Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

बिहार : राजगीर का ‘ग्लास स्काईवॉक ब्रिज’, हवा पर चलने का फील ले सकेंगे पर्यटक

अंतराष्ट्रीय पर्यटक स्थल बिहार के राजगीर में आमतौर पर नवंबर-दिसंबर के महीने में पर्यटकों की संख्या तो बढ़ती है, लेकिन उनका यहां ठहराव नहीं हो पाता है। अब पर्यटकों को आकर्षित करने तथा उनका ठहराव हो सके इसके लिए राजगीर में कई पर्यटक स्पॉट विकसित किये जा रहे हैं।

राजगीर का स्काईवॉक ब्रिज । ( Social media )

By : मनोज पाठक

अंतराष्ट्रीय पर्यटक स्थल बिहार के राजगीर में आमतौर पर नवंबर-दिसंबर के महीने में पर्यटकों की संख्या तो बढ़ती है, लेकिन उनका यहां ठहराव नहीं हो पाता है। अब पर्यटकों को आकर्षित करने तथा उनका ठहराव हो सके इसके लिए राजगीर में कई पर्यटक स्पॉट विकसित किये जा रहे हैं। इसी में से एक है घने वन क्षेत्र में बनाया जा रहा नेचर सफारी ,जहां ‘ग्लास स्काई वॉक ब्रिज’ भी बनाया गया है।


वन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि लगभग 500 एकड़ वन क्षेत्र में फैले इस सफारी का मुख्य द्वार काफी आकर्षक बनाया गया है। मुख्य प्रवेश द्वारा के समीप ही ग्लास स्काई वॉक ब्रिज का निर्माण कराया जा रहा है, जो पूरी तरह से शीशा व स्टील के फ्रेम से निर्मित है। उन्होंने बताया कि इस स्काई वॉक की कुल लम्बाई 85 फीट व चैडाई करीब 6 फीट है। घाटी से इसकी ऊंचाई करीब 250 फीट है। इसपर एक साथ 40 लोग जा सकेंगे, हालांकि डी सेक्टर यानी अंतिम छोर पर एक साथ 10 से 12 लोग ही जा सकेंगे।

कितने शिशो का हुआ इस्तेमाल ?

राजगीर के अति प्राचीन वैभार गिरी पर्वत के तलहटी में बनाए गए इस पुल में 15 एमएम के तीन लेयर के शीशे लगाए गए है। इसमें लगे शीशे की कुल मोटाई 45 एमएम है, जो पूरी तरह से पारदर्शी है, जिसके कारण इसपर चलना काफी रोमांचकारी भी होगा।

यह भी पढें : वैक्सीन के दिखेंगे कुछ दुष्प्रभाव, सतर्क रहने लिए पढ़िए यह खबर

देश का दूसरा ग्लास स्काईवॉक ब्रिज

बताया जा रहा है कि इसपर चलने वाले लोग स्वयं को हवा में तैरता हुआ महसूस कर सकेगें। इसे नए साल के मार्च तक पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया हैं। वैसे, अधिकारियों के मुताबिक इस पुल का निर्माण कार्य लगभग पूरा कर लिया गया है। फिलहाल अंतिम चरण में सीढ़ी व अन्य पाथ और चबूतरे का निर्माण कार्य अभी जारी है।अधिकरियों का दावा है कि यह पुल चीन के हेबई प्रांत के एस्ट तैहांग में बने स्काई वॉक ब्रिज की तर्ज पर बनाया जा रहा है। राजगीर का यह स्काई वॉक बिहार का पहला और देश का दूसरा ऐसा पुल होगा।

अंतराष्ट्रीय पर्यटक के लिए मुख्य स्थान बनेगा स्काईवॉक ब्रिज । ( Wikimedia commons )

अधिकारियों के मुताबिक, इसके साथ ही यहां आने वाले पर्यटक जिप लाईन, एडवेंचर स्पॉट के तहत आर्चरी, तीरंदाजी, साईकलिंग, ट्रेकिंग पाथ, मड और ट्री कॉटेज, वुडेन हट, औषधीय पार्क का भी आनंद ले सकेंगे। उन्होंने कहा कि इन सभी का निर्माण कार्य यहां चल रहा है। नालंदा जिले के राजगीर से गया जिला के जेठीयन मार्ग जाने बाले मार्ग में घने जंगल के बीच इसका निर्माण कराया जा रहा है। जरासंध अखाड़ा से इसकी दूरी लगभग 8 किलोमीटर है।

नेचर सफारी में मिट्टी और भूसे से मड कॉटेज का निर्माण किया जा रहा है। जहां लोग प्रकृति के बीच प्राकृतिक घर में रहने का आनंद महसूस कर सकें गे। अधिकारियों ने बताया कि यहां प्राचीन काल में वृक्षों पर लोगों के घर बनाकर रहने का अनुभव आज के युग में देने के लिए ट्री कॉटेज का निर्माण कराया गया है। इस कॉटेज में बेड से लेकर बाथरूम तक उपलब्ध है। बहरहाल, वन विभाग के अधिकारियों को उम्मीद है कि इन सभी के निर्माणकार्यों के पूरा होने के बाद ना केवल यहां पर्यटकों की संख्या में वृद्धि होगी बल्कि पर्यटक यहां आकर कई दिन गुजारेंगे। (आईएएनएस)

Popular

वैश्विक स्तर पर है चिप की कमी।(Wikimedia Commons)

वैश्विक स्तर पर चिप(Chips) की कमी के बीच क्वालकॉम(Qualcomm) के सीईओ(CEO) क्रिस्टियानो अमोन(cristiano amon) ने कहा कि चिप की कमी धीरे-धीरे कम हो रही है और अगले साल इस स्थिति में सुधार होने की उम्मीद है। द इलेक वेबसाइट के अनुसार, अमोन ने कहा कि इस साल 2020 की तुलना में आपूर्ति में सुधार हुआ है और खासकर 2020 की तुलना में 2022 में स्थिति में और सुधार होने की उम्मीद है।

Chips, Cristiano Amon क्वालकॉम के सीईओ क्रिस्टियानो अमोन (Twitter)

Keep Reading Show less

रैपिडो कंपनी बाइक टैक्सी खंड के कारोबार में कुल 78 फीसद का योगदान देता है। (Pixabay)

हाल के दिनों में बाइक टैक्सी सेवाओं के विकास के बीच,रैपिडो(Rapido) कंपनी के शीर्ष कार्यकारी ने रविवार को कहा की रैपिडो का बाइक टैक्सी खंड(Bike Taxi Segment) के समग्र कारोबार में 78 प्रतिशत का योगदान है।

रैपिडो ने 2015 में भारत में बाइक टैक्सी सेगमेंट में राइड-हेलिंग सेवाओं के साथ अपनी यात्रा शुरू की। और अब, इसका ग्राहक आधार 1.5 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ताओं तक हो गया है।

Keep Reading Show less

ओम बिरला ने संसद में कार्यक्रम के दौरान संसद और राज्य विधानमंडल के पीएसी के लिए साझा मंच पर जोर दिया। (Wikimedia Commons)

लोकसभा अध्यक्ष(Speaker) ओम बिरला(Om Birla) ने शनिवार को बेहतर समन्वय के लिए संसद(Parliament) और राज्य विधानमंडल में लोक लेखा समितियों के लिए एक साझा मंच की आवश्यकता पर जोर दिया।संसद भवन के सेंट्रल हॉल में लोक लेखा समिति के दो दिवसीय शताब्दी वर्ष समारोह के उद्घाटन समारोह में बिड़ला का यह सुझाव आया।लोकसभा अध्यक्ष ने सुझाव दिया कि "चूंकि संसद की लोक लेखा समिति(Public Accounts Committee) और राज्यों की लोक लेखा समितियों के बीच समान हित के कई मुद्दे हैं, इसलिए संसद और राज्य विधानसभाओं के पीएसी के लिए एक समान मंच होना चाहिए"।

बिड़ला ने कहा, "इससे कार्यपालिका का बेहतर समन्वय और अधिक पारदर्शिता और जवाबदेही सुनिश्चित होगी।"उन्होंने कहा, "हर लोकतांत्रिक संस्था का मूल उद्देश्य जनता की सेवा करना, उनकी अपेक्षाओं को पूरा करना होना चाहिए।"राष्ट्र निर्माण में लोकतांत्रिक संस्थाओं की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि इन संस्थानों को लोगों की समस्याओं के समाधान और उनकी अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए प्रभावी मंच के रूप में देखा जा रहा है।

Keep reading... Show less