Tuesday, June 15, 2021
Home व्यक्ति विशेष 'अटल बिहारी वाजपेयी', खुद में एक कहानी!

‘अटल बिहारी वाजपेयी’, खुद में एक कहानी!

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री एवं प्रखर वक्ता, दिवंगत नेता अटल बिहारी वाजपेयी ने अपनी कलम से देश और युवाओं को जोश और ऊर्जा से भरा है। आइए उन्ही की कविताओं से आज को समझते हैं।

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री एवं प्रखर वक्ता, दिवंगत नेता अटल बिहारी वाजपेयी ने अपनी कलम से देश और युवाओं को जोश और ऊर्जा से भरा है। उनकी कविताएं और भाषणों में देश की खुशहाली और बदहाली दोनों का स्वरूप दिखाई दे जाता है। अटल जी ने अपने जीवन में कई कविताओं की रचना की जिन्हें आज भी कई प्रतियोगिताओं एवं सार्वजनिक मंचों पर दोहराया जाता है। 25 दिसम्बर 1924, ग्वालियर में एक ब्राह्मण परिवार में जन्मे अटल बिहारी वाजपेयी तीन बार देश के प्रधानमंत्री रहे। 1996 में 13 दिन के लिए, फिर 1998 से 1999 के बीच 13 महीने के लिए और 1999 में पूरे 5 साल के कार्यकाल के लिए। 14 साल की आयु में ही राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ में स्वयंसेवक के रूप में हिस्सा बने और 16 साल की आयु में संघ के सक्रीय सदस्य भी बन गए। जिसके उपरांत उन्होंने राजनीतिक गलियारे में कदम रखा। आज उनके जन्मदिवस पर उनके कलम से पिरोई कुछ रचनाओं के अंशों को आपके समक्ष रखता हूँ, जिस से आपको यह बोध हो जाएगा कि भारत को बाँटने वालों को अटल जी किस तरह जवाब देते थे।

१. कदम मिलाकर चलना होगा!

उजियारे में, अंधकार में,

कल कहार में, बीच धार में,

घोर घृणा में, पूत प्यार में,

क्षणिक जीत में, दीर्घ हार में,

जीवन के शत-शत आकर्षक,

अरमानों को ढलना होगा।

क़दम मिलाकर चलना होगा।

२. पंद्रह अगस्त की पुकार!

दिन दूर नहीं खंडित भारत को

पुन: अखंड बनाएँगे।

गिलगित से गारो पर्वत तक

आज़ादी पर्व मनाएँगे॥

उस स्वर्ण दिवस के लिए आज से

कमर कसें बलिदान करें।

जो पाया उसमें खो न जाएँ,

जो खोया उसका ध्यान करें॥

३. मैं न चुप हूँ न गाता हूँ!

सवेरा है मगर पूरब दिशा में

घिर रहे बादल

रूई से धुंधलके में

मील के पत्थर पड़े घायल

ठिठके पाँव

ओझल गाँव

जड़ता है न गतिमयता

स्वयं को दूसरों की दृष्टि से

मैं देख पाता हूं

न मैं चुप हूँ न गाता हूँ

‘अटल बिहारी वाजपेयी’ (Pinterest)

४. झुक नहीं सकते!

दीप निष्ठा का लिये निष्कंप

वज्र टूटे या उठे भूकंप

यह बराबर का नहीं है युद्ध

हम निहत्थे, शत्रु है सन्नद्ध

हर तरह के शस्त्र से है सज्ज

और पशुबल हो उठा निर्लज्ज

किन्तु फिर भी जूझने का प्रण

अंगद ने बढ़ाया चरण

प्राण-पण से करेंगे प्रतिकार

समर्पण की माँग अस्वीकार

दाँव पर सब कुछ लगा है, रुक नहीं सकते

टूट सकते हैं मगर हम झुक नहीं सकते

५. मैं अखिल विश्व का गुरू महान!

मैं अखिल विश्व का गुरू महान,

देता विद्या का अमर दान,

मैंने दिखलाया मुक्ति मार्ग

मैंने सिखलाया ब्रह्म ज्ञान।

मेरे वेदों का ज्ञान अमर,

मेरे वेदों की ज्योति प्रखर

मानव के मन का अंधकार

क्या कभी सामने सका ठहर?

मेरा स्वर नभ में घहर-घहर,

सागर के जल में छहर-छहर

इस कोने से उस कोने तक

कर सकता जगती सौरभ भय।

यह भी पढ़ें: अखंड भारत के नवरचनाकार ‘सरदार’

अटल बिहारी वाजपेयी की कविताओं एवं रचनाओं को आज हमें समझने और प्रयास में लाने की जरूरत है, नहीं तो बाँटने वाले मुस्काते रहेंगे और हम ताली पीटते रह जाएंगे।

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी