Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

आयुष्मान को था अमिताभ जी के साथ संकोच – शूजीत

फिल्म निर्माता शूजीत सरकार ने कहा, "आयुष्मान को अमिताभ जी के साथ संकोच था, जो बाद में चल कर ठीक हो गया, क्योंकि बच्चन जी सबको कमफर्ट फील कराते हैं।"

फिल्म निर्माता शूजीत सरकार।

फिल्म निर्माता शूजीत सरकार का कहना है कि अमिताभ बच्चन उनके साथ काम करने वाले सबसे बेहतरीन अभिनेता में से एक हैं। दोनों ने ‘पीकू’, ‘शूबाइट’ और हाल ही में ‘गुलाबो सीताबो’ जैसी फिल्मों में साथ काम किया है, जिसमें आयुष्मान खुराना भी हैं।

निर्माता ने कहा, “जब से मैंने इन दोनों के साथ पहले काम किया है, कहीं न कहीं रेखा से नीचे, हमारे बीच विश्वास, बंधन और आराम है, और यह धीरे-धीरे बढ़ा और परिपक्व हो गया। बेशक, यह एक रचनात्मक प्रक्रिया है, और हम हर समय एक-दूसरे को चुनौती देते रहते हैं।


उन्होंने कहा, “हम मिस्टर बच्चन को चुनौती देते हैं, और वह हमें चुनौती देते हैं। उस अच्छे, स्वस्थ कामकाजी रिश्ते के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण हैं। फिल्म की दृष्टि को इन दो लोगों के बीच की केमिस्ट्री की जरूरत थी। थोड़ा समय लगा। यदि आप पहली बार बच्चन के साथ काम करते हैं, तो आपको उन्हें समझने में थोड़ा वक्त लग सकता है।”

यह भी पढ़ें – इमोजी, प्रेम और स्नेह को जाहिर करने का नया तरीका है

उन्होंने आगे कहा, “आयुष्मान को अमिताभ जी के साथ संकोच था, जो बाद में चल कर ठीक हो गया, क्योंकि बच्चन जी सबको कमफर्ट फील कराते हैं और वह वास्तव में,कभी नहीं डरते हैं, वह बहुत सरल स्वभाव के हैं। ऐसा लग सकता है कि वह आसान नहीं है, लेकिन सेट पर वह बिल्कुल निर्देशक के अभिनेता बने रहते हैं और साथ काम करने वाले सबसे आकर्षक सह-अभिनेताओं में से एक हैं।” (आईएएनएस)

Popular

हिंदुओं में अन्य धर्मों के लोगों की तरह हिंसक मानसिकता नहीं होती है।(Wikimedia Commons)

पेजावर मठ के महंत विश्वप्रसन्ना तीर्थ स्वामीजी ने हाल के दिनों में बांग्लादेश और कश्मीर में हिंदुओं के खिलाफ हो रहे हिंसा पर शनिवार को कहा कि हिंदुओं को यह सोचकर और प्रताड़ित करना सही नहीं है कि वे कुछ नहीं करते और चुप रहते हैं।

उन्होंने कहा कि हिंदुओं में अन्य धर्मों के लोगों की तरह हिंसक मानसिकता नहीं होती है पर सरकार को स्थिति से बाहर होने से पहले कार्रवाई करनी चाहिए।

Keep Reading Show less

नवाब मलिक के अनुसार समीर वानखेडे एक मुस्लिम है! (Wikimedia commons)

बॉलीवुड के ड्रग्सवुड में तब्दील होती जा रही फिल्म इंडस्ट्री को रोकने के लिए एनसीबी ने जो मुहिम चलाई है जिसके कारण कई लोग एनसीबी के हत्थे चढ़ गए हैं जिसका सारा श्रेय एनसीब के निदेशक समीर वानखेड़े को जाता है। लेकिन लगता है वानखेड़े साहब की मुहिम कई लोगों को रास नहीं आ रही इन्हीं में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी(राकांपा) के मंत्री नवाब मलिक भी है। जिन्होंने फिर एक बयान में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के जोनल निदेशक समीर वानखेड़े पर निशाना साधा है। उन्होंने संदेह जताते हुए कहा कि क्या वानखेड़े ने सरकारी नौकरी पाने के लिए फर्जी जाति प्रमाण पत्र जमा किया था, जिस पर उन्होंने पलटवार किया है और आरोपों का जोरदार खंडन किया है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता मलिक ने एक कथित जन्म प्रमाण पत्र और वानखेड़े की शादी की तस्वीर को कैप्शन के साथ ट्वीट किया है, "यहां से शुरू हुआ फर्जी वाड़ा। पहचान कौन।"


जन्म प्रमाण पत्र में एनसीबी प्रमुख का नाम 'समीर दाऊद वानखेड़े' के रूप में दिखाया गया है, और तस्वीर वानखेड़े की डॉ शबाना कुरैशी के साथ पहली शादी की है, जिसे बाद में उन्होंने तलाक दे दिया और मराठी फिल्मों की अभिनेत्री क्रांति रेडकर से शादी कर ली। राकांपा मंत्री ने दावा किया कि जन्म प्रमाण पत्र के अनुसार, वानखेड़े एक जन्मजात मुस्लिम हैं, लेकिन कथित तौर पर एक आरक्षित श्रेणी के माध्यम से नागरिक सेवाओं (यूपीएससी) की परीक्षा में शामिल हुए और भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) अधिकारी बन गए।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी से आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना की शुरुआत की (twitter)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के दौरे पर थे। जहां से पीएम मोदी ने आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत मिशन की शुरुआत। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में सरकार की कई उपलब्धियों का गुणगान तो किया ही साथ में विपक्ष पर जमकर निशाना भी साधा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आजादी के बाद के लंबे कालखंड में स्वास्थ्य सुविधाओं पर उतना ध्यान नहीं दिया गया, जितनी देश को जरूरत थी। देश में जिनकी लंबे समय तक सरकारें रहीं, उन्होंने देश के हेल्थकेयर सिस्टम के संपूर्ण विकास के बजाय, उसे सुविधाओं से वंचित रखा। यूपी में जिस तेजी के साथ नए मेडिकल कॉलेज खोले जा रहे हैं, उसका बहुत अच्छा प्रभाव मेडिकल की सीटों और डॉक्टरों की संख्या पर पड़ेगा। ज्यादा सीटें होने की वजह से अब गरीब माता-पिता का बच्चा भी डॉक्टर बनने का सपना देख सकेगा और उसे पूरा कर सकेगा।

मोदी ने कहा कि जो काम दशकों पहले हो जाने चाहिए, उसे अब किया जा रहा है। हम पिछले सात साल से लगातार सुधार कर रहे हैं। अब बहुत बड़े स्केल पर इस काम को करना है। इस तरह का हेल्थ सिस्टम बनता है तो रोजगार के अवसर भी पैदा होते हैं। यह मिशन आर्थिक आत्मनिर्भरता का भी माध्यम है। स्वास्थ्य सेवा पैसा कमाने का जरिया नहीं है। पहले जनता का पैसा घोटालों में जाता था। आज बड़े बड़े प्रोजेक्ट में पैसा लग रहा है। आजादी के बाद 70 साल में जितने डॉक्टर मेडिकल कॉलेज से पढ़कर निकले हैं उससे ज्यादा अगले दस साल में मिलने जा रहे हैं। जब ज्यादा डॉक्टर होंगे तो गांव गांव में डॉक्टर उपलब्ध होंगे। यही नया भारत है जहां आकांक्षाओं से बढ़ते हुए नए नए काम हो रहे हैं।

Keep reading... Show less