए था। वहां मैंने सौरभ शुक्ला के साथ ‘अपना अपना दांव’, ‘कविता का अंत’ जैसे नाटक किए हैं। लेकिन आज की डेट में एक ऑडिटोरियम की कीमत बहुत ज़्यादा है। उसी के हिसाब से नाटकों की टिकट भी महंगी रखनी पड़ती है जिसे बहुत कम लोग खरीदते हैं।

और देखो अभिषेक, पहले के समय में थिएटर कलाकार भी समर्पित और व्यवस्थित हुआ करते थे। समय पे आना, तरीके से काम करना, यह सब था। आज उसकी कमी भी बहुत खलती है।  

अभिषेक : सरकारी महकमा किस तरीके से थिएटर की शक्ल सुधार सकता है?

अनिल गाँधी : अगर उसमें अलका जैसे लोग हों तो थिएटर के लिए बहुत कुछ हो सकता है। ऐसे लोग जो सांस्कृतिक गतिविधियों में रुचि रखते हों और उन्हें उसकी समझ भी हो। सरकार के ही सहयोग से राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय या एफ.टी.आई.आई जैसी संस्थाएं विकसित हैं। लेकिन अगर सरकार, जिले-कस्बों में रंगकर्मियों के लिए सरकारी थिएटर्स भी बनाए तो यह एक बड़ा कदम होगा। 

मुझे यह भी लगता है कि थिएटर में हो रहे भ्रष्टाचार के लिए भी सरकार को कोई ठोस कदम उठाना चाहिए। क्योंकि नाटकों के लिए मिल रहे ग्रांट में पारदर्शिता की कमी बढ़ रही है।  

अभिषेक : उन लोगों के लिए कोई सन्देश जिन्होंने अपनी पहली किताब के लिए कलम उठा ली है?

अनिल गाँधी : उन्हें बस यह कहना चाहूंगा कि पाठक को ध्यान में रख कर लिखें। आपको पता होना चाहिए कि आप किसके लिए लिख रहे हैं। जैसे मैं यह सोच के चला हूँ कि मेरा यह उपन्यास युवा वर्ग को अधिक पसंद आएगा।

अभिषेक : आपको ऐसा क्यों लगता है कि आपका उपन्यास युवा वर्ग को अपनी ओर अधिक खींचेगा?

अनिल गाँधी : एक तो इस उपन्यास को बोलचाल की भाषा में लिखा गया है। जैसी भाषा का प्रयोग हमारा आज का युवा करता है यानी सरल हिंदी और साथ में उर्दू, इंग्लिश, पंजाबी और हिंगलिश भी। आज के ‘युवा विचारों’ को उपन्यास के कई पात्र सामने लाते हैं जैसे नील के दोनों बच्चों को ही ले लो। भारत और इंडिया के बीच फर्क खोजना या इंडियन ब्यूरोक्रेसी पर छींटाकशी करना उनकी मजबूरी है। नील और उसकी बेटी ईशा के स्वछंद रिश्ते को सम्भवतः हमारा युवा वर्ग ही कबूल पाएगा। शायद इन्हीं कारणों से एक पाठक ने मुझसे कहा कि यह उपन्यास समय से आगे है।

यह भी पढ़ें – क्या हामिद अंसारी के दिल में थी राष्ट्रपति बनने की गुप्त इच्छा? इस किताब में हुआ खुलासा

अभिषेक : अपनी भविष्य की योजनाओं पर प्रकाश डालें।

अनिल गाँधी : भविष्य में मेरी कोशिश रहेगी कि पाठक और लेखक के बीच की बढ़ रही खाई को कहीं ना कहीं कम कर सकूं! इसी नाते मेरा अगला उपन्यास अंग्रेज़ी में होगा ताकि अधिक लोगों तक मेरी बात और मेरी किताब दोनों पहुंच सकें। और अभी मैं अपने इस हिंदी उपन्यास को पटना, भोपाल, राँची आदि शहरों की साहित्यिक दुकानों में भेजने के लिए डिस्ट्रीब्यूटर्स से बातचीत कर रहा हूँ। क्योंकि हिंदी का पाठक अमेज़न और फ्लिपकार्ट से ज़्यादा इन दुकानों में मिलता है। हाल-फिलहाल उसी के लिए प्रयासरत हूँ।

” मैं बड़ा कलाकार बनना चाहता था लेकिन बन नहीं पाया ” 

– अनिल गाँधी

अनिल गाँधी के लिए उनकी वाइफ मंजु कूलेस्ट हैं। 

मानेसर के मध्यम वर्गीय परिवार में जन्मा एक लड़का, जिसे बचपन में दर्शकों की तालियों की गड़गड़ाहट ने हमेशा ही अपनी ओर आकर्षित रखा। जो अपनी व्यक्तिगत और सांसारिक ज़िम्मेदारियों को निभाने के लिए अपने सपनों से बार-बार दूर हुआ। जिसने अपने भीतर के कलाकार को कभी मरने नहीं दिया। जिसने मोहन राकेश, सआदत हसन मंटो और प्रेमचंद जैसे महान साहित्यकारों से प्रेरणा ली। जो आज अपना पूरा जीवन थिएटर और साहित्य को समर्पित करने को तैयार है। कुछ ऐसे ही हैं ‘ब्यूरोक्रेसी का बिगुल और शहनाई प्यार की’  (Bureaucracy Ka Bigul Aur Shahnai Pyar Ki) उपन्यास के लेखक अनिल गाँधी !

ब्यूरोक्रेसी का बिगुल और शहनाई प्यार की‘ Amazon.in पर उपलब्ध है। 

अनिल गाँधी (Anil Gandhi) के उपन्यास को पढ़ने के बाद मुझे इसका एहसास हुआ कि यह उन सभी लोगों के लिए ‘Must Read’ है जो थिएटर से प्रेम करते हैं या अपने भारतीय समाज को और करीब से जानने के इच्छुक हैं। 

Popular

जो लोग हो चुके है कोविड संक्रमित उनके लिए काल है ओमिक्रॉन! [File Photo]

सीएनएन(CNN) की एक रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं के एक दल ने शोध किया है। उन्होने कहा है कि उन्हें कुछ सबूत मिले हैं कि जो लोग एक बार कोविड(Covid 19) से संक्रमित हो गए थे, उनकी बीटा(Beta) या डेल्टा वैरिएंट (delta variant)की तुलना में ओमिक्रॉन वैरिएंट(Omicron Variant) से दोबारा संक्रमित होने की संभावना अधिक है। साथ ही साथ यह भी कहा गया है कि अभी इतनी जल्दी निश्चित रूप से इस बारे में कुछ कहना तो जल्दबाजी होगी, मगर हाल ही में दूसरी बार के संक्रमण में वृद्धि ने उन्हें संकेत दिया है कि ओमिक्रॉन में लोगों को फिर से संक्रमित करने की अधिक संभावना है। दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं के एक दल ने कहा कि

अपको बता दें, ओमिक्रॉन(Omicron Variant) की पहचान हाल ही में नवंबर महीने में की गई थी, लेकिन इसने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और अन्य वैश्विक स्वास्थ्य अधिकारियों को चिंतित कर दिया है, जिन्होंने इसके कई म्यूटेंट बनने के कारण इसे खतरनाक बताया है। इसके बारे में बताया जा रहा है कि यह अन्य वैरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक तो है ही, साथ ही इसमें प्रतिरक्षा प्रणाली से बचने की क्षमता भी है।

Keep Reading Show less

पराग अग्रवाल, ट्विटर सीईओ (Twitter)

नए ट्विटर सीईओ (Twitter CEO) पराग अग्रवाल (Parag Agrawal) ने कंपनी का पुनर्गठन शुरू कर दिया है और दो वरिष्ठ अधिकारी पहले ही पुनर्गठन योजना के हिस्से के रूप में पद छोड़ चुके हैं। द वाशिंगटन पोस्ट की एक ईमेल का हवाला देते हुए एक रिपोर्ट के अनुसार, ट्विटर के मुख्य डिजाइन अधिकारी डैंटली डेविस और इंजीनियरिंग के प्रमुख माइकल मोंटानो दोनों ने पद छोड़ दिया है। डेविस 2019 में तो मोंटानो 2011 में कंपनी में शामिल हुए थे।

शुक्रवार देर रात मीडिया रिपोर्ट्स में ट्विटर (Twitter) के एक प्रवक्ता के हवाले से कहा गया, "डैंटली का जाना हमारे संगठनात्मक मॉडल को एक ऐसे ढांचे के इर्द-गिर्द शिफ्ट करने पर केंद्रित है, जो कंपनी के एक प्रमुख उद्देश्य का समर्थन करता है।"

प्रवक्ता ने कहा, "इसमें शामिल व्यक्तियों के सम्मान में इन परिवर्तनों पर साझा करने के लिए हमारे पास और विवरण नहीं है।"

एक ईमेल में अग्रवाल (Parag Agrawal) ने लिखा था कि कंपनी ने हाल ही में महत्वाकांक्षी लक्ष्यों को हासिल करने के लिए अपनी रणनीति को अपडेट किया है, और मुझे विश्वास है कि रणनीति साहसिक और सही होनी चाहिए।

इसमें कहा गया, "लेकिन हमारी महत्वपूर्ण चुनौती यह है कि हम इसके खिलाफ कैसे काम करते हैं और परिणाम देते हैं। इसी तरह हम ट्विटर को अपने ग्राहकों, शेयरधारकों और आप में से प्रत्येक के लिए सर्वश्रेष्ठ बना सकते हैं।" jn

Keep Reading Show less

यूट्यूब ऐप ने सभी वीडियो के लिए शुरू की 'लिसनिंग कंट्रोल' सुविधा। (Wikimedia Commons)

यूट्यूब (Youtube) ने कथित तौर पर एंड्रॉइड और आईओएस यूजर्स के लिए एक 'सुनने का कंट्रोल' (Listening Control) सुविधा शुरू की है। इस नई सुविधा का फायदा केवल यूट्यूब प्रीमियम ग्राहक उठा सकते हैं।

9टु5गूगल (9to5 google) की रिपोर्ट के अनुसार, लिसनिंग कंट्रोल वीडियो विंडो के नीचे की हर चीज को एक विरल शीट से बदल देता है। प्ले/पाउस, नेक्स्ट/पिछला और 10-सेकंड रिवाइंड/फॉरवर्ड मुख्य बटन हैं।

लिसनिंग कंट्रोल का उपयोग कर के, यूट्यूब ऐप उपयोगकर्ता चाहें तो नए गीतों को प्लेलिस्ट में भी सहेज सकते हैं।

यह सुविधा अब यूट्यूब (Youtube) एंड्रॉइड और आईओएस यूजर्स के लिए व्यापक रूप से उपलब्ध है और यह केवल यूट्यूब प्रीमियम यूजर्स के लिए उपलब्ध है।

Google Play Store, यूट्यूब ऐप पहले ही गूगल प्ले स्टोर पर 10 बिलियन डाउनलोड को पार कर चुकी है। [Pixabay]

Keep reading... Show less