Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

बनारस के गूढ़ ज्ञान को समझाएगा बीएचयू

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में अब काशी स्टडीज के नाम से पाठ्यक्रम होगा। जिसमे काशी के इतिहास, महत्व और संस्कृति के विषय में बताया जाएगा।

वाराणसी में स्थित बौद्ध मठ ‘सारनाथ’, बीएचयू छात्रों को सिखाएगा भारतीय संस्कृति का ज्ञान।(Pixabay)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के बीएचयू में काशी अध्ययन कोर्स संचालित करने को लेकर मुख्यमंत्री योगी ने दिलचस्पी दिखाई है। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से बातचीत करके इसे जल्द संचालित करने को कहा है। काशी के गूढ़ रहस्य को समझने के लिए लोगों ने इसे समय-समय पर अपने शोध के विषय के रूप में चुना और किताबें लिखी। ऐसे में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में अब काशी स्टडीज के नाम से पाठ्यक्रम होगा। यह अगले वर्ष जुलाई से शुरू हो जाएगा। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में आध्यात्म और सांस्कृतिक नगरी काशी पर दो वर्षीय पीजी कोर्स की शुरूआत होगी। बीएचयू के सामाजिक विज्ञान संकाय में नए सत्र से काशी स्टडी पीजी कोर्स में काशी को समझने की चाह रखने वाले देशी संग विदेशी छात्र प्रवेश ले सकेंगे। विश्ववविद्यालय प्रशासन ने इस नए कोर्स के लिए मंजूरी दे दी है जो इतिहास विभाग में होगा।

सामाजिक संकाय के डीन प्रोफेसर कौशल किशोर मिश्र ने बताया कि 30 दिसंबर तक विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा गठित कमेटी इस नए कोर्स की रूपरेखा तैयार कर लेगी। जनवरी में कोर्स के इस रूपरेखा को विश्वविद्यालय के एकेडमिक काउंसिल के समक्ष रखा जाएगा। इसके बाद एक्जीक्यूटिव काउंसिल इस पर अपनी फाइनल मुहर लगाएगी।


यह भी पढ़ें: कभी टीपू सुल्तान को राजपथ पर दिखाया था, अब श्री राम दिखेंगे

उन्होंने बताया कि चार सेमेस्टर में छात्र काशी की संस्कृति, इतिहास, परम्परा, धार्मिक महत्व, बनारसी फक्कड़पन, रहन-सहन और काशी की थाती जैसे गुलाबी मीनाकारी, बनारसी रेशम के उत्पाद, बनारसी पान, लकड़ी के खिलौने, लंगड़ा आम को करीब से जान सकेंगे। तुलसीदास, कबीर, प्रेमचंद, बुद्ध, रैदास को भी नई पीढ़ी समझें, ये कोर्स उन्हें इस ऐतिहासिक शहर की धरोहरों की सारी जानकारियों देगी। साथ ही भारत रत्न बिस्मिलाह खां साहेब की शहनाई की तान, पद्म सम्मानित पंडित किशन महाराज की तबले की थाप के साथ ही बनारस घराने की संगीत की सुर, लय और ताल को भी समझने का मौका मिलेगा।

मिश्रा के अनुसार इस कोर्स में नाग-नथ्थया, नक्कटैया, रथयात्रा, भरत मिलाप, सावन, लोटा-भंटा मेला के ऐतिहासिक व आध्यात्मिक तथ्यों को खंगाल कर काशी की संस्कृति का अत्याधुनिक मॉडल प्रस्तुत होगा।(आईएएनएस)

Popular

गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।(wikimedia commons)

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में कई प्रतिभाशाली लोगों को पुरस्कारों से नवाजा गया एसे में बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है। उन्होंने और भी विजेताओं के साथ इस पल को साझा किया है ये उनके लिए खास पल रहा। गायक ने अपनी बड़ी जीत के बारे में कहा, "यह साल बहुत अच्छा रहा है। लेकिन सबसे ज्यादा यह पुरस्कार जीतने का पल खास हैं। मैं बहुत खुश हूं। मुझे लगता है कि मैं बहुत खुशनसीब हूं कि हमने एक टीम के साथ ऐसा गीत बनाया जो हमारे राष्ट्र के लिए गौरव के साथ गूंजता है।"

साथ हि वह कहते हैं कि इस पल को वह कभी नहीं भूलेंगे। "आज का दिन मेरे करियर के लिए अनमोल दिन है उन्होंने कहा। हर कलाकार चाहता है कि उसकी सराहना की जाए और राष्ट्रीय पुरस्कार से बड़ा सम्मान कोई नहीं हो सकता।"

 \u092b\u093f\u0932\u094d\u092e \u0915\u0947\u0938\u0930\u0940 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था(wikimedia commons)

Keep Reading Show less

वैश्विक डिजिटल सुरक्षा कंपनी नॉर्टनलाइफ लॉक की तरफ से जारी की गई है रिपोर्ट (Wikimedia Commons)

वैश्विक डिजिटल सुरक्षा कंपनी नॉर्टनलाइफ लॉक की तरफ से एक रिपोर्ट पेश करी गई है जिसमें कई अहम दावे किए गए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि अकेले भारत में पिछले एक तिमाही में औसतन 187,118 ब्लॉक प्रतिदिन 17,214,900 से अधिक साइबर सुरक्षा खतरों को सफलतापूर्वक रोका गया।

इसके अलावा रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि तकनीकी सहायता (technical support) के घोटाले की प्रभावशीलता महामारी के दौरान बढ़ गई है, क्योंकि उपभोक्ताओं की हाइब्रिड वर्क शेड्यूल और पारिवारिक गतिविधियों को प्रबंधित करने के लिए अपने उपकरणों पर निर्भरता बढ़ गई है। साथ ही साथ रिपोर्ट में यह भी सचेत किया गया है कि आगामी छुट्टियों के मौसम के साथ-साथ खरीदारी और चैरिटी से संबंधित फिशिंग हमलों में तकनीकी सहायता घोटाले बढ़ने का अंदेशा है।

Keep Reading Show less

डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म फोनपे पर रिचार्ज करने के लिए उपयोगकर्ताओं को देने होंगे शुल्क।(Wikimedia Commons)

भारत के टॉप डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म फोनपे(PhonePe) ने अपनी एक घोषणा में कहा , "मोबाइल रिचार्ज के लिए फोनपे एक प्रयोग चला रहा है, जहां उपयोगकर्ताओं के एक छोटे से वर्ग से 51-100 रुपये के रिचार्ज के लिए 1 रुपये और 100 रुपये से अधिक के रिचार्ज के लिए 2 रुपये का प्रोसेसिंग शुल्क लिया जा रहा है।"

हालांकि , कंपनी ने यह स्पष्ट किया कि उसके पेमेंट ऐप(PhonePe) पर सभी यूपीआई मनी ट्रांसफर, ऑफलाइन और ऑनलाइन भुगतान (यूपीआई, वॉलेट, क्रेडिट और डेबिट कार्ड पर) सभी उपयोगकर्ताओं के लिए मुफ्त हैं और वे जारी रहेंगे। कंपनी ने कहा कि फोनपे इन लेनदेन के लिए कोई शुल्क नहीं लेता है, और भविष्य में भी ऐसा नहीं करेगा।

Keep reading... Show less