Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
व्यक्ति विशेष

Anna Chandy : भारत की पहली महिला न्यायाधीश

अन्ना एक ऐसी महिला थी, जिन्होंने पितृसत्ता के सामने झुकने से इंकार कर दिया था और महिलाओं के मौलिक अधिकारों के उल्लंघन के खिलाफ आवाज उठाई थी।

अन्ना चांडी पूरे ब्रिटिश राष्ट्रमंडल में न्यायाधीश बनने वाली पहली भारतीय महिला थी। (Wikimedia Commons)

कुछ दशक पहले तक समाज में महिलाओं की स्थिति बेहद अलग थी। महिलाओं द्वारा किए गए संघर्ष को हम सभी ने पढ़ा और आज तक देखते भी आ रहे हैं। ये संघर्ष खत्म तो नहीं हुआ मगर अब इसका स्वरूप बदल चुका है। समान वेतन, समान ओहदा, समान प्रतिनिधित्व अब यह सभी मुद्दे मायने रखते हैं। लेकिन आज हम इतिहास के पन्नों में झांककर एक ऐसी महिला के बारे में बात करेंगे जो न केवल भारत में बल्कि पूरे ब्रिटिश राष्ट्रमंडल में न्यायाधीश बनने वाली पहली भारतीय महिला थी। 

अन्ना चांडी का जन्म 4 मई 1905 को त्रिवेंद्रम ( Trivandrum) में, त्रावणकोर राज्य की राजधानी में हुआ था। अन्ना एक सीरियाई ईसाई परिवार से थी। वह एक ऐसी महिला थी, जिन्होंने पितृसत्ता के सामने झुकने से इंकार कर दिया था और महिलाओं के मौलिक अधिकारों के उल्लंघन के खिलाफ आवाज उठाई थी। 


1927 में महारानी सेतु लक्ष्मी बाई ने समाज के कड़े विरोध और संघर्ष करने के बाद, त्रिवेंद्रम में महिलाओं के लिए गवर्नमेंट लॉ कॉलेज खोला था। समाज और पुरुषों के अपमानजनक रवैए के बावजूद अन्ना ने कानून में स्नातकोत्तर डिग्री के लिए दाखिला लिया था। उस समय केवल त्रावणकोर की ही नहीं पूरे केरल की वह पहली महिला थी, जिन्होंने दाखिला लिया और 1929 में डिस्टिंक्शन के साथ अपने स्नातकोत्तर डिग्री को प्राप्त किया था। आगे चलकर उन्होंने एक बैरिस्टर के रूप में अभ्यास करना शुरू किया और आपराधिक कानून में विशेषज्ञता हासिल की थी। 

अन्ना चांडी मात्र एक वकील नहीं थी। वह अक्सर अपनी सक्रियता को अदालत के बाहर भी ले जाती थीं। न्याय के लिए धर्मयुद्ध के अलावा अन्ना ने महिलाओं के उत्थान की दिशा में कदम उठाए थे। 1930 में अन्ना चांडी ने महिलाओं की उन्नति के किए एक पत्रिका प्रकाशित की थी जिसे उन्होंने “श्रीमती” नाम से संपादित किया था। मलयालम में यह पहली पत्रिका भी थी। पत्रिका के माध्यम से अन्ना ने गृह प्रबंधन, सामान्य स्वास्थ्य, घरेलू विषयों के साथ व्यापक रूप से महिलाओं की स्वतंत्रता और विधवा पुनर्विवाह जैसे अहम् मुद्दों पर ध्यान केन्द्रित किया था।

अन्ना चांडी मात्र एक वकील नहीं थी। वह अक्सर अपनी सक्रियता को अदालत के बाहर भी ले जाती थीं। (Pexel)

अपने लेख के माध्यम से उन्होंने खेतों में काम करने वाली महिलाओं के साथ होने वाले भारी मजदूरी भेदभाव पर जोर दिया और इस मुद्दे का निवारण किया था। महिलाओं को सरकारी नौकरियों में आरक्षण के लिए लड़ाई लड़ने वाली यह देश की पहली महिलाओं में से एक थीं। 1935 में उन्होंने महिलाओं को मृत्युदंड दिए जाने कानून के विरोध में भी कड़ी आवाज़ उठाई थी। 

राजनीतिक चेहरा!

एक राजनीतिक चेहरे के रूप में अन्ना चांडी 1930 में सामने आई थीं। उन्होंने इसी वर्ष सक्रिय रूप से राजनीति में जाने का फैसला लिया और SMPA (Shree Mulam Popular Assembly) के लिए चुनाव में खड़े होने का फैसला किया था। लेकिन उनके विरोधियों ने राज्य में दीवान और अन्य सरकारी अधिकारियों के साथ संबंध होने का झूठा आरोप लगाते हुए, त्रिवेंद्रम की दीवारों पर भद्दे चित्र और नारे लिखे। जिस वजह से इन झूठी अफवाहों को जीत मिली और वह उस दौरान चुनाव में हार गई थीं। लेकिन उन्होंने रण छोड़ा नहीं, आगे भी चुनावों में एक जाना – माना चेहरा बनके उभरती रहीं और कई सीटें जीती।

यह भी पढ़ें: भारत की अमर वीरांगना ‘हाड़ी रानी’!

आगे चलकर अन्ना देश की पहली महिला जज बनी। उन्हें त्रावणकोर में जज के रूप में नियुक्त किया गया था। 1937 में इस क्रांतिकारी कदम ने उन्हें फिर एक बार सुर्खियों में डाल दिया था। अन्ना ने इस पद की गंभीरता को समझा और अपना दायित्व बखूबी निभाया। भारत के स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद अन्ना 1948 में जिला अदालत के न्यायाधीश के रूप में नियुक्त हुईं। 1956 में केरल राज्य बनाने के लिए त्रावणकोर और कोचीन राज्यों के विलय के बाद अन्ना को 1959 में उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था , न केवल भारत में बल्कि राष्ट्रमंडल देशों के बीच यह पद संभालने वाली अन्ना पहली महिला बनी थीं। 1967 तक इन्होंने अपना पद संभाला और सेवानिवृत्ति के बाद भारत के विधि आयोग के सदस्य के रूप में कार्य किया। 

1973 में अन्ना चांडी ने “आत्मकथा” शीर्षक नाम से अपनी ऑटोबायोग्राफी भी लिखी थी और 1905 में जन्मी जस्टिस अन्ना चांडी का 1966 में 91 वर्ष की आयु में निधन हो गया था।

Popular

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, एक श्रेष्ठ वीरांगना को यह देश कोटी – कोटी नमन करता है। (Wikimedia Commons)

भारतीय मध्ययुगीन इतिहास जहां अनेक वीर पुरुषों के वीरतापूर्ण कार्यों से भरा पड़ा है। वहीं स्त्री जाति के वीरतापूर्ण कार्यकलापों से यह अक्सर अछूता रहा है। सर्वत्र नारी को दयनीय, लाचार और मानसिक रूप से दास प्रवृति को ही दिखाया गया है। उस काल में यह गौरव से कम नहीं की रानी लक्ष्मीबाई ने भारतीय नारियों की इस दासतापूर्ण मानसिकता को ध्वस्त कर दिखाया था। इसलिए आज भी रानी लक्ष्मीबाई का नाम गर्व से लिया जाता है। एक ऐसी महिला स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने अंग्रजों से लोहा लिया था| आज उनके द्वारा किए गए संघर्ष सभी भारतीयों के हृदय में एक नवीन उत्साह का संचार कर देता है।

आइए आज उनके द्वारा देश की आन-बान-शान को बचाने के लिए किए गए संघर्ष को याद करें। उस युद्ध की बात करें जब उनकी तलवार ने अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे और अंग्रजों के रक्त से अपने अस्तित्व को पूरा किया था।

Keep Reading Show less

चंदा बंद सत्याग्रह जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। (File Photo)

सत्याग्रह का सामन्य अर्थ होता है "सत्य का आग्रह।" सर्वप्रथम इसका प्रयोग महात्मा गांधी द्वारा किया गया था। उन्होंने भारत में कई आंदोलन चलाए, जिनमें चंपारण, बारदोली, खेड़ा सत्याग्रह आदि प्रमुख। हैं। सत्याग्रह स्वराज प्राप्त करने और सामाजिक संघर्षों को मिटाने का एक नैतिक और राजनीतिक अस्त्र है। आज हम ऐसे ही एक सत्याग्रह की बात करेंगे जिसे गांधी जी से प्रेणा लेकर शुरू किया गया था।

"चंदा बंद सत्याग्रह" जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर वह NRI सेल के सह-संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था। डॉ. मुनीश जब आम आदमी पार्टी से जुड़े थे, तब उन्हें पार्टी के NRI सेल का सह-संयोजक नियुक्त किया गया था।

Keep Reading Show less

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया।

मोपला हिंदु नरसंहार या मालाबार विद्रोह 100 साल पहले 20 अगस्त 1921 को शुरू हुई एक ऐसी घटना थी, जिसमें निर्दयतापूर्वक सैकड़ों हिन्दू महिला, पुरुष और बच्चों की हत्या कर दी गई थी। महिलाओं का बलात्कार किया गया था। बड़े पैमाने पर हिन्दुओं को जबरन इस्लाम धर्म में परिवर्तित करा दिया गया था।

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया। आज हम मोपला हिन्दू नरसंहार, 1921 में हिन्दुओं के साथ हुई उसी दर्दनाक घटना की बात करेंगे। आपको बताएंगे की कैसे मोपला हिन्दू नरसंहार (Mopla Hindu Genocide) के खलनायकों को अंग्रेजों से लोहा लेने वाले नायकों के रूप में चिन्हित कर दिया गया।

Keep reading... Show less