Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
व्यक्ति विशेष

Anna Chandy : भारत की पहली महिला न्यायाधीश

अन्ना एक ऐसी महिला थी, जिन्होंने पितृसत्ता के सामने झुकने से इंकार कर दिया था और महिलाओं के मौलिक अधिकारों के उल्लंघन के खिलाफ आवाज उठाई थी।

अन्ना चांडी पूरे ब्रिटिश राष्ट्रमंडल में न्यायाधीश बनने वाली पहली भारतीय महिला थी। (Wikimedia Commons)

कुछ दशक पहले तक समाज में महिलाओं की स्थिति बेहद अलग थी। महिलाओं द्वारा किए गए संघर्ष को हम सभी ने पढ़ा और आज तक देखते भी आ रहे हैं। ये संघर्ष खत्म तो नहीं हुआ मगर अब इसका स्वरूप बदल चुका है। समान वेतन, समान ओहदा, समान प्रतिनिधित्व अब यह सभी मुद्दे मायने रखते हैं। लेकिन आज हम इतिहास के पन्नों में झांककर एक ऐसी महिला के बारे में बात करेंगे जो न केवल भारत में बल्कि पूरे ब्रिटिश राष्ट्रमंडल में न्यायाधीश बनने वाली पहली भारतीय महिला थी। 

अन्ना चांडी का जन्म 4 मई 1905 को त्रिवेंद्रम ( Trivandrum) में, त्रावणकोर राज्य की राजधानी में हुआ था। अन्ना एक सीरियाई ईसाई परिवार से थी। वह एक ऐसी महिला थी, जिन्होंने पितृसत्ता के सामने झुकने से इंकार कर दिया था और महिलाओं के मौलिक अधिकारों के उल्लंघन के खिलाफ आवाज उठाई थी। 


1927 में महारानी सेतु लक्ष्मी बाई ने समाज के कड़े विरोध और संघर्ष करने के बाद, त्रिवेंद्रम में महिलाओं के लिए गवर्नमेंट लॉ कॉलेज खोला था। समाज और पुरुषों के अपमानजनक रवैए के बावजूद अन्ना ने कानून में स्नातकोत्तर डिग्री के लिए दाखिला लिया था। उस समय केवल त्रावणकोर की ही नहीं पूरे केरल की वह पहली महिला थी, जिन्होंने दाखिला लिया और 1929 में डिस्टिंक्शन के साथ अपने स्नातकोत्तर डिग्री को प्राप्त किया था। आगे चलकर उन्होंने एक बैरिस्टर के रूप में अभ्यास करना शुरू किया और आपराधिक कानून में विशेषज्ञता हासिल की थी। 

अन्ना चांडी मात्र एक वकील नहीं थी। वह अक्सर अपनी सक्रियता को अदालत के बाहर भी ले जाती थीं। न्याय के लिए धर्मयुद्ध के अलावा अन्ना ने महिलाओं के उत्थान की दिशा में कदम उठाए थे। 1930 में अन्ना चांडी ने महिलाओं की उन्नति के किए एक पत्रिका प्रकाशित की थी जिसे उन्होंने “श्रीमती” नाम से संपादित किया था। मलयालम में यह पहली पत्रिका भी थी। पत्रिका के माध्यम से अन्ना ने गृह प्रबंधन, सामान्य स्वास्थ्य, घरेलू विषयों के साथ व्यापक रूप से महिलाओं की स्वतंत्रता और विधवा पुनर्विवाह जैसे अहम् मुद्दों पर ध्यान केन्द्रित किया था।

अन्ना चांडी मात्र एक वकील नहीं थी। वह अक्सर अपनी सक्रियता को अदालत के बाहर भी ले जाती थीं। (Pexel)

अपने लेख के माध्यम से उन्होंने खेतों में काम करने वाली महिलाओं के साथ होने वाले भारी मजदूरी भेदभाव पर जोर दिया और इस मुद्दे का निवारण किया था। महिलाओं को सरकारी नौकरियों में आरक्षण के लिए लड़ाई लड़ने वाली यह देश की पहली महिलाओं में से एक थीं। 1935 में उन्होंने महिलाओं को मृत्युदंड दिए जाने कानून के विरोध में भी कड़ी आवाज़ उठाई थी। 

राजनीतिक चेहरा!

एक राजनीतिक चेहरे के रूप में अन्ना चांडी 1930 में सामने आई थीं। उन्होंने इसी वर्ष सक्रिय रूप से राजनीति में जाने का फैसला लिया और SMPA (Shree Mulam Popular Assembly) के लिए चुनाव में खड़े होने का फैसला किया था। लेकिन उनके विरोधियों ने राज्य में दीवान और अन्य सरकारी अधिकारियों के साथ संबंध होने का झूठा आरोप लगाते हुए, त्रिवेंद्रम की दीवारों पर भद्दे चित्र और नारे लिखे। जिस वजह से इन झूठी अफवाहों को जीत मिली और वह उस दौरान चुनाव में हार गई थीं। लेकिन उन्होंने रण छोड़ा नहीं, आगे भी चुनावों में एक जाना – माना चेहरा बनके उभरती रहीं और कई सीटें जीती।

यह भी पढ़ें: भारत की अमर वीरांगना ‘हाड़ी रानी’!

आगे चलकर अन्ना देश की पहली महिला जज बनी। उन्हें त्रावणकोर में जज के रूप में नियुक्त किया गया था। 1937 में इस क्रांतिकारी कदम ने उन्हें फिर एक बार सुर्खियों में डाल दिया था। अन्ना ने इस पद की गंभीरता को समझा और अपना दायित्व बखूबी निभाया। भारत के स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद अन्ना 1948 में जिला अदालत के न्यायाधीश के रूप में नियुक्त हुईं। 1956 में केरल राज्य बनाने के लिए त्रावणकोर और कोचीन राज्यों के विलय के बाद अन्ना को 1959 में उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था , न केवल भारत में बल्कि राष्ट्रमंडल देशों के बीच यह पद संभालने वाली अन्ना पहली महिला बनी थीं। 1967 तक इन्होंने अपना पद संभाला और सेवानिवृत्ति के बाद भारत के विधि आयोग के सदस्य के रूप में कार्य किया। 

1973 में अन्ना चांडी ने “आत्मकथा” शीर्षक नाम से अपनी ऑटोबायोग्राफी भी लिखी थी और 1905 में जन्मी जस्टिस अन्ना चांडी का 1966 में 91 वर्ष की आयु में निधन हो गया था।

Popular

प्री-एक्लेमप्सिया गर्भावस्था के 20वें सप्ताह के बाद रक्तचाप में अचानक वृद्धि है। (Unsplash)

एक नए अध्ययन के अनुसार, जो महिलाएं गर्भावस्था के दौरान कोविड संकमित होती हैं, उनमें प्री-एक्लेमप्सिया विकसित होने का काफी अधिक जोखिम होता है। यह बीमारी दुनिया भर में मातृ और शिशु मृत्यु का प्रमुख कारण है। प्री-एक्लेमप्सिया गर्भावस्था के 20वें सप्ताह के बाद रक्तचाप में अचानक वृद्धि है। अमेरिकन जर्नल ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव2 संक्रमण वाली महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान संक्रमण के बिना प्रीक्लेम्पसिया विकसित होने की संभावना 62 प्रतिशत अधिक होती है।

वेन स्टेट यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में आणविक प्रसूति और आनुवंशिकी के प्रोफेसर रॉबटरे रोमेरो ने कहा कि यह जुड़ाव सभी पूर्वनिर्धारित उपसमूहों में उल्लेखनीय रूप से सुसंगत था। इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव 2 संक्रमण गंभीर विशेषताओं, एक्लम्पसिया और एचईएलएलपी सिंड्रोम के साथ प्री-एक्लेमप्सिया की बाधाओं में उल्लेखनीय वृद्धि के साथ जुड़ा है। एचईएलएलपी सिंड्रोम गंभीर प्री-एक्लेमप्सिया का एक रूप है जिसमें हेमोलिसिस (लाल रक्त कोशिकाओं का टूटना), ऊंचा लिवर एंजाइम और कम प्लेटलेट काउंट शामिल हैं। टीम ने पिछले 28 अध्ययनों की समीक्षा के बाद अपने निष्कर्ष प्रकाशित किए, जिसमें 790,954 गर्भवती महिलाएं शामिल थीं, जिनमें 15,524 कोविड -19 संक्रमण का निदान किया गया था।

गर्भावस्था के दौरान संक्रमण के बिना प्रीक्लेम्पसिया विकसित होने की संभावना 62 प्रतिशत अधिक होती है। (Unsplash)

Keep Reading Show less
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद।(PIB)

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने बुधवार को दोहराया कि भारत सामूहिक स्वास्थ्य और आर्थिक कल्याण सुनिश्चित करने के लिए Covid-19 महामारी के खिलाफ एक निर्णायक और समन्वित प्रतिक्रिया देने के वैश्विक प्रयासों में सबसे आगे रहा है। कोविंद ने यह भी कहा कि दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के तहत भारतीयों को अब तक 80 करोड़ से अधिक खुराक मिल चुकी है।

राष्ट्रपति भवन से एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को एक आभासी समारोह में आइसलैंड, गाम्बिया गणराज्य, स्पेन, ब्रुनेई दारुस्सलाम और श्रीलंका के लोकतांत्रिक गणराज्य के राजदूतों/उच्चायुक्तों से परिचय पत्र स्वीकार किए।

अपना परिचय पत्र प्रस्तुत करने वाले राजदूत निम्न हैं : महामहिम गुडनी ब्रैगसन, आइसलैंड के राजदूत, महामहिम मुस्तफा जवारा, गाम्बिया गणराज्य के उच्चायुक्त, महामहिम जोस मारिया रिडाओ डोमिंगुएज, स्पेन के राजदूत, महामहिम दातो अलैहुद्दीन मोहम्मद ताहा, ब्रुनेई दारुस्सलाम के उच्चायुक्त, महामहिम अशोक मिलिंडा मोरागोडा, श्रीलंका के लोकतांत्रिक समाजवादी गणराज्य के उच्चायुक्त।


इस अवसर पर अपने संबोधन में राष्ट्रपति ने इन सभी राजदूतों को उनकी नियुक्ति पर बधाई दी और उन्हें भारत में एक सफल कार्यकाल के लिए शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि भारत के इन सभी पांच देशों के साथ घनिष्ठ संबंध हैं और भारत इनके साथ शांति, समृद्धि का एक समन्वित दृष्टिकोण साझा करता है।

Keep Reading Show less

देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटें। (IANS)

राम भक्तों द्वारा दी गई और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) (Vishwa Hindu Parishad) द्वारा तीन दशक लंबे मंदिर आंदोलन के दौरान देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटों का इस्तेमाल अब राम जन्मभूमि स्थल पर भव्य मंदिर का निर्माण के लिए किया जाएगा।

मंदिर ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा ने कहा, "1989 के 'शिलान्यास' के दौरान कारसेवकों द्वारा राम जन्मभूमि पर एक लाख पत्थर रखे गए थे। कम से कम, 2 लाख पुरानी कार्यशाला में रह गए हैं, जिन्हें अब निर्माण स्थल पर स्थानांतरित कर दिया जाएगा। ईंटों पर भगवान राम का नाम लिखा है और यह करोड़ों भारतीयों की आस्था का प्रमाण है।

Keep reading... Show less