Saturday, September 26, 2020
Home मनोरंजन यश किसे मानते हैं अपनी सबसे बड़ी उपलब्धि?

यश किसे मानते हैं अपनी सबसे बड़ी उपलब्धि?

यश के लिए, उनका परिवार और उनके माता-पिता का अर्थ ही उनके लिए दुनिया है। वह जो भी मेहनत करते हैं, उसे उनके माता पिता गर्वान्वित महसूस करें।

 भारतीय स्टार यश ने स्टारडम को हासिल करने के लिए अपना दिल और आत्मा लगा दिया। यश बड़ी विनम्रता से यह कहते हैं कि माता-पिता का आशीर्वाद, खुशी और उनकी आंखों में गर्व, उनके लिए सबसे बड़ी उपलब्धि है। यश के लिए, उनका परिवार और उनके माता-पिता का अर्थ ही उनके लिए दुनिया है। वह जो भी मेहनत करते हैं, उसे उनके माता पिता गर्वान्वित महसूस करें। यश निश्चित रूप से अपने सपने को जी रहे हैं।

यह भी पढ़ें: सुशांत की जिंदगी, विकास दुबे की मौत में जागी फिल्म निर्माताओं की रूचि

जो उन्हें नहीं जानते उनके लिए, यश बहुत विनम्र पृष्ठभूमि से आते हैं। उनके पिता बस कंडक्टर हुआ करते थे और उनकी मां एक गृहिणी थीं। दोनों ने घर की जरूरतों को पूरा करने और अपने बच्चों की चाह और इच्छाओं का पूरा करने के लिए बहुत मेहनत की। कभी-कभी खुद की जरूरतों को भी अनदेखा कर दिया था। इस तरह की कठिनाइयों के साथ आगे बढ़ते हुए, यश हमेशा अपने माता-पिता के लिए, उन्हें आसान और आरामदायक जीवन प्रदान करने के लिए जीवन में सब कुछ हासिल करने के लिए दृढ़ हैं। वह उनके सभी सपनों को साकार करना चाहते हैं।

K.G.F
2018 की सबसे धमाकेदार फिल्म ‘के.जी.एफ – चैप्टर 1 ‘। (KGF, Facebook)

अभिनेता से जुड़े एक करीबी ने कहा, “यश इस पीढ़ी के सेल्फ-मेड मैन का सबसे अच्छा उदाहरण है। कोई, जो अपने हाथ में कुछ भी नहीं के साथ शुरू करता है, वह धीरे-धीरे और नियमितता से अपना साम्राज्य खड़ा करता हैं, ईंट से ईंट, सरासर दृढ़ संकल्प लिए, जुनून और ईमानदारी के साथ। उनके माता-पिता को हमेशा न केवल उनकी उपलब्धियों पर गर्व रहा है, बल्कि उन्होंने हर कदम पर जिस तरह चुनौतियों को पार किया और एक व्यक्ति के रूप में विकसित हुए, उसपर।”

यह भी पढ़ें: एमेजॉन एलेक्सा पर फैन्स सुन सकेंगे बिग बी की आवाज

धीरे-धीरे शुरू करते हुए, अपने परिश्रम, लगन और उपलब्धि को हासिल करने के साथ, यश एक मुकाम पर पहुंट गये और अब एक व्यापक रूप से पैन इंडिया अभिनेता के रूप में जाने जाते हैं।

और अब, सुपरस्टार केजीएफ की अपनी बहुप्रतीक्षित अगली कड़ी के लिए और रॉकी भाई के रूप में बड़े पर्दे पर वापसी के लिए तैयार हो रहे हैं।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,023FansLike
0FollowersFollow
164FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी