Tuesday, May 11, 2021
Home देश हिन्दू विरोधियों को नहीं मिली सत्ता की कुर्सी!

हिन्दू विरोधियों को नहीं मिली सत्ता की कुर्सी!

तृणमूल कांग्रेस लगातार तीसरी बार सत्ता में आ गई है। "खेला होबे" से "खेला समाप्त" हुआ लेकिन इस दौरान कई लोगों को हार का कड़वा घूंट पीना पड़ा है।

पश्चिम बंगाल में हुए विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस (TMC) लगातार तीसरी बार सत्ता में आ गई है। 213 सीटों के साथ TMC ने फिर एक बार अपनी पैठ को मजबूत बना लिया है। चुनावी नतीजों के बाद बंगाल की कुर्सी का खेल तो समाप्त हो गया है। लेकिन ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को अपनी ही सीट से मुंह की खानी पड़ी है। यानी नंदीग्राम की सीट पर बीजेपी के सुवेंदु अधिकारी ने जीत हासिल की है। “खेला होबे” से “खेला समाप्त” हुआ लेकिन इस दौरान कई लोगों को हार का कड़वा घूंट पीना पड़ा है। कुछ ऐसे नेताओं को भी हार मिली है जो सियासी खेल में मशगूल हो अपने आप को सेक्युलर धारी साबित करने से पीछे नहीं हटते। जिस वजह से उनकी जुबान से निकलते कुछ शब्द चर्चा का विषय बन जाते हैं। 

यूं तो टीएमसी ने पश्चिम बंगाल(West Bengal) में अपना परचम लहराया है। लेकिन टीएमसी की ही सुजाता खान जिन्हें आरामबाग से उम्मीदवार बनाया गया था। 7172 मतों से हार मिली है। उम्मीदवार बनी सुजाता खान ने, दलितों पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा था, अनुसूचित जाति के लोग भिखारी होते हैं। सवाल यही उठता है ‘जनता की सेवा या कुर्सी की ऐश’ ? लेकिन इन्हें हार मिली जिसके बाद बीजेपी के कई दफ्तरों को आग लगा दिया गया।

इसी क्रम में सबसे पहले बंगाल (Bengal) की सायोनी घोष (saayoni ghosh) जो एक बंगाली अभिनेत्री भी हैं। जिन्हें टीएमसी (TMC) ने आसनसोल दक्षिण से उम्मीदवार बनाया गया था। वहां से इन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा है। कुल 4487 वोटों से हार मिली है। अभी हाल – फिलहाल में इन्होंने हिन्दू धर्म को आहत करने वाली एक अभद्र तस्वीर शेयर की थी। जिसमें इन्होंने भगवान शिव का मजाक बनाया था। उनके शिवलिंग पर कंडोम चढ़ाया था। जिसके तहत इन पर FIR भी दर्ज की गई थी। 

केरल की बात करें तो वहां कांटे की टक्कर चल रही थी। कांग्रेस के बिंदु कृष्णा और सीपीआई के एम मुकेश के बिच। जहां 58,524 वोटों से मुकेश विजयी रहे थे। कांग्रेस यूं तो जीत के लिए कुछ भी पैंतरे अपनाती है। लेकिन ‘बीफ फेस्टिवल’ का आयोजन एक अत्यंत निंदनीय कृत है। कांग्रेस के इन्हीं बिंदु कृष्णा ने ‘बीफ फेस्टिवल’ का आयोजन किया था। बीफ का तो पता नहीं हार का स्वाद अवश्य चख लिया इन्होंने। 

इसी सूची में एक नाम भाजपा के नेता बनेन्द्र कुमार मुशहरी का भी है। जिन्होंने कहा था कि, बीफ भारत का एक राष्ट्रीय भोजन है। भले ही राज्य में उनकी पार्टी ने सत्ता हासिल की हो लेकिन असम के गौरीपुर से उम्मीदवार बने बनेन्द्र कुमार मुशहरी को हार का सामना करना पड़ा है। 

इसी क्रम में बंगाल (Bengal) की सायोनी घोष (saayoni ghosh) जो एक बंगाली अभिनेत्री भी हैं। जिन्हें टीएमसी (TMC) ने आसनसोल दक्षिण से उम्मीदवार बनाया गया था। वहां से इन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा है। कुल 4487 वोटों से हार मिली है। अभी हाल – फिलहाल में इन्होंने हिन्दू धर्म को आहत करने वाली एक अभद्र तस्वीर शेयर की थी। जिसमें इन्होंने भगवान शिव का मजाक बनाया था। उनके शिवलिंग पर कंडोम चढ़ाया था। जिसके तहत इन पर FIR भी दर्ज की गई थी। 

यह भी पढ़ें :- West Bengal Violence: सत्ता में आते ही फिर शुरू हुआ हिन्दुओं के मौत का घिनौना खेल?

सभी उम्मीदवार जीतने के लिए अक्सर कई पैंतरे अपनाते हैं।  रैलियां, भाषण अलग – अलग सियासी खेल खेलते नजर आते हैं। लेकिन इस बीच कुछ उम्मीदवार सेक्युलरिज्म का गन्दा उदाहरण पेश करने से पीछे नहीं हटते। हिन्दू धर्म विरोधी का सबूत पेश करना उनके लिए जरूरी हो जाता है। इन जैसे सेक्युलर धारी लोगों का जनता से कोई लेना देना नहीं होता। सत्ता हासिल कर ये लोग केवल अपना मकसद पूरा करते हैं। 

ये सत्ता का घमासान युद्ध तो आगे भी देखने को मिलेगा और आगे भी जनता ऐसे लोगों को हार की धूल चटाती रहेगी। 

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,639FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी