Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

क्या ​हिन्दू विरोधियों को नहीं मिली सत्ता की कुर्सी?​

तृणमूल कांग्रेस लगातार तीसरी बार सत्ता में आ गई है। "खेला होबे" से "खेला समाप्त" हुआ लेकिन इस दौरान कई लोगों को हार का कड़वा घूंट पीना पड़ा है।

चुनावी नतीजों के बाद बंगाल की कुर्सी का खेल तो समाप्त हो गया है। (NewsGram Hindi)

पश्चिम बंगाल में हुए विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस (TMC) लगातार तीसरी बार सत्ता में आ गई है। 213 सीटों के साथ TMC ने फिर एक बार अपनी पैठ को मजबूत बना लिया है। चुनावी नतीजों के बाद बंगाल की कुर्सी का खेल तो समाप्त हो गया है। लेकिन ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को अपनी ही सीट से मुंह की खानी पड़ी है। यानी नंदीग्राम की सीट पर बीजेपी के सुवेंदु अधिकारी ने जीत हासिल की है। “खेला होबे” से “खेला समाप्त” हुआ लेकिन इस दौरान कई लोगों को हार का कड़वा घूंट पीना पड़ा है। कुछ ऐसे नेताओं को भी हार मिली है जो सियासी खेल में मशगूल हो अपने आप को सेक्युलर धारी साबित करने से पीछे नहीं हटते। जिस वजह से उनकी जुबान से निकलते कुछ शब्द चर्चा का विषय बन जाते हैं। 

यूं तो टीएमसी ने पश्चिम बंगाल(West Bengal) में अपना परचम लहराया है। लेकिन टीएमसी की ही सुजाता खान जिन्हें आरामबाग से उम्मीदवार बनाया गया था। 7172 मतों से हार मिली है। उम्मीदवार बनी सुजाता खान ने, दलितों पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा था, अनुसूचित जाति के लोग भिखारी होते हैं। सवाल यही उठता है ‘जनता की सेवा या कुर्सी की ऐश’ ? लेकिन इन्हें हार मिली जिसके बाद बीजेपी के कई दफ्तरों को आग लगा दिया गया।


इसी क्रम में सबसे पहले बंगाल (Bengal) की सायोनी घोष (saayoni ghosh) जो एक बंगाली अभिनेत्री भी हैं। जिन्हें टीएमसी (TMC) ने आसनसोल दक्षिण से उम्मीदवार बनाया गया था। वहां से इन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा है। कुल 4487 वोटों से हार मिली है। अभी हाल – फिलहाल में इन्होंने हिन्दू धर्म को आहत करने वाली एक अभद्र तस्वीर शेयर की थी। जिसमें इन्होंने भगवान शिव का मजाक बनाया था। उनके शिवलिंग पर कंडोम चढ़ाया था। जिसके तहत इन पर FIR भी दर्ज की गई थी। 

केरल की बात करें तो वहां कांटे की टक्कर चल रही थी। कांग्रेस के बिंदु कृष्णा और सीपीआई के एम मुकेश के बिच। जहां 58,524 वोटों से मुकेश विजयी रहे थे। कांग्रेस यूं तो जीत के लिए कुछ भी पैंतरे अपनाती है। लेकिन ‘बीफ फेस्टिवल’ का आयोजन एक अत्यंत निंदनीय कृत है। कांग्रेस के इन्हीं बिंदु कृष्णा ने ‘बीफ फेस्टिवल’ का आयोजन किया था। बीफ का तो पता नहीं हार का स्वाद अवश्य चख लिया इन्होंने। 

इसी सूची में एक नाम भाजपा के नेता बनेन्द्र कुमार मुशहरी का भी है। जिन्होंने कहा था कि, बीफ भारत का एक राष्ट्रीय भोजन है। भले ही राज्य में उनकी पार्टी ने सत्ता हासिल की हो लेकिन असम के गौरीपुर से उम्मीदवार बने बनेन्द्र कुमार मुशहरी को हार का सामना करना पड़ा है। 

इसी क्रम में बंगाल (Bengal) की सायोनी घोष (saayoni ghosh) जो एक बंगाली अभिनेत्री भी हैं। जिन्हें टीएमसी (TMC) ने आसनसोल दक्षिण से उम्मीदवार बनाया गया था। वहां से इन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा है। कुल 4487 वोटों से हार मिली है। अभी हाल – फिलहाल में इन्होंने हिन्दू धर्म को आहत करने वाली एक अभद्र तस्वीर शेयर की थी। जिसमें इन्होंने भगवान शिव का मजाक बनाया था। उनके शिवलिंग पर कंडोम चढ़ाया था। जिसके तहत इन पर FIR भी दर्ज की गई थी। 

यह भी पढ़ें :- West Bengal Violence: सत्ता में आते ही फिर शुरू हुआ हिन्दुओं के मौत का घिनौना खेल?

सभी उम्मीदवार जीतने के लिए अक्सर कई पैंतरे अपनाते हैं।  रैलियां, भाषण अलग – अलग सियासी खेल खेलते नजर आते हैं। लेकिन इस बीच कुछ उम्मीदवार सेक्युलरिज्म का गन्दा उदाहरण पेश करने से पीछे नहीं हटते। हिन्दू धर्म विरोधी का सबूत पेश करना उनके लिए जरूरी हो जाता है। इन जैसे सेक्युलर धारी लोगों का जनता से कोई लेना देना नहीं होता। सत्ता हासिल कर ये लोग केवल अपना मकसद पूरा करते हैं। 

ये सत्ता का घमासान युद्ध तो आगे भी देखने को मिलेगा और आगे भी जनता ऐसे लोगों को हार की धूल चटाती रहेगी। 

Popular

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, एक श्रेष्ठ वीरांगना को यह देश कोटी – कोटी नमन करता है। (Wikimedia Commons)

भारतीय मध्ययुगीन इतिहास जहां अनेक वीर पुरुषों के वीरतापूर्ण कार्यों से भरा पड़ा है। वहीं स्त्री जाति के वीरतापूर्ण कार्यकलापों से यह अक्सर अछूता रहा है। सर्वत्र नारी को दयनीय, लाचार और मानसिक रूप से दास प्रवृति को ही दिखाया गया है। उस काल में यह गौरव से कम नहीं की रानी लक्ष्मीबाई ने भारतीय नारियों की इस दासतापूर्ण मानसिकता को ध्वस्त कर दिखाया था। इसलिए आज भी रानी लक्ष्मीबाई का नाम गर्व से लिया जाता है। एक ऐसी महिला स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने अंग्रजों से लोहा लिया था| आज उनके द्वारा किए गए संघर्ष सभी भारतीयों के हृदय में एक नवीन उत्साह का संचार कर देता है।

आइए आज उनके द्वारा देश की आन-बान-शान को बचाने के लिए किए गए संघर्ष को याद करें। उस युद्ध की बात करें जब उनकी तलवार ने अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे और अंग्रजों के रक्त से अपने अस्तित्व को पूरा किया था।

Keep Reading Show less

चंदा बंद सत्याग्रह जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। (File Photo)

सत्याग्रह का सामन्य अर्थ होता है "सत्य का आग्रह।" सर्वप्रथम इसका प्रयोग महात्मा गांधी द्वारा किया गया था। उन्होंने भारत में कई आंदोलन चलाए, जिनमें चंपारण, बारदोली, खेड़ा सत्याग्रह आदि प्रमुख। हैं। सत्याग्रह स्वराज प्राप्त करने और सामाजिक संघर्षों को मिटाने का एक नैतिक और राजनीतिक अस्त्र है। आज हम ऐसे ही एक सत्याग्रह की बात करेंगे जिसे गांधी जी से प्रेणा लेकर शुरू किया गया था।

"चंदा बंद सत्याग्रह" जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर वह NRI सेल के सह-संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था। डॉ. मुनीश जब आम आदमी पार्टी से जुड़े थे, तब उन्हें पार्टी के NRI सेल का सह-संयोजक नियुक्त किया गया था।

Keep Reading Show less

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया।

मोपला हिंदु नरसंहार या मालाबार विद्रोह 100 साल पहले 20 अगस्त 1921 को शुरू हुई एक ऐसी घटना थी, जिसमें निर्दयतापूर्वक सैकड़ों हिन्दू महिला, पुरुष और बच्चों की हत्या कर दी गई थी। महिलाओं का बलात्कार किया गया था। बड़े पैमाने पर हिन्दुओं को जबरन इस्लाम धर्म में परिवर्तित करा दिया गया था।

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया। आज हम मोपला हिन्दू नरसंहार, 1921 में हिन्दुओं के साथ हुई उसी दर्दनाक घटना की बात करेंगे। आपको बताएंगे की कैसे मोपला हिन्दू नरसंहार (Mopla Hindu Genocide) के खलनायकों को अंग्रेजों से लोहा लेने वाले नायकों के रूप में चिन्हित कर दिया गया।

Keep reading... Show less