Tuesday, June 15, 2021
Home देश शिक्षा असम सरकार का साहसिक फैसला 'सरकारी मदरसे अप्रैल से हो जाएंगे सामान्य...

असम सरकार का साहसिक फैसला ‘सरकारी मदरसे अप्रैल से हो जाएंगे सामान्य स्कूल’

30 दिसंबर को राज्य विधानसभा द्वारा इस आशय का कानून पारित किए जाने के बाद एक अप्रैल से 620 से अधिक ऐसे संस्थानों को सामान्य स्कूलों में परिवर्तित कर दिया जाएगा।

असम में सरकार की ओर से संचालित सभी मदरसों को समाप्त कर दिया जाएगा और 30 दिसंबर को राज्य विधानसभा द्वारा इस आशय का कानून पारित किए जाने के बाद एक अप्रैल से 620 से अधिक ऐसे संस्थानों को सामान्य स्कूलों में परिवर्तित कर दिया जाएगा। यह बात असम के शिक्षा और वित्तमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने बुधवार को कही। शिक्षा विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि असम के राज्यपाल जगदीश मुखी ने ‘द असम रीपलिंग एक्ट 2020’ के लिए अपनी सहमति दे दी है और उक्त अधिनियम के अमल में आने के साथ एक अप्रैल से 620 से अधिक मदरसों को सामान्य स्कूलों में बदल दिया जाएगा।

हालांकि राज्य सरकार ने फिलहाल असम के सैकड़ों निजी तौर पर संचालित मदरसों के बारे में कोई विशेष निर्णय नहीं लिया है।

सरमा ने इस कदम को ऐतिहासिक और प्रगतिशील करार देते हुए एक ट्वीट में कहा, “खुशी है कि असम निरसन अधिनियम 2020 को माननीय राज्यपाल की सहमति प्राप्त हो गई है और यह प्रभावी हो गया है। मदरसा एजुकेशन प्रांतीयकरण अधिनियम, 1995 और असम मदरसा शिक्षा अधिनियम, 2018 निरस्त कर दिया गया है। सभी सरकारी मदरसे सामान्य शिक्षा संस्थान के रूप में चलेंगे।”

कांग्रेस और ऑल इंडिया युनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट सहित विपक्षी दलों के विरोध के बीच, राज्य विधानसभा ने असम मदरसा शिक्षा (प्रांतीयकरण) अधिनियम, 1995 और असम मदरसा शिक्षा (कर्मचारियों की सेवा का प्रांतीयकरण और मदरसा शैक्षणिक संस्थानों का पुन: संगठन) अधिनियम, 2018 को समाप्त करने का प्रस्ताव रखते हुए पिछले साल 30 दिसंबर को द असम रीपलिंग एक्ट 2020 पारित किया था।

madarsa in assam
शिक्षा विभाग ने कहा कि अधिनियम के लागू होने से असम में राज्य मदरसा शिक्षा बोर्ड भी भंग हो जाएगा।(wikimedia Commons)

शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने कहा कि अधिनियम के लागू होने से असम में राज्य मदरसा शिक्षा बोर्ड भी भंग हो जाएगा।

शिक्षा मंत्री ने पहले कहा था कि सरकार द्वारा संचालित 97 संस्कृत टोल्स (वैदिक शिक्षा केंद्र) भी बंद हो जाएंगे, क्योंकि सरकार धार्मिक शिक्षा को निधि नहीं दे सकती, क्योंकि यह एक धर्मनिरपेक्ष इकाई है।

उन्होंने कहा था कि ये 97 संस्कृत टोल कुमार भास्करवर्मा संस्कृत विश्वविद्यालय को सौंपे जाएंगे। इन्हें शिक्षा और अनुसंधान के केंद्रों में परिवर्तित किया जाएगा, जहां भारतीय संस्कृति, सभ्यता और राष्ट्रवाद का अध्ययन किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: “अल्पसंख्यक का रोना रोने वाले अल्पसंख्यक नहीं”

सरमा ने मीडिया से कहा कि बिना धर्म देखे भारतीय संस्कृति, सभ्यता और राष्ट्रवाद को इन परिवर्तित शिक्षण संस्थानों में पढ़ाया जाएगा, जिससे असम इस थीम पर इन विषयों को पढ़ाने वाला पहला भारतीय राज्य बन जाएगा।

इससे पहले, सरमा ने कहा था कि राज्य सरकार मदरसों को चलाने के लिए सालाना 260 करोड़ रुपये खर्च कर रही है और सरकार धार्मिक शिक्षा के लिए सार्वजनिक धन खर्च नहीं कर सकती।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी