फेसबुक ने अपने कोविड अनाउमेंट टूल का भारत में किया विस्तार

फेसबुक ने कहा, ” हम प्रभावित क्षेत्र में स्थित लोगों को सूचनाएं भेजें| (Pixabay)
फेसबुक ने कहा, ” हम प्रभावित क्षेत्र में स्थित लोगों को सूचनाएं भेजें| (Pixabay)

सोशल मीडिया दिग्गज फेसबुक (Facebook) ने बुधवार को भारत में अपनी कोविड अनाउमेंट का विस्तार किया, जो राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य विभागों के लिए आवश्यक कोरोनावायरस से संबंधित अपडेट साझा करने के लिए एक टूल (उपकरण) है।

इस टूल को सबसे पहले अमेरिका में लॉन्च किया गया था। सोशल मीडिया (Social Media) प्लेटफॉर्म ने भारत में इसे लागू करने के लिए अपने-अपने अधिकार क्षेत्र में 33 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ भागीदारी की है। यह स्वास्थ्य विभागों को अपने स्थानीय समुदायों या राज्य के अधिकार क्षेत्र में लोगों को समय पर, विश्वसनीय कोविड और टीके की जानकारी देने की क्षमता प्रदान करेगा। इस प्रकार से राज्य यह अलर्ट राज्यव्यापी या फिर राज्य के विशिष्ट शहरों में भी जारी कर सकेंगे।

कंपनी ने एक बयान में कहा, " यह कोरोनावायरस (Corona Virus) सार्वजनिक स्वास्थ्य संकट के दौरान लोगों को सुरक्षित और सूचित रखने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों के काम का समर्थन करने के हमारे चल रहे प्रयासों का हिस्सा है।"

बयान में कहा गया है, " जब फेसबुक पर राज्य के स्वास्थ्य विभाग के पेज को कोविड घोषणाओं के रूप में चिह्न्ति किया जाता है, तो हम उनकी पहुंच को बढ़ाते हैं, ताकि समुदाय के लोग उन्हें देख सकें।"

सोशल मीडिया (Social Media) प्लेटफॉर्म ने भारत में इसे लागू करने के लिए केंद्र शासित प्रदेशों के साथ भागीदारी की है। (सांकेतिक चित्र, Pixabay)

फेसबुक ने कहा, " हम प्रभावित क्षेत्र में स्थित लोगों को सूचनाएं भेजेंगे और उस जानकारी को कोविड सूचना केंद्र पर भी दिखाएंगे। इससे लोगों को कोविड या कोविड टीकाकरण प्रयासों से संबंधित महत्वपूर्ण और तत्काल अपडेट वितरित करने में मदद मिलेगी।"

इस टूल का इस्तेमाल मौजूदा कोविड संसाधनों, जैसे हेल्पलाइन के बारे में जानकारी संप्रेषित करने के लिए किया जा सकता है। इसके साथ ही विभिन्न जिलों में स्थित अस्पतालों में बिस्तर की उपलब्धता पर ताजा अपडेट, गहन देखभाल इकाई (आईसीयू) बिस्तर के बारे में जानकारी और ऑक्सीजन सपोर्ट वाले बिस्तर के बारे में जानकारी प्राप्त करने में भी इसका खास फायदा उठाया जा सकता है।

इसके अलावा मौजूदा कोरोनावायरस बीमारी से संबंधित नियमों और विनियमों में परिवर्तन, जो समुदायों और दिन-प्रतिदिन की क्रियाओं को प्रभावित कर सकते हैं, जैसे कि लॉकडाउन, रात्रि कर्फ्यू और उपचार प्रोटोकॉल में बदलाव के बारे में भी यह लोगों तक जानकारी मुहैया कराने में सक्षम है।

यह लोगों को टीके (Vaccine) की पात्रता और पंजीकरण, वैक्सीन प्राप्त करने के लॉजिस्टिक्स के बारे में भी जागरूक करेगा और संक्रामक रोग के प्रसार को रोकने के लिए कोविड के उचित व्यवहार और निवारक व्यवहार संबंधी स्वास्थ्य उपायों के बारे में सटीक जानकारी प्रदान करेगा। (आईएएनएस-SM)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com