जिंदा रखने होंगे कम से कम 80 फीसदी पौधे

0
10
दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय। (Twitter)

दिल्ली की ट्री ट्रांसप्लांटेशन पॉलिसी के अंतर्गत पौधे लगाने वाली एजेंसियों को, लगाए गए पौधों में से कम से कम 80 प्रतिशत को बचाना होगा।

यह बात बुधवार को दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कही। दिल्ली सरकार द्वारा चलाए जा रहे धूल प्रदूषण विरोधी अभियान के तहत बुधवार को पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने चांदनी चौक में चल रहे पुनर्निमाण कार्य का औचक निरीक्षण किया। पर्यावरण मंत्री ने निर्माण साइट पर दिल्ली सरकार द्वारा जारी सभी दिशा-निर्देशों का पालन होता पाया।

धूल के प्रदूषण को रोकने के लिए मौके पर पानी के चार टैंकर लगे पाए गए। गोपाल राय ने कहा, “प्रदूषण का मसला किसी एजेंसी का नहीं है, बल्कि यह मसला लोगों की जिंदगी का है। किसी भी तरह से हो रहे प्रदूषण को रोकना होगा और सभी एजेंसियों को मिलकर प्रदूषण के विरूद्ध लड़ाई लड़नी पड़ेगी। कोई यह कह कर अपनी जिम्मेदरी से नहीं बच सकता कि यह दूसरे विभाग का काम है। सरकार ने पहले ही निर्माण कार्यों के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं।”

उन्होंने सभी विभागों और लोगों से अपील की कि वे इन दिशा-निर्देंशों का पालन करें और प्रदूषण को कम करने में अपना योगदान दें।

उन्होंने ने कहा, “हमारे पास पिछले कई दिनों से यहां की शिकायत आ रही थी कि यहां पर दिशा-निर्देशों का उल्लंघन कर निर्माण कार्य चल रहा है। इस शिकायत पर हम यहां पर औचक निरीक्षण करने आए हैं।”

उन्होंने बताया कि निरीक्षण के दौरान हमने मौके पर पाया कि निर्माण साइट पर अभी तक सारे मानदंड का पालन किया जा रहा है। यहां के अधिकारी बता रहे हैं कि धूल उड़ने से रोकने के लिए यहां पर पानी के चार टैंकर लगाए गए हैं और पानी का लगातार छिड़काव किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें – 17 अक्टूबर से पुनः खुलने जा रही है ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’

चांदनी चौक के इस निर्माण स्थल पर रात में मलबा लाकर डाल देते हैं, इसलिए अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि यहां पर जो भी मलबा पड़ रहा है, उसको पीडब्ल्यूडी, एमसीडी के साथ मिलकर साफ करे, क्योंकि इसकी पहरेदारी कोई नहीं कर सकता है।

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा, “अधिकारियों को निर्माण साइट पर सावधानी बरतने के निर्देश दिए गए हैं, क्योंकि यहां पर घनी आबादी है। इसलिए यहां पर किसी तरह की लापरवाही पाई जाएगी, तो कार्रवाई की जाएगी।

एक सवाल का जवाब देते हुए राय ने कहा कि निर्माण साइट पर पानी का छिड़काव हमारे निरीक्षण के चलते हो रहा है, तो हम इसकी अलग से भी जांच कराएंगे। उन्होंने बताया कि इस इलाके में मोटर व्हीकल्स पर संभवत प्रतिबंध है और अगर ई-रिक्शा चलने से धूल उड़ने की शिकायत है, तो उसकी हम जांच कराएंगे। (आईएएनएस)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here