वर्ल्ड क्यूएस यूनिवर्सिटी रैंकिंग में भारत के 4 शिक्षण संस्थान टॉप 50 में शामिल

क्यूएस वल्र्ड रैंकिंग 2022 में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के पर्यावरण विज्ञान विषय को भी स्थान मिला है। (Wikimedia Commons)
क्यूएस वल्र्ड रैंकिंग 2022 में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के पर्यावरण विज्ञान विषय को भी स्थान मिला है। (Wikimedia Commons)

इस वर्ष जारी की गई वर्ल्ड क्यूएस यूनिवर्सिटी रैंकिंग में भारत के 4 शिक्षण संस्थान टॉप 50 में शामिल रहे हैं। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक भारतीय विश्वविद्यालयों के 35 पाठ्यक्रमों को टॉप 100 में जगह मिली है। क्यूएस वल्र्ड रैंकिंग 2022 में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के पर्यावरण विज्ञान विषय को भी स्थान मिला है। रैंकिंग के अनुसार बीएचयू का पर्यावरण विज्ञान पाठ्यक्रम विश्व के 450 शीर्ष संस्थानों के विषयों में शामिल है। पर्यावरण विज्ञान में जहां वर्ष 2021 में क्यूएस वल्र्ड रैंकिंग में बीएचयू को कोई स्थान नहीं मिला था, वहीं इस बार विश्वविद्यालय को 401-450 की रैंकिंग दी गई है।

इस विषय में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 450 से अधिक संस्थानों को रैंक किया गया है, जिनमें भारत से मात्र 8 ही संस्थान शामिल हो पाए हैं, जिनमें से एक बीएचयू है। इस उपलब्धि पर पर्यावरण एवं संपोष्य विकास संस्थान, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, के निदेशक प्रो. ए. एस. रघुवंशी ने कहा कि संस्थान पर्यावरण एवं उससे संबंधित विषयों में अध्ययन व शोध के एक प्रमुख केन्द्र के रूप में स्थापित हो रहा है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा कि ये संतोषजनक है कि भारत वैश्विक पर्यावरण विज्ञान शोध के मोर्चे पर अग्रणी भूमिका में है। विषयवार रैंकिंग में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के मेडिसीन विषय की रैंकिंग पिछले वर्ष के मुकाबले 50 पायदान ऊपर पंहुच गई है। मेडिसीन में जहां वर्ष 2021 की रैंकिंग में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय को 501-550 पर रखा गया था, वर्ष 2022 में बीएचयू ने 451-500 की रैंकिंग है। इस विषय में दुनिया भर से 671 संस्थानों को रैंकिंग में शामिल किया गया है, जिनमें भारत के 10 संस्थान ही सम्मिलित हो पाए हैं।

कुलपति प्रो. सुधीर कुमार जैन ने दोहराया है कि काशी हिन्दू विश्वविद्यालय परिवार के सदस्यों को बीएचयू को विश्व के शीर्ष संस्थानों में शामिल करने की दिशा में कार्य करना होगा। इसी क्रम में विभिन्न स्तरों पर निरन्तर प्रयास किये जा रहे हैं। विद्यार्थियों के लिए बेहतर शैक्षणिक वातावरण से लेकर शोध व नवोन्मेष के लिए विश्व स्तरीय सुविधाएं व ढांचा उपलब्ध कराना इन प्रयासों में शामिल है, जिसके लिए विश्वविद्यालय में लगातार प्रगति हो रही है। विश्वविद्यालय के गुणवत्तापरक शोध एवं अन्य क्षेत्रों में बीएचयू की उपलब्धियों का ही नतीजा है कि वल्र्ड क्यूएस विषयवार रैंकिंग में बीएचयू ने बेहतर रैंकिंग हासिल की है।

आईएएनएस(LG)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com