चक्रवातों के नाम कैसे रखे जाते हैं?

चक्रवातों के नाम कैसे रखे जाते हैं?
2021 का यह पहला चक्रवाती तूफान था जिसका नाम म्यांमार की तरफ से ताऊते रखा गया। (Wikimedia Commons)

मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया था कि, इस साल का पहला तूफान "ताऊते" (Taute) 16 मई तक पूर्वी मध्य अरब सागर में जोर पकड़ सकता है। हालांकि कुछ न्यूमेरिकल मॉडल के चलते ये तूफान गुजरात और दक्षिण कच्छ के क्षेत्रों में भी देखने को मिल सकता है| जिसके बाद हमने देखा गुजरात (Gujrat) में चक्रवाती तूफान ताऊते से कई लोगों की जान चली गई। कई घरों – सड़कों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा। हर साल कोई न कोई तूफान मई – जून के महीने में देखने को मिलता है। 2021 का यह पहला चक्रवाती तूफान था जिसका नाम म्यांमार की तरफ से ताऊते रखा गया। जिसका अर्थ होता है, अत्यधिक आवाज करने वाली छिपकली। 

चक्रवाती (Cyclones) तूफान ताऊते के बाद मौसम विभाग ने चक्रवाती तूफान "यास" के बारे में अलर्ट जारी किया। यह तूफान पूर्वी मध्य बंगाल की खाड़ी, ओडिशा के उत्तरी क्षेत्र, बांग्लादेश और अब यह बिहार के कुछ क्षेत्रों में देखने को मिल रहा है। अभी पूरा ओडिशा प्रशासन और पश्चिम बंगाल (West Bengal) चक्रवाती तूफान यास से जूझ रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि, तूफान यास के दौरान करीब 300 बच्चों ने जन्म लिया। उनमें से कईयों का नाम तूफान के नाम पर भी रखा गया। इस तूफान के नाम की बात करें तो इस चक्रवाती तूफान का नाम "यास" ओमान (Oman) का दिया हुआ है। जो एक फारसी शब्द है। अंग्रेजी में इसका अर्थ जैस्मीन होता है। 

चक्रवात होता क्या है?

समुद्री इलाकों में मौसम की गर्मी से हवा गर्म होकर अत्यंत कम वायुदाब का क्षेत्र बनती है और जब कम दबाव वाले क्षेत्र के आसपास यह गर्म हवा तेजी से गोल – गोल घूमने लगती है, तो उसे तूफान या चक्रवात बोलते हैं। यह चक्रवाती तूफान जमीन पर भी आते हैं। समुद्र में भी आते हैं। "चक्रवात" यह शब्द ग्रीक के एक शब्द "साइक्लोस" से लिया गया है। जिसका अर्थ होता है, सांप का कुंडलित होना। 

"चक्रवात" यह शब्द ग्रीक के एक शब्द "साइक्लोस" से लिया गया है। जिसका अर्थ होता है, सांप का कुंडलित होना। (Wikimedia Commons)

चक्रवातों का नाम किस प्रकार रखा जाता है?

चक्रवातों का नामकरण विश्व मौसम विभाग संगठन (WMO) और संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक आयोग (ESCAP) द्वारा किया जाता है। इस पैनल में कुछ 13 देश शामिल हैं। भारत, बांग्लादेश, म्यांमार, पाकिस्तान, मालदीव, ओमान, श्रीलंका, थाईलैंड, ईरान, कतर, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और यमन।

उपयुक्त देशों द्वारा भेजे गए सुझाव के बाद चक्रवातों के नामों को WMO/ESCAP पैनल सूची द्वारा अंतिम रूप दिया जाता है| 2004 में इस पैनल में आठ देश शामिल थे और उस समय इन देशों ने 64 नामों की सूची को अंतिम रूप दिया गया था। जिसमें प्रत्येक देश से आठ नाम थे। पिछले साल मई में आया तूफान "अम्फान" उस सूची का अंतिम नाम था। अप्रैल 2020 में IMD ने 169 चक्रवातों की सूची जारी की थी। जिसमें में 2020 में अरब सागर में उत्पन्न हुआ तूफान "निसारगा" ताजा सूची से पहला नाम था। जिसका नाम बंगाल ने रखा था। 

चक्रवाती तूफान के नाम इसलिए रखे जाते हैं ताकि लोग उन्हें आसानी से पहचान सके। लेकिन नाम रखने के लिए भी कई दिशा निर्देश जारी किए जाते हैं। जैसे:

  • प्रस्तावित नाम, राजनीतिक हस्तियों, धार्मिक संस्कृतियों और लिंग पर आधारित नहीं होना चाहिए। 
  • नाम छोटा, बोलने में आसान होना चाहिए और किसी भी समूह की भावनाओं को आहत नहीं करना चाहिए। 
  • एक बार प्रयोग किए जा चुके नामों को, दुबारा दोहराया नहीं जाएगा।

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com