कोविशील्ड, कोवैक्सीन अल्फा-बीटा-गामा-डेल्टा वैरिएंट के खिलाफ कारगर : डीजी-आईसीएमआर

(NewsGram Hindi)
(NewsGram Hindi)

 इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा कि कोविशील्ड और कोवैक्सीन सार्स-सीओवी-2 के अल्फा, बीटा, गामा और डेल्टा वैरिएंट के खिलाफ कारगर है, जबकि डेल्टा के खिलाफ उनकी प्रभावशीलता डेल्टा प्लस वैरिएंट की टेस्टिंग की जा रही है। भार्गव ने उल्लेख किया कि कई वैरिएंट वाले टीकों की न्यूट्रलाइजेशन क्षमताओं में कमी वैश्विक साहित्य पर आधारित है, जिससे पता चलता है कि कोवैक्सिन अल्फा वैरिएंट के साथ बिल्कुल भी नहीं बदलता है और इसलिए यह वैसा ही है जैसा कि स्टैंडर्ड स्ट्रेन के साथ होता है।

"कोविशील्ड अल्फा से 2.5 गुना कम हो जाता है।"

"डेल्टा वैरिएंट के लिए कोवैक्सीन प्रभावी है, लेकिन एंटीबॉडी प्रतिक्रिया तीन गुना कम हो जाता है।"

भार्गव ने कहा, "कोविशील्ड के लिए, यह दो गुना कमी है, जबकि फाइजर और मॉडर्न में यह सात गुना कमी है।"

उन्होंने कहा कि कोविशील्ड और कोवैक्सीन सार्स-कोविड-2 – अल्फा, बीटा, गामा और डेल्टा के वैरिएंट के खिलाफ कारगर हैं।

भार्गव के अनुसार, डेल्टा प्लस वैरिएंट को भी आईसीएमआर-एनआईवी में पृथक और संवर्धित किया गया है और डेल्टा प्लस वैरिएंट पर टीके के प्रभाव की जांच के लिए प्रयोगशाला में टेस्ट किया गया है। उन्होंने कहा, "हमें ये परिणाम सात से 10 दिनों में मिलने चाहिए कि क्या टीका डेल्टा प्लस वैरिएंट के खिलाफ काम कर रहा है।" भार्गव ने यह भी कहा कि कोविड -19 की दूसरी लहर अभी खत्म नहीं हुई है और बताया कि तीसरी लहर को रोकना संभव है बशर्ते व्यक्ति और समाज कोविड के उचित व्यवहार का पालन करें। उन्होंने सुझाव दिया कि लोगों को सामूहिक रूप से इकट्ठा होने से बचना चाहिए, मास्क का सही और लगातार उपयोग करना चाहिए और किसी भी संकेतक हॉटस्पॉट की तुरंत पहचान करने की आवश्यकता है।(आईएएनएस-SHM)

(धर्म, संस्कृति, देश और दुनिया से जुड़े महत्वपूर्ण खबरों के लिए न्यूज़ग्राम हिंदी को फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर फॉलो करें।)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com