झारखंड : ब्रिटेन में पढ़ने के लिए राज्य छात्रवृत्ति मिली 6 आदिवासी छात्रों को

झारखंड : ब्रिटेन में पढ़ने के लिए राज्य छात्रवृत्ति मिली 6 आदिवासी छात्रों को
ब्रिटेन में पढ़ने के लिए राज्य छात्रवृत्ति मिली 6 आदिवासी छात्रों को।(Unsplash)

भारत के झारखंड राज्य में कुछ छात्रों का भविष्य उज्व्वल होने जा रहा है । क्योंकि झारखंड राज्य में छह छात्रों को राज्य के छात्रवृत्ति कार्यक्रम के तहत विदेश में मुफ्त उच्च शिक्षा मिलने जा रही है। राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और कल्याण मंत्री चंपई सोरेन राजधानी रांची में गुरुवार कोआयोजित होने वाले एक कार्यक्रम में छात्रवृत्ति योजना मारंग गोमके जयपाल सिंह मुंडा के तहत लाभार्थियों छात्रोंऔर उनके अभिभावकों को सम्मानित करने जा रहे है।

आप को बता दे की यह योजना राज्य सरकार द्वारा यूके और आयरलैंड में उच्च अध्ययन करने हेतु अनुसूचित जनजातियों के छात्रों के लिए शुरू की गई है। छात्रवृत्ति के पुरस्कार प्राप्त करने वाले छात्रों को विविध खर्चो के साथ-साथ ट्यूशन फीस भी पूरी तरह मिलेगी । इस योजना के अनुसार झारखंड राज्य में हर साल अनुसूचित जनजाति से 10 छात्रों का चयन किया जाएगा।

सितंबर में ब्रिटेन के 5 विभिन्न विश्वविद्यालयों में अपना अध्ययन कार्यक्रम शुरू करंगे 6 छात्र जिनको को चुना गया हैं।

अगर बात करे चयनित छात्रों की सूचि के बारे में तो इसमें से हरक्यूलिस सिंह मुंडा जो कि "यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन " के "स्कूल ऑफ ओरिएंटल एंड अफ्रीकन स्टडीज" से एमए करने जा रहे हैं। "मुर्मू यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ लंदन" से छात्र अजितेश आर्किटेक्चर में एमए करने जा रहे हैं। और वंहीआकांक्षा मेरी "लॉफबोरो विश्वविद्यालय" में जलवायु परिवर्तन, विज्ञान और प्रबंधन में एमएससी करेंगी, जबकि दिनेश भगत ससेक्स विश्वविद्यालय में जलवायु परिवर्तन, विकास और नीति में एमएससी करेंगे।

विश्वविद्यालय में पढ़ते हुए छात्र (pixabay)

"वारविक विश्वविद्यालय" में अंजना प्रतिमा डुंगडुंग को एमएससी के लिए चुना गया है और प्रिया मुर्मू "लॉफबोरो विश्वविद्यालय " में क्रिएटिव राइटिंग और राइटिंग इंडस्ट्रीज में एमए करेंगी।

इन सब में छात्र हरक्यूलिस सिंह ने कहा, "मैं जयपाल सिंह मुंडा ओवरसीज स्कॉलरशिप को आदिवासी बुद्धिजीवियों और विद्वानों के लिए छात्रों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आगे लाने में सक्षम बनाने के एक साधन के रूप में देखता हूं।"

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सभी छात्रों को बधाई दी और यह भी कहा कि उच्च शिक्षा के लिए विदेश जाने वाले सभी छात्रों को मेरी शुभकामनाएं। मैं सभी को उनके उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं।" कहा, "हमारी सरकार आदिवासी छात्रों के लिए उच्च शिक्षा की सुविधा सुनिश्चित करने के प्रति प्रतिबद्ध है। यही कारण है कि इस छात्रवृत्ति योजना के साथ ऐसा अद्वितीय अवसर लाने के लिए काम किया जा रहा है।(आईएएनएस-PS)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com