उत्तर प्रदेश की 735 पेयजल आपूर्ति योजनाओं को मिली केंद्र की मंजूरी

उत्तर प्रदेश की 735 पेयजल आपूर्ति योजनाओं को मिली केंद्र की मंजूरी [ Pixabay ]
उत्तर प्रदेश की 735 पेयजल आपूर्ति योजनाओं को मिली केंद्र की मंजूरी [ Pixabay ]

उत्तर प्रदेश सरकार के लगातार राज्य में पेयजल की सुविधा लाने के प्रयासों को अब केंद्र का साथ मिल गया है। केंद्र ने प्रदेश सरकार की 735 पेयजल आपूर्ति योजनाओं को मंजूरी दे दी है।

राज्यस्तरीय योजना स्वीकृति समिति ने गुरुवार को ग्रामीण क्षेत्रों में नल से पानी कनेक्शन के लिए राज्य सरकार की ओर से भेजे गए 1,882 करोड़ रुपये के प्रस्तावों को मंजूरी दे दी है। इस बीच केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने ट्वीट कर यूपी में हर घर नल योजना की प्रगति की जमकर तारीफ की है। केंद्रीय मंत्री ने राज्य सरकार की तारीफ करते हुए कहा है कि यूपी ने हर घर नल से जल योजना को जन आंदोलन बना दिया है।

गुरुवार को हुई बैठक में स्वीकृत की गई इन योजनाओं से 33 जिलों के 1262 गांवों की 39 लाख की आबादी को फायदा होगा। बैठक में समिति द्वारा 735 योजनाओं को स्वीकृति प्रदान की गयी। इसके तहत 4.03 लाख ग्रामीण परिवारों को पानी के कनेक्शन दिए जाने की योजना है। मौजूदा समय में प्रदेश में 2.64 करोड़ में से कुल 34 लाख (12.9 प्रतिशत) ग्रामीण परिवारों को उनके घरों तक नल का पानी मिल रहा है।

केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने अपने ट्वीट मे यह भी बताया गया है कि राज्य में 1882 करोड़ रुपये के प्रस्ताव स्वीकृत किए गए हैं, जिससे गांवों में आसानी से नल कनेक्शन पहुंचाए जा सकें। इससे 1262 गांवों के 39 लाख लोगों को लाभ मिलेगा। उन्होंने लिखा है कि योगी जी की सरकार ने वर्ष 2021-22 में 78 लाख परिवारों को नल कनेक्शन देने की संवेदनशील योजना बनाई है।

जल जीवन मिशन की राष्ट्रपति कोविंद ने भी तारीफ की है। उन्होंने कहा , "जल जीवन मिशन के आरंभ होने तक पिछले 7 दशकों में जितना काम हुआ था उससे अधिक काम मिशन के तहत केवल 2 वर्षों में पूरा कर लिया गया है।"

आपको बता दें कि यूपी में युद्ध स्तर पर हर घर को नल से जल देने की योजना पर काम तेजी से किया जा रहा है। सरकार अगले महीने बुंदेलखंड और विंध्य क्षेत्र के सैकड़ों गांवों में हर घर को नल से जल देने की शुरूआत करने जा रही है। इसके लिए कई इलाकों में फिलहाल ट्रायल रन चल रहा है। (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com