दुर्घटनाग्रस्त एयर इंडिया एक्सप्रेस को बीमा कंपनी से मिलेंगे 5 करोड़ डॉलर

दुर्घटनाग्रस्त एयर इंडिया एक्सप्रेस को बीमा कंपनी से मिलेंगे 5 करोड़ डॉलर
दुबई-कोझिकोड रनवे पर फिसली एयर इंडिया की फ्लाइट। (Image: Wikimedia Commons)

कोझिकोड हवाईअड्डे पर 7 अगस्त की शाम दुर्घटनाग्रस्त होने वाला एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान एयरलाइन का अपना था और यह किराए या लीज पर नहीं लिया गया था। एक एयरलाइन अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

एयर इंडिया एक्सप्रेस के विमानों कुल बेड़े में 25 बोइंग 737-800 एनजी विमान (दुर्घटना के बाद 24 विमान) हैं। इनमें से 17 विमान (दुर्घटना के बाद 16) एयरलाइन के अपने हैं और शेष आठ विमानों को पट्टे (लीज) पर लिया गया है।

बीमा उद्योग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि यदि यह एक स्वामित्व वाला विमान है तो एयरलाइन को पूरी दावा राशि का भुगतान किया जाएगा।

कोझिकोड विमान हादसे में क्षतिग्रस्त हुआ विमान का अगला हिस्सा। (Image: Wikimedia Commons)

दुबई-कोझिकोड उड़ान के कुल नुकसान के दावे को विमान के प्रमुख पुनबीर्माकर्ता द्वारा मंजूरी देने के साथ एयर इंडिया एक्सप्रेस को पांच करोड़ डॉलर की पूरी दावा धनराशि मिलेगी।

दुर्घटनाग्रस्त हुए एयर इंडिया एक्सप्रेस की प्रमुख पुनर्बीमा कंपनी ने कुल नुकसान के लिए किए गए दावे को मंजूरी दे दी है। उद्योग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी।

दरअसल, एक बीमा कंपनी को भी सुरक्षा की जरूरत पड़ती है। इसीलिए बीमा कंपनियां पुनर्बीमा खरीदती हैं। ये बीमा कंपनियां यह सुनिश्चित करने के लिए बीमा खरीदती हैं कि वे ग्राहकों के प्रति उनके दायित्वों को पूरा करने में सक्षम रहें। एक बीमा कंपनी द्वारा किसी अन्य बीमा कंपनी को अपने जोखिम को स्थानांतरित करने की इस प्रक्रिया को ही पुनर्बीमा कहा जाता है।

एयर इंडिया के विमानों का बीमा करने वाली चार बीमा कंपनियों में से एक के वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, "प्राथमिक बीमाकतार्ओं के संघ (कंसोर्टियम) की तरह ही पुनबीर्माकर्ताओं के एक संघ ने एयर इंडिया और उसके सहायक एयर इंडिया एक्सप्रेस के विमानों का बीमा किया है। प्रमुख पुनर्बीमाकर्ता एआईजी लंदन ने पूरे दावे (विमान के नुकसान का दावा) को मंजूरी दे दी है। अन्य पुनर्बीमाकर्ता संघ भी अपनी स्वीकृति देंगे।"

दुर्घटनाग्रस्त एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान। (Image: Wikimedia Commons)

चार सार्वजनिक क्षेत्र के बीमाकर्ताओं का एक संघ न्यू इंडिया एश्योरेंस, नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड, ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड और युनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड ने एयर इंडिया और इसकी सहायक कंपनियों के लगभग 170 विमानों के बेड़े का बीमा किया है, जिसमें एयर इंडिया एक्सप्रेस भी शामिल है।

एयरलाइन ने बीमा के तहत विमान में होने वाले नुकसान, तीसरे पक्ष और यात्रियों के लिए दायित्व को कवर करने वाली नीतियां ली हुई हैं। अधिकारी के अनुसार, प्रमुख पुनबीर्माकर्ता ने विमान के कुल नुकसान के लिए अंतरिम देयता/दावे का भुगतान करने का भी अनुमान लगाया है।

हादसे का शिकार हुए बोइंग विमान का बीमा पांच करोड़ डॉलर का है। एयर इंडिया एक्सप्रेस को विमान में हुए नुकसान के दावे की राशि का भुगतान किया जाएगा। अधिकारी ने कहा कि विमान के लिए सभी जोखिमों को बीमा में कवर किया गया है।

कोझिकोड हवाईअड्डे पर बचाव कार्य करते राहतकर्मी। (Image: Wikimedia Commons)

दावों की प्रक्रिया के एक हिस्से के रूप में बीमाकर्ता/पुनर्बीमाकर्ता दुर्घटना जांच रिपोर्ट, विमान रखरखाव लॉग बुक और पायलट लॉग बुक जैसे दस्तावेजों की भी मांग करेंगे। अधिकारी ने यह भी कहा कि विमान निमार्ता बोइंग भी दुर्घटना के कारणों को जानना चाहेगी।

एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान शुक्रवार की शाम केरल के कोझिकोड हवाईअड्डे पर रनवे से फिसल गया था और एक खाई में जा गिरा था। इस हादसे में विमान दो टुकड़ों में टूट गया, जिससे 18 लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए।

अब विमान को हुए कुल नुकसान को आंका जाएगा और उसी आधार पर विमानन कंपनी को बीमा कंपनी से धनराशि मिलेगी।

यात्री देयता या यात्रियों के कानूनी उत्तराधिकारियों को दिए जाने वाले मुआवजे के संबंध में स्थिति का जायजा लेने के लिए एक कानूनी टीम होगी। यात्री देयता सामान के मूल्य को भी कवर करती है। (IANS)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com