Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ओपिनियन

आम आदमी पार्टी, दलितों से इतना नफरत क्यूँ करती है? इन 5 सवालों का जवाब दें संजय सिंह!

जब प्रधानमंत्री के जाने से ही पूरा विपक्ष एक सुर में बवाल काट रहा है, तो राष्ट्रपति के जाने से इनकी हालत क्या होती, इसकी आप मात्र कल्पना ही कर सकते हैं।

संजय सिंह, राज्यसभा सांसद, आम आदमी पार्टी(Image: Wikimedia Commons)

कुछ दिनों पहले अयोध्या में हुए भूमि पूजन के बाद से ही लगातार आम आदमी पार्टी के नेता और राज्य सभा सांसद संजय सिंह, इस मुद्दे पर जातीय राजनीति खेलने की कोशिश कर रहे हैं। संजय सिंह का कहना है कि भाजपा ने राष्ट्रपति, राम नाथ कोविन्द व प्रदेश के उपमुख्यमंत्री, केशव प्रसाद मौर्य को भूमि पूजन में ना बुला कर दलितों का अपमान किया है अर्थात भाजपा दलितों से नफरत करती है। आपको बता दें की संजय सिंह के दावे के विपरीत केशव प्रसाद मौर्य आमंत्रित भी किए गए थे व पंडाल में मौजूद भी थे। 

संजय सिंह के इस खोखले दावे की किसी ने जब पोल खोल दी तो वह कहने लग गए, “बुलाने से क्या होता है? प्रधानमंत्री ने उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को पूजा के दौरान साथ मे क्यूँ नहीं बैठाया।” ये बड़ा ही अनंत विषय है, जिसे जितना खींचना चाहो उतना खींच सकते हो। कैसे?  मैं आपको बताता हूँ-

  • पहले कहा गया कि, केशव प्रसाद मौर्य को बुलाया क्यूँ नहीं?
  • पता चला कि बुलाया गया था तो कहने लगे साथ में क्यूँ नहीं बैठाया?
  • साथ में बैठाया होता तो कहते, विधि विधान उनसे ही क्यूँ नहीं करवाया? 
  • विधि विधान करवाया होता तो कहते, प्रधानमंत्री कि जगह केशव प्रसाद मौर्य को ही पूजा पर क्यूँ नहीं बैठाया? 
  • केशव प्रसाद पूजा पर बैठाया होता तो कहते, जब केशव प्रसाद हैं तो मोदी साथ में क्यूँ बैठा है?

खैर, इस फालतू के विवाद का कोई अंत नहीं है।

यह भी पढ़ें: राम को काल्पनिक बताने वाली कांग्रेस पार्टी के कौन-कौन से नेता, अचानक बने ‘रामभक्त’? देखें

संजय सिंह फिलहाल आम आदमी पार्टी के उत्तर प्रदेश प्रभारी हैं। सूत्रों के मुताबिक, जातीय सदभावना बिगाड़ने का काम संजय सिंह, अरविंद केजरीवाल के इशारे पर कर रहे हैं, ताकि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के खिलाफ एक दलित विरोधी माहौल तैयार किया जा सके। इससे पहले भी दिल्ली में हुए हिन्दू विरोधी दंगों को भड़काने में संजय सिंह ने अहम किरदार निभाया था। दिल्ली दंगों का मुख्य आरोपी, ताहिर हुसैन भी संजय सिंह का करीबी माना जाता है। अगर आप आम आदमी पार्टी का ट्वीटर हैंडल खोल कर देखेंगे तो आपको समझ आ जाएगा की किस तरह संजय सिंह, सोशल मीडिया के जरिये लगातार दलित विरोधी माहौल बना कर दंगे भड़काने की कोशिश कर रहे हैं। 

आपको बता दें की राम मंदिर का मुद्दा एक आम मुद्दा नहीं बल्कि आरएसएस व भाजपा का दशकों से चला आ रहा सबसे अहम संकल्प रहा है। 2014 के चुनाव से पहले भी नरेंद्र मोदी ने इस बात को दोहराया था कि अगर जनता उन्हे प्रधानमंत्री बनाएगी तो वह अयोध्या जन्मभूमि पर एक भव्य राम मंदिर का निर्माण कराएँगे। देश के लोगों ने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री चुना और उनके ही कार्यकाल में अब उस राम मंदिर का निर्माण होने जा रहा है। इसी वजह से भूमि पूजन के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर नरेंद्र मोदी का मौजूद होना स्वाभाविक था।

बात रही राष्ट्रपति को ना बुलाए जाने की तो उसके पीछे दो कारण हैं-

  1. राम मंदिर निर्माण का मुद्दा, भाजपा का चुनावी वादा था और नरेंद्र मोदी द्वारा किए गए इस वादे को पूरा किए जाने की स्थिति में प्रधानमंत्री का स्वयं वहाँ मौजूद होना भी स्वाभिक था, लेकिन एक राजनीतिक पार्टी द्वारा किए गए विवादित चुनावी वादे से इत्तेफ़ाक रखना व राष्ट्रपति के रूप मे रामनाथ कोविन्द का वहाँ मौजूद होना उचित नहीं होता। 
  2. आपको बता दें की राष्ट्रपति का पद, देश में सर्वोच्च माना जाता है। राम मंदिर भूमि पूजन में नरेंद्र मोदी को नेतृत्व कर्ता होने के नाते मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद होना आवश्यक था। लेकिन उसी कार्यक्रम में, जहां प्रधानमंत्री मुख्य अतिथि हों, वहाँ राष्ट्रपति भी शिरकत करें, यह राष्ट्रपति पद की गरिमा का अपमान होता।

और वैसे भी, जब प्रधानमंत्री के जाने से ही पूरा विपक्ष एक सुर में बवाल काट रहा है, तो राष्ट्रपति के जाने से इनकी हालत क्या होती, इसकी आप मात्र कल्पना ही कर सकते हैं। 

यह भी पढ़ें: “मोदी जी, टोपी क्यूँ नहीं पहनते, इफ़्तार पार्टी क्यूँ नहीं रखते” पूछने वाले अब राम मंदिर भूमि पूजन करवाने को बता रहे ‘सेकुलरिज्म’ का अपमान

बात करें संजय सिंह कि तो उनके मुताबिक देश में मौजूद हर जात के लोगों को भूमि पूजन में बुलाया जाना चाहिए था, और इसके साथ ही प्रधानमंत्री को उन्हें अपने बगल में बैठा कर भूमि पूजन का कार्यक्रम आरंभ करवाना चाहिए था। अगर छोटे-छोटे सभी जातों को मिला दें तो देश भर में यह आंकड़ा हज़ार से भी ज़्यादा है। मतलब ये हैं की, उन हजारों को बुलाइए, उन्हे प्रधानमंत्री के बगल में बैठाइए, और उनमें से कोई एक ‘फलाना’ जात भी छूट जाए, तो संजय सिंह छाती पीटते हुए, भाजपा को ‘फलाना’ विरोधी तो बता ही देंगे। और अगर किस्मत से, सभी जात के लोगों को बुला भी लिया जाता तो एक और समस्या पैदा हो जाती- ‘प्रधानमंत्री के दाएँ और बाएँ में पहला व्यक्ति कौन बैठेगा?’ अब जात हैं हज़ार और मुख्य स्पॉट है ‘दो’, तो दलित को बैठाते, तो ब्राहमण विरोधी कहलाते, ब्राहमण को बैठाते तो जाट चिल्लाते, जाट को बैठाते, तो राजपूत नाराज़ हो जाते। सीधे शब्दों में अर्थ ये है की इसका कोई समाधान नहीं है। जो संजय सिंह, आज जिस दलित के नाम पे हँगामा मचा रहे हैं, उनके लिए दलित का सम्मान नहीं बल्कि हँगामा करना ही असली मकसद है। दलित नहीं तो कोई और होता, लेकिन हँगामा ज़रूर होता।

अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री, दिल्ली (Picture Source: Wikimedia Commons)

बात अगर उठी ही है, तो जिस भाजपा को संजय सिंह दलित विरोधी बता रहे हैं, उसी भाजपा ने महामहिम रामनाथ कोविन्द जी को राष्ट्रपति बनाया है। लेकिन संजय सिंह कहते हैं- “भाजपा ने तो राजनीति करने के लिए रामनाथ कोविन्द को राष्ट्रपति बनाया है।

अरे साहब, कोई पार्टी अगर एक पिछड़े समुदाय के दलित नेता को देश के सर्वोच्च पद पर बैठा देती है, जो पद, नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री पद से भी ज़्यादा बड़ा हो, उससे बेहतर राजनीति और क्या हो सकती है? उल्टा, संजय सिंह व अरविंद केजरीवाल को इससे सीख लेनी चाहिए और ऐसी राजनीति को अपने पार्टी व सरकार में बढ़ावा भी देना चाहिए। लेकिन इसके विपरीत आम आदमी पार्टी व अरविंद केजरीवाल ने अब तक दलितों के लिए किया ही क्या है? 

अब जब संजय सिंह ने दलित प्रेम का दावा कर ही दिया है तो ज़रा इन सवालों का जवाब भी दे देते तो बेहतर होता- 

  1. दिल्ली का मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की जगह कोई दलित क्यूँ नहीं है? 
  2. उपमुख्यमंत्री के पद पर मनीष सीसोदिया की जगह कोई दलित क्यूँ नहीं है?
  3. आम आदमी पार्टी के कुल तीन राज्य सभा सांसद में, एक भी दलित क्यूँ नहीं है? 
  4. अरविंद केजरीवाल के कैबिनेट में कितने दलित मौजूद हैं? 
  5. उत्तर प्रदेश का प्रभारी संजय सिंह की जगह कोई दलित क्यूँ नहीं है? 
  6. आम आदमी पार्टी, दलितों से इतना नफरत क्यूँ करती है? 

Popular

स्टेशन पर चाय बेचने वाले का बेटा चौथी बार संयुक्त राष्ट्र को संबोधित कर रहा है: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (IANS)

शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूनाइटेड नेशन जनरल असेंबली में 76 सत्र मे संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए एक सकारात्मक और प्रेरक भाषण दिया।

यूएनजीए में भाषणों के सप्ताहांत चरण की शुरुआत के कुछ ही क्षणों के भीतर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "लोकतंत्र उद्धार कर सकता है, लोकतंत्र ने करके दिखाया है"। अपनी बात को आगे कहते हुए उन्होंने गहरी संवेदना से भरी, खुद के बारे में व्यक्तिगत टिप्पणी करते हुए कहा, "स्टेशन पर चाय बेचने वाले का बेटा चौथी बार संयुक्त राष्ट्र को संबोधित कर रहा है।

Keep Reading Show less

मोदी ने अपने संबोधन में कहा, "जब भारत बढ़ता है, तो दुनिया बढ़ती है। (IANS)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा के समक्ष 22 मिनट के अपने संबोधन में 'अद्वितीय' पैमाने पर विज्ञान, प्रौद्योगिकी, संस्कृति और समस्या-समाधान क्षमता के संदर्भ में भारत की शक्ति के विचार को सामने रखा। पीएम मोदी ने जोर देकर कहा कि जब भारतीयों की प्रगति होती है तो विश्व के विकास को भी गति मिलती है। मोदी ने अपने संबोधन में कहा, "जब भारत बढ़ता है, तो दुनिया बढ़ती है। जब भारत में सुधार होता है, तो दुनिया बदल जाती है। भारत में हो रहे विज्ञान और प्रौद्योगिकी आधारित नवाचार दुनिया में एक बड़ा योगदान दे सकते हैं। हमारे तकनीकी समाधानों की मापनीयता और उनकी लागत-प्रभावशीलता दोनों अद्वितीय हैं।"

पेश हैं मोदी के भाषण की 10 खास बातें:

आकांक्षा: "ये भारत के लोकतंत्र की ताकत है कि एक छोटा बच्चा जो कभी एक रेलवे स्टेशन के टी-स्टॉल पर अपने पिता की मदद करता था, वो आज चौथी बार, भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर यूएनजीए को संबोधित कर रहा है।

लोकतंत्र: सबसे लंबे समय तक गुजरात का मुख्यमंत्री और फिर पिछले 7 साल से भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर मुझे हेड ऑफ गवर्मेट की भूमिका में देशवासियों की सेवा करते हुए 20 साल हो रहे हैं। मैं अपने अनुभव से कह रहा हूं। हां, लोकतंत्र उद्धार कर सकता है। हां. लोकतंत्र ने उद्धार किया है।"

बैंकिंग: "बीते सात वर्षों में भारत में 43 करोड़ से ज्यादा लोगों को बैंकिंग व्यवस्था से जोड़ा गया है, जो अब तक इससे वंचित थे। आज 36 करोड़ से अधिक ऐसे लोगों को भी बीमा सुरक्षा कवच मिला है, जो पहले इस बारे में सोच भी नहीं सकते थे।"

स्वास्थ्य देखभाल: "50 करोड़ से ज्यादा लोगों को मुफ्त इलाज की सुविधा देकर, भारत ने उन्हें क्वालिटी हेल्थ सर्विस से जोड़ा है। भारत ने 3 करोड़ पक्के घर बनाकर, बेघर परिवारों को घर का मालिक बनाया है।"

जलापूर्ति: "प्रदूषित पानी, भारत ही नहीं पूरे विश्व और खासकर गरीब और विकासशील देशों की बहुत बड़ी समस्या है। भारत में इस चुनौती से निपटने के लिए हम 17 करोड़ से अधिक घरों तक, पाइप से साफ पानी पहुंचाने का बहुत बड़ा अभियान चला रहे हैं।"

भारत और भारतीय: "दुनिया का हर छठा व्यक्ति भारतीय है। जब भारतीय प्रगति करते हैं, तो दुनिया के विकास को भी गति मिलती है। जब भारत बढ़ता है, तो दुनिया बढ़ती है। जब भारत सुधार करता है, तो दुनिया बदल जाती है।"

विज्ञान और तकनीक: "भारत में हो रहे विज्ञान और प्रौद्योगिकी आधारित नवाचार दुनिया में एक बड़ा योगदान दे सकते हैं। हमारे तकनीकी समाधानों का स्केल और उनकी कम लागत, दोनों अतुलनीय है। भारत में यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) के जरिए हर महीने 3.5 अरब से ज्यादा ट्रांजेक्शन हो रहे हैं।"

यह भी पढ़ें :- खान को भारत का जवाब : पाकिस्तान 'आतंकवादियों का समर्थक, अल्पसंख्यकों का दमन करने वाला'

वैक्सीन : "मैं यूएनजीए को ये जानकारी देना चाहता हूं कि भारत ने दुनिया की पहली डीएनए वैक्सीन विकसित कर ली है, जिसे 12 साल की आयु से ज्यादा के सभी लोगों को लगाया जा सकता है। एक और एमआरएनए टीका विकास के अंतिम चरण में है।" निवेश का अवसर: "मैं दुनिया भर के वैक्सीन निमार्ताओं को भी निमंत्रण देता हूं। आओ, भारत में वैक्सीन बनाएं।"

आतंकवाद: "प्रतिगामी सोच वाले देश आतंकवाद को एक राजनीतिक उपकरण के रूप में उपयोग कर रहे हैं। इन देशों को यह समझना चाहिए कि आतंकवाद उनके लिए भी उतना ही बड़ा खतरा है। साथ ही, यह सुनिश्चित करना नितांत आवश्यक है कि अफगानिस्तान के क्षेत्र का उपयोग आतंकवाद फैलाने या आतंकवादी हमलों के लिए न हो।"

आतंकवाद से निपटने पर जोर देते हुए पीएम मोदी ने आगे कहा, "हमें इस बात के लिए भी सतर्क रहना होगा कि वहां की नाजुक स्थितियों का कोई देश, अपने स्वार्थ के लिए, एक टूल की तरह इस्तेमाल करने की कोशिश ना करे। इस समय अफगानिस्तान की जनता को, वहां की महिलाओं और बच्चों को, वहां के अल्पसंख्यकों को मदद की जरूरत है और इसमें हमें उन्हें सहायता प्रदान करके अपना दायित्व निभाना ही होगा।" (आईएएनएस-SM)


पूर्वोत्तर सीमा क्षेत्र बहुत संवेदनशील हैं और उनके लिए तोड़फोड़ के ऐसे प्रयासों के बारे में जानना नितांत आवश्यक है। (Unsplash)

भारत चीन सीमा पर बसे हुए गांव चिंता का विषय हैं। हैग्लोबल काउंटर टेररिज्म काउंसिल के सलाहकार बोर्ड ने एक बड़ी सूचना देते हुए बड़ा खुलासा किया है कि चीन ने भारत के साथ अपनी सीमा पर 680 'जियाओकांग' (समृद्ध या संपन्न गांव) बनाए हैं। ये गांव भारतीय ग्रामीणों को बेहतरीन चीनी जीवन की और प्रभावित करने के लिए हैं।

कृष्ण वर्मा, ग्लोबल काउंटर टेररिज्म काउंसिल के सलाहकार बोर्ड के एक सदस्य ने आईएएनएस को बताया, " ये उनकी ओर से खुफिया मुहिम और सुरक्षा अभियान है। वे लोगों को भारत विरोधी बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इसलिए हम अपने पुलिस कर्मियों को इन प्रयासों के बारे में अभ्यास दे रहे हैं और उन्हें उनकी हरकतों का मुकाबले का सामना करने के लिए सक्षम बना रहे हैं। चीनी सरकार के द्वारा लगभग 680 संपन्न गांव का निर्माण किया जा चुका है। जो चीन और भूटान की सीमाओं पर हैं। इस गांव में चीन के स्थानीय नागरिक भारतीयों को प्रभावित करते है कि चीनी सरकार बहुत अच्छी है। शुक्रवार को भारत सरकार के पूर्व विशेष सचिव वर्मा गुजरात के गांधीनगर में राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय (आरआरयू) में 16 परिवीक्षाधीन उप अधीक्षकों (डीवाईएसपी) के लिए 12 दिवसीय विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन के अवसर पर एक कार्यक्रम में थे।

Keep reading... Show less