बिहार के सरकारी स्कूल अब होंगे सौर ऊर्जा से रौशन

बिहार के शिक्षा विभाग ने अब राज्य के सरकारी स्कूलों में सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने का फैसला किया है। (Wikimedia Commons)
बिहार के शिक्षा विभाग ने अब राज्य के सरकारी स्कूलों में सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने का फैसला किया है। (Wikimedia Commons)

बिहार(Bihar) के सरकारी स्कूल(Government School) अब सौर ऊर्जा(Solar Energy) से रौशन होंगे। राज्य का शिक्षा विभाग इसके लिए तैयारियों में जुट गया है। शिक्षा विभाग ने राज्य के सभी उच्च शैक्षणिक संस्थानों से ऊर्जा के परंपरागत स्त्रोतों(Traditional Sources) के इस्तेमाल के बजाय सौर ऊर्जा इस्तेमाल करने की बात कही है। इसके लिए एक विभाग ने एक पात्र सभी जिलों के जिला शिक्षा अधिकारीयों को भेज दिया है।

सरकारी स्कूलों में सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए ब्रेडा की मदद लेगा। पहले चरण में राज्य सरकार सभी उच्च माध्यमिक स्कूलों में बिहार रिन्यूबेल एनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी (ब्रेडा) के जरिए सोलर पैनल स्थापित करवाएगी। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को इसके निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने कहा है कि सभी प्लस टू स्कूल के प्रिंसिपल सहयोग करेंगे।

बताया जा रहा है की जल-जीवन हरियाली योजना के तहत शिक्षा विभाग ये योजना बना रहा है।

उल्लेखनीय है कि ब्रेडा ऊर्जा के परंपरागत स्रोतों से अलग हटकर बिजली के लिए गैर परंपरागत स्रोतों का इस्तेमाल करने का कार्य करती है। शिक्षा विभाग ने सभी सरकारी स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालयों में सौर ऊर्जा के जरिए बिजली पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारत किया है।

जल-जीवन हरियाली योजना के तहत शिक्षा विभाग ये योजना बना रहा है। (Wikimedia Commons)

ब्रेडा द्वारा प्लांट की स्थापना और नेट मीटरिंग के लिए कई बिंदुओं पर स्कूल प्रशासन और शिक्षा विभाग से अपेक्षा की गई है। इसको लेकर विद्यालयों द्वारा स्वीकृत भार का आवेदन दिया जाएगा। स्वीकृत सिंगल फेज को थ्री फेज कनेक्शन कराना होगा और तार की भी उपलब्धता रखनी होगी। बताया गया है कि ब्रेडा और शिक्षा विभाग के बीच इस मुद्दे पर एमओयू भी होगा।

बिहार सरकार का दावा है कि राज्य के सभी गांवों और पंचायतों में बिजली पहुंचा दी गई है। सरकार का अगला लक्ष्य है कि कम से कम 5 फीसदी बिजली की आपूर्ति सौर उर्जा से हो, और अलग-अलग एजेंसी के माध्यम से इस लक्ष्य को पूरा करने में सरकार जुटी है।

यह भी पढ़ें-
मेटा ने किया भारत में अपने नए कार्यालय का अनावरण

गौरतलब है कि राज्य के कई शैक्षणिक संस्थान सौर ऊर्जा से रौशन हो रहे हैं। इसकी सफलता के बाद शिक्षा विभाग राज्य के सरकारी स्कूलों खासकर उच्च शैक्षणिक संस्थानों में सौर ऊर्जा से बिजली पहुंचाने की कवायद में जुट गया है।

Input-IANS; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com