Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

अष्टभुजा देवी मंदिर: इस्लामिक कट्टरपंथियों के कुकर्मों का करारा जवाब

यह मंदिर उन कट्टरपंथियों को करारा जवाब है जिन्होंने सदियों से और आज भी हमारे धार्मिक स्थलों को नष्ट करने का प्रयास किया था और कर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ के गोंडे गांव में स्थित अष्टभुजा देवी मंदिर। (सांकेतिक चित्र, Unsplash)

इतिहास के पन्ने पलट कर देखें तो पता चलता है कि इस्लामिक कट्टरपंथियों ने हमारी संस्कृति, सभ्यता और धार्मिक स्थलों का विनाश कर देने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। लेकिन फिर भी इतिहास मुगलों के कुकर्मों पर परदा डाल अक्सर उसके गुणगान करता नजर आता है। आज हम ऐसे ही एक मंदिर की बात करेंगे जिसे मुगलों ने ध्वस्त कर देने का पूरा प्रयास किया था। 

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के प्रतापगढ़ के गोंडे गांव में स्थित अष्टभुजा देवी मंदिर। यहां अष्ठभूजा देवी की मूर्ति स्थापित है। जो प्राचीन काल से अब तक अपने अस्तित्व को बनाए हुए है। आपको बता दें कि इस मंदिर में देवी की बिना शीश वाली प्रतिमा स्थापित है। जिसे प्राचीन काल में औरंगजेब द्वारा खंडित कर दिया गया था। कुछ लोग इस मंदिर को लेकर टिप्पणी करते हैं कि शस्त्रों में बताया गया है कि खंडित प्रतिमाओं की न तो पूजा की जाती है न ही घर या मंदिर में रखा जाता है। लेकिन आपको बता दें कि इस मंदिर को किसी परंपरा की वजह से नहीं बल्कि यह मंदिर उन कट्टरपंथियों की निशानी है जिसे ध्वस्त कर देने में वह नाकामयाब रहे थे। यह मंदिर उन कट्टरपंथियों को करारा जवाब है जिन्होंने सदियों से और आज भी हमारे धार्मिक स्थलों को नष्ट करने का प्रयास किया था और कर रहे हैं। 


मुगल शासक औरंगजेब (Aurangzeb) ने 1699 ई. में हिन्दू मंदिरों को तोड़ने का आदेश जारी किया था। (सांकेतिक चित्र, Wikimedia Commons)

मंदिर से जुड़ा इतिहास क्या है?

जिस क्षेत्र में यह मंदिर विद्यमान है उस क्षेत्र का जिक्र रामायण (Ramayana) और महाभारत (Mahabharata) काल में भी देखने को मिलता है। इसलिए इस विषय में आज भी मतभेद हैं कि इस मंदिर का निर्माण किसने और कब करवाया था। मंदिर की दीवारें, उत्कृष्ट नक्काशियों व विभिन्न प्रकार की आकृतियों को देखने के बाद इतिहासकार व पुरातत्वविद इसे 11वीं शताब्दी का बना हुआ मानते हैं। अर्चेलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (Archaeological Survey of India) के रिकॉर्ड्स के मुताबिक मुगल शासक औरंगजेब (Aurangzeb) ने 1699 ई. में हिन्दू मंदिरों को तोड़ने का आदेश जारी किया था। तब उस समय मंदिर को बचाने के लिए यहां के पुजारी ने मंदिर के मुख्य द्वार का निर्माण कुछ इस प्रकार करवाया की यह बाहर से देखने पर मस्जिद सा प्रतीत हो। ऐसा मुगलों में भ्रम पैदा करने के लिए किया गया था। मुगलिया फौज लगभग इस मंदिर को मस्जिद समझकर इसके सामने से पार हो गई थी। लेकिन एक मुगल सेनापति को मंदिर में टंगे घंटे पर नजर पड़ गई। इसके बाद औरंगजेब की फौज ने मंदिर में प्रवेश किया और बर्बरता पूर्ण मंदिर में स्थित प्रतिमाओं के सिर धड़ से अलग कर दिए। 

आज भी वह मूर्तियां इस मंदिर में इसी रूप में देखने को मिलती है। इस मंदिर में अष्टभुजा देवी की मूर्ति भी स्थापित थी लेकिन यहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि वह 15 साल पहले चोरी हो गई थी। हालांकि उसके बाद यहां के लोगों ने देवी अष्ठभुजा की पत्थर की प्रतिमा स्थापित कर दी थी। 

यह भी पढ़ें :- जटोली शिव मंदिर: जहां के पथरों को थपथपाने से आती है “डमरू की आवाज।”

आपको यह भी बता दें कि इस प्राचीन मंदिर के मुख्य द्वार पर एक विशेष भाषा में कुछ लिखा है। यह कौन सी भाषा है और यहां क्या लिखा है, यह समझने में सभी इतिहासकार, पुरातत्वविद अब तक असफल रहे हैं। कुछ इतिहासकार इसे ब्राह्मी लिपि (Brahmi Script) का मानते हैं। कुछ इसे उससे भी पुरानी कोई अज्ञात भाषा का मानते हैं। लेकिन यहां क्या लिखा है अब तक कोई नहीं समझ पाया। 

इस अत्यन्त प्राचीन मंदिर और इतिहास में इस मंदिर का उल्लेख होने पर भी इस मंदिर की दशा अत्यंत दयनीय है। इस प्राचीन ऐतिहासिक धरोहर को नजरंदाज करने का यही अर्थ है कि इतिहास तो मुगलों का गुणगान कर रहा है और हिन्दू सोया हुआ है।  

Popular

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, एक श्रेष्ठ वीरांगना को यह देश कोटी – कोटी नमन करता है। (Wikimedia Commons)

भारतीय मध्ययुगीन इतिहास जहां अनेक वीर पुरुषों के वीरतापूर्ण कार्यों से भरा पड़ा है। वहीं स्त्री जाति के वीरतापूर्ण कार्यकलापों से यह अक्सर अछूता रहा है। सर्वत्र नारी को दयनीय, लाचार और मानसिक रूप से दास प्रवृति को ही दिखाया गया है। उस काल में यह गौरव से कम नहीं की रानी लक्ष्मीबाई ने भारतीय नारियों की इस दासतापूर्ण मानसिकता को ध्वस्त कर दिखाया था। इसलिए आज भी रानी लक्ष्मीबाई का नाम गर्व से लिया जाता है। एक ऐसी महिला स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने अंग्रजों से लोहा लिया था| आज उनके द्वारा किए गए संघर्ष सभी भारतीयों के हृदय में एक नवीन उत्साह का संचार कर देता है।

आइए आज उनके द्वारा देश की आन-बान-शान को बचाने के लिए किए गए संघर्ष को याद करें। उस युद्ध की बात करें जब उनकी तलवार ने अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे और अंग्रजों के रक्त से अपने अस्तित्व को पूरा किया था।

Keep Reading Show less

चंदा बंद सत्याग्रह जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। (File Photo)

सत्याग्रह का सामन्य अर्थ होता है "सत्य का आग्रह।" सर्वप्रथम इसका प्रयोग महात्मा गांधी द्वारा किया गया था। उन्होंने भारत में कई आंदोलन चलाए, जिनमें चंपारण, बारदोली, खेड़ा सत्याग्रह आदि प्रमुख। हैं। सत्याग्रह स्वराज प्राप्त करने और सामाजिक संघर्षों को मिटाने का एक नैतिक और राजनीतिक अस्त्र है। आज हम ऐसे ही एक सत्याग्रह की बात करेंगे जिसे गांधी जी से प्रेणा लेकर शुरू किया गया था।

"चंदा बंद सत्याग्रह" जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर वह NRI सेल के सह-संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था। डॉ. मुनीश जब आम आदमी पार्टी से जुड़े थे, तब उन्हें पार्टी के NRI सेल का सह-संयोजक नियुक्त किया गया था।

Keep Reading Show less

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया।

मोपला हिंदु नरसंहार या मालाबार विद्रोह 100 साल पहले 20 अगस्त 1921 को शुरू हुई एक ऐसी घटना थी, जिसमें निर्दयतापूर्वक सैकड़ों हिन्दू महिला, पुरुष और बच्चों की हत्या कर दी गई थी। महिलाओं का बलात्कार किया गया था। बड़े पैमाने पर हिन्दुओं को जबरन इस्लाम धर्म में परिवर्तित करा दिया गया था।

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया। आज हम मोपला हिन्दू नरसंहार, 1921 में हिन्दुओं के साथ हुई उसी दर्दनाक घटना की बात करेंगे। आपको बताएंगे की कैसे मोपला हिन्दू नरसंहार (Mopla Hindu Genocide) के खलनायकों को अंग्रेजों से लोहा लेने वाले नायकों के रूप में चिन्हित कर दिया गया।

Keep reading... Show less