रुपये की गिरावट रोकने के लिए बड़े पैमाने पर RBI का हस्तक्षेप

RBI ने रुपये के मूल्य में तेजी से हो रही गिरावट को रोका। [Wikimedia Commons]
RBI ने रुपये के मूल्य में तेजी से हो रही गिरावट को रोका। [Wikimedia Commons]

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने हाल ही में करीब 4 से 5 अरब अमेरिकी डॉलर की बिक्री के जरिए रुपये के मूल्य में तेज गिरावट को रोक दिया है। विश्लेषकों की मानें तो केंद्रीय बैंक का यह हस्तक्षेप काफी हद तक कारगर रहा है। रुपये को स्थिर कक्षा में रखने के लिए RBI को बिचौलियों के माध्यम से अमेरिकी डॉलर बेचने या खरीदने के लिए बाजारों में प्रवेश करने के लिए जाना जाता है।

हालांकि सेकेंडरी मार्केट में FII की लगातार बिकवाली से गिरावट फिर से शुरू होने की आशंका भी जताई जा रही है।

हाल ही में, यूएस फेड के टेपरिंग उपायों पर बढ़ती सतर्कता के साथ-साथ कोविड-19 के ओमिक्रॉन (Omicron) स्वरूप के डर ने निवेशकों की भावनाओं को प्रभावित किया।

अमेरिका में सख्त तरलता नियंत्रण ही मुख्य कारण है, जिसकी वजह से वैश्विक निवेशक भारत जैसे उभरते बाजारों से पैसा निकालने के लिए प्रेरित होते हैं।

बुधवार को रुपया 75.55 पर ग्रीनबैक पर बंद हुआ था।

वहीं पिछले हफ्ते रुपया साप्ताहिक आधार पर काफी कमजोर होकर 76.09 डॉलर पर बंद हुआ था।

भारतीय रुपया इस सप्ताह 20 महीने के अपने सबसे निचले स्तर पर पहुंचने के बाद स्थिर हुआ है।

एडलवाइस सिक्योरिटीज में फॉरेक्स और रेट्स के प्रमुख सजल गुप्ता ने कहा, "ऐसा लगता है कि रुपये में हालिया गिरावट ओमिक्रॉन स्वरूप के कारण अति प्रतिक्रिया के रूप में शुरू हुई है।"

हाल ही में, RBI द्वारा रिवर्स रेपो रेट बढ़ाए जाने से परहेज करने के बाद रुपया दबाव में रहा है। [Twitter]

उन्होंने कहा, "पिछले सप्ताह जब रुपया 76.31 के निचले स्तर पर पहुंच गया था, RBI ने बाजार में हस्तक्षेप किया था। हालांकि, RBI को आगे की कार्रवाई की उम्मीद नहीं है, क्योंकि प्रवाह की तस्वीर मध्यम अवधि में काफी अनुकूल लगती है।"

हाल ही में, RBI को रिवर्स रेपो रेट बढ़ाए जाने से परहेज करते देखा गया। इसके साथ ही फेडरल रिजर्व ने भी अपनी टेपिंग की गति को बढ़ाने का फैसला ले लिया। इन दो कारणों से भी रुपया दबाव में रहा है।

घरेलू मोर्चे पर, FII हाल के दिनों में शुद्ध विक्रेता रहा है और मुद्रा की सीमित कमजोरी से यह साफ पता चलता है कि RBI ने अस्थिरता को रोकने के लिए सक्रिय रूप से हस्तक्षेप किया है।

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के फॉरेक्स एंड बुलियन एनालिस्ट गौरांग सोमैया ने कहा, "RBI का संदिग्ध हस्तक्षेप 4-5 अरब डॉलर का हो सकता है और बाजार सहभागियों को उम्मीद है कि मौजूदा बाजार में उतार-चढ़ाव तब तक जारी रह सकता है, जब तक कि ओमिक्रॉन वेरिएंट का डर कम न हो जाए।"

उन्होंने कहा, "RBI द्वारा जारी किए गए नवीनतम आंकड़ों से पता चलता है कि वर्तमान रिजर्व राशि 635 अरब डॉलर से अधिक है। "

HDFC सिक्योरिटीज के शोध विश्लेषक दिलीप परमार के अनुसार, "RBI ने FOMC की बैठक के बाद तरलता और मुद्रास्फीति के पहलू को देखना शुरू कर दिया और सप्ताह की शुरुआत से उन्होंने आयातित मुद्रास्फीति को रोकने और शुरू करने के लिए डॉलर बेचकर भारी हस्तक्षेप किया हो, ऐसा हो सकता है।"

उन्होंने कहा, "अगले कुछ दिनों में हम नए वैश्विक संकेतों के अभाव में रुपये में 75.10 से 75.70 के बीच उतार-चढ़ाव देख सकते हैं और क्रिसमस की छुट्टी से पहले विदेशी संस्थानों की बिक्रीदर कम हो सकती है।" (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com