Monday, January 18, 2021
Home राजनीति रंगबाजी हार रही, विकास फिर से जीत रहा है : मोदी

रंगबाजी हार रही, विकास फिर से जीत रहा है : मोदी

बिहार की पहचान अब बदल रही है। आज बिहार में अहंकार हार रहा है, परिश्रम फिर जीत रहा है। आज बिहार में घोटाला हार रहा है, लोगों का हक फिर जीत रहा है: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को अररिया में चुनाव प्रचार करते हुए कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण के मतदान और मंगलवार को दूसरे चरण के मतदान में अब तक मिल रही खबर के अनुसार बिहार में फिर से रंगबाजी, रंगदारी हार रही है और विकास फिर से जीत रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अररिया के फारबिसगंज में एक चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि बिहार की पहचान अब बदल रही है। उन्होंने कहा, आज बिहार में अहंकार हार रहा है, परिश्रम फिर जीत रहा है। आज बिहार में घोटाला हार रहा है, लोगों का हक फिर जीत रहा है। आज बिहार में गुंडागर्दी हार रही है, कानून का राज वापस लाने वाले फिर जीत रहे हैं।

उन्होंने कहा कि बिहार वह दिन भूल नहीं सकता, जब चुनाव को इन लोगों ने मजाक बनाकर रख दिया था। इन के लिए चुनाव का मतलब चारो तरफ हिंसा, हत्याएं, बूथ कैप्चरिंग था। बिहार के गरीबों से इन लोगों ने वोट देने तक का अधिकार तक छीन रखा था। गरीब के लोग अपने पसंद के प्रत्याशी को वोट तक नहीं दे सकते थे।

उन्होंने कहा, तब भी चुनाव होता था लेकिन मतदान होता नहीं था, केवल दिखता था। अब दलित, महादलित, पिछड़ा अति पिछड़ा किसी भी वर्ग को पसंद के प्रत्याशी को चुनने का अधिकार मिला है।

उन्होंने कहा कि बिहार ने ठान लिया है कि नए दशक में बिहार को नई उंचाइयों तक पहुंचाना है। उन्होंने कहा, बिहार के लोगों ने जंगलराज और डबल युवराज को सिरे से नकार दिया है। आज राजग के विरोध में जो खड़े हैं वो इतना कुछ खाने के बाद फिर बिहार को लालच की नजरों से देख रहे हैं। बिहार के लोगों को पता है कि कौन राज्य का विकास करेगा और कौन परिवार का विकास करेगा।

यह भी पढ़ें: चुनावी रण में कौन बनेगा राजा और किसका बजेगा बाजा, यह देखना होगा रोमांचक

उन्होंने कहा कि बिहार ने डंके की चोट पर बता दिया कि फिर से राजग की सरकार आ रही है। प्रधानमंत्री ने दावा करते हुए कहा कि जंगलराज के प्रभावों को कम किया गया है और अब आने वाला दशक नई उड़ान का है।

उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस ने झूठ बोलकर देश को सपना दिखाया था, कांग्रेस वाले पहले बोलते थे गरीबी हटाएंगे, किसानों का कर्ज माफ करेंगे, कांग्रेस ने बातें बहुत की, लेकिन एक भी काम नहीं किया। आज कांग्रेस की हालत ऐसी है कि लोकसभा और राज्यसभा दोनों को मिला दें तो कांग्रेस के पास सौ सांसद भी नहीं है। उन्होंने कहा कि कई राज्य तो ऐसे हैं जहां लोगों ने कांग्रेस को पूरी तरह नकार दिया है।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

हाल की टिप्पणी